Look Inside
Hindi Prayog Kosh
Hindi Prayog Kosh
Hindi Prayog Kosh
Hindi Prayog Kosh

Hindi Prayog Kosh

Regular price ₹ 372
Sale price ₹ 372 Regular price ₹ 400
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hindi Prayog Kosh

Hindi Prayog Kosh

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भाषा शब्दों से बनती है। शब्दों के बारे में जानकारी व्याकरण देता है और उनके अर्थों का विवरण कोश प्रस्तुत करता है। इस प्रकार भाषा को जानने-समझने के लिए व्याकरण और कोश दो आधार माने जाते हैं। लेकिन भाषा का एक तीसरा महत्त्वपूर्ण आधार भी है—प्रयोग। भाषा के स्वाभाविक विकास की प्रक्रिया में नए-नए सन्‍दर्भों के अनुरूप नए-नए प्रयोग चलते रहते हैं। प्रयोगों से भाषा की प्रभावकता और क्षमता में वृद्धि होती है। इनकी महत्ता इस तथ्य में निहित है कि बहुधा ये व्याकरण और कोश को पीछे छोड़ जाते हैं।
प्रयोगों के फलस्वरूप ही नए-नए पदबन्‍ध और मुहावरे अस्तित्व में आते हैं। लेखक की लेखनी और वक्ता की वाणी को उनसे ऊर्जा मिलती है। उनके अर्थ अक्सर आप सामान्य कोशों में ढूँढ़ नहीं पाते, व्याकरण से वे सिद्ध नहीं होते, फिर भी वे मान्य और अपरिहार्य होते हैं। एक प्रामाणिक प्रयोग-कोश की अनिवार्यता ऐसी ही स्थिति में सामने आती है।
वाक्य में कोई शब्द जिस जगह या जिन शब्दों के मध्य रखा जाता है, उससे कोई न कोई प्रयोजन सिद्ध होता है। किसी न किसी प्रकार की प्रयोजन-सिद्धि के लिए ही शब्दों का प्रयोग किया जाता है।
यदि कोई शब्द अपने अर्थ-गाम्‍भीर्य या अर्थ-विस्तार से हमें प्रभावित करता है तो अपने विलक्षण प्रयोगों से अभिभूत और चमत्कृत भी करता है।
शब्दों से अन्‍तरंगता उनके प्रयोगों के माध्यम से ही स्थापित होती है। हिन्‍दी अपने शब्दों के प्रयोग के विचार से कितनी अधिक समृद्ध है, यह तथ्य इस कोश की हर प्रविष्टि से चरितार्थ होता है। Bhasha shabdon se banti hai. Shabdon ke bare mein jankari vyakran deta hai aur unke arthon ka vivran kosh prastut karta hai. Is prkar bhasha ko janne-samajhne ke liye vyakran aur kosh do aadhar mane jate hain. Lekin bhasha ka ek tisra mahattvpurn aadhar bhi hai—pryog. Bhasha ke svabhavik vikas ki prakriya mein ne-ne san‍darbhon ke anurup ne-ne pryog chalte rahte hain. Pryogon se bhasha ki prbhavakta aur kshamta mein vriddhi hoti hai. Inki mahatta is tathya mein nihit hai ki bahudha ye vyakran aur kosh ko pichhe chhod jate hain. Pryogon ke phalasvrup hi ne-ne padban‍dha aur muhavre astitv mein aate hain. Lekhak ki lekhni aur vakta ki vani ko unse uurja milti hai. Unke arth aksar aap samanya koshon mein dhundh nahin pate, vyakran se ve siddh nahin hote, phir bhi ve manya aur apariharya hote hain. Ek pramanik pryog-kosh ki anivaryta aisi hi sthiti mein samne aati hai.
Vakya mein koi shabd jis jagah ya jin shabdon ke madhya rakha jata hai, usse koi na koi pryojan siddh hota hai. Kisi na kisi prkar ki pryojan-siddhi ke liye hi shabdon ka pryog kiya jata hai.
Yadi koi shabd apne arth-gam‍bhirya ya arth-vistar se hamein prbhavit karta hai to apne vilakshan pryogon se abhibhut aur chamatkrit bhi karta hai.
Shabdon se an‍tarangta unke pryogon ke madhyam se hi sthapit hoti hai. Hin‍di apne shabdon ke pryog ke vichar se kitni adhik samriddh hai, ye tathya is kosh ki har prvishti se charitarth hota hai.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products