Look Inside
Hindi Patrakarita Samvad Aur Vimarsh
Hindi Patrakarita Samvad Aur Vimarsh
Hindi Patrakarita Samvad Aur Vimarsh
Hindi Patrakarita Samvad Aur Vimarsh

Hindi Patrakarita Samvad Aur Vimarsh

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hindi Patrakarita Samvad Aur Vimarsh

Hindi Patrakarita Samvad Aur Vimarsh

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कैलाश नाथ पाण्डेय की यह पुस्तक हिन्दी-पत्रकारिता के विविध आयामों—विशेषकर उसके इतिहास और विकास को जिस तरह विषय की समग्रता और विस्तार से प्रस्तुत करती है; वैसा कहीं अन्यत्र देखने को नहीं मिलता। उन्होंने पत्रकारिता से जुड़े हर तथ्य और जानकारी को एक पर्यटनशील अन्वेषक और अध्येता की तरह इस प्रकार संयोजित किया है कि यह पुस्तक एक साथ ही पत्रकारिता का विश्व-कोश, शास्त्र, विज्ञान और इतिहास-ग्रन्थ बन गई है।
अपनी इस पुस्तक में लेखक ने न सिर्फ़ पत्रकारिता से सम्बन्धित तथ्यों-सत्यों, सूचनाओं और ऐतिहासिक स्मृतियों को संकलित किया है, बल्कि अपनी सरल, काव्यात्मक और सम्प्रेषणीय शैली में पत्रकारिता से जुड़े गरिष्ठ, क्लिष्ट और दुरूह ज्ञान को अत्यन्त बोधगम्य, सुपाच्य और सर्वसुलभ किया है। पाँच पर्वों एवं अनेक भागों में विभाजित यह पुस्तक पत्रकारिता के विविध रूप-प्रकारों से आरम्भ होकर उसके अस्तित्व तथा सृजन के सभी स्तरों और चरणों की विस्तृत पड़ताल करती है। हिन्दी पत्रकारिता के वर्तमान और इतिहास से लेकर पत्रकारिता के वैश्विक परिदृश्य तक; मुद्रित पत्रकारिता से लेकर मुद्रण-शिल्प-विज्ञान के तकनीकी पक्षों—अक्षर-संयोजन के शुद्धीकरण (प्रूफ़ रीडिंग), पृष्ठ-सज्जा तक; समाचार-लेखन और रचना-व्यवहार के सभी पहलुओं जैसे—प्रेषण, प्रस्तुति, वितरण और प्रबन्धन तक को लेखक ने पूरी सूक्ष्मता, सजीवता और प्रामाणिकता के साथ समेटा है।
समाचार-पत्र लेखन से सम्बन्धित पत्रकारिता की सभी विधाओं पर प्रकाश डालते हुए प्रेस-आयोग, भारतीय प्रेस-परिषद्, प्रसार भारती जैसे संगठनात्मक एवं संवैधानिक निकायों से लेकर नए-पुराने मीडिया-क़ानूनों तथा संवैधानिक प्रावधानों तक इस पुस्तक का फलक इतना अधिक समाहारी और विस्तृत है कि इसे पत्रकारिता सम्बन्धी ज्ञान का विश्व-कोश ही कहना उचित होगा। यह पुस्तक पत्रकारिता के जिज्ञासु, अध्येता एवं विद्यार्थी सभी के लिए एकल समाधान होने का दावा कर सकती है।
—राम प्रकाश कुशवाह Kailash nath pandey ki ye pustak hindi-patrkarita ke vividh aayamon—visheshkar uske itihas aur vikas ko jis tarah vishay ki samagrta aur vistar se prastut karti hai; vaisa kahin anyatr dekhne ko nahin milta. Unhonne patrkarita se jude har tathya aur jankari ko ek paryatanshil anveshak aur adhyeta ki tarah is prkar sanyojit kiya hai ki ye pustak ek saath hi patrkarita ka vishv-kosh, shastr, vigyan aur itihas-granth ban gai hai. Apni is pustak mein lekhak ne na sirf patrkarita se sambandhit tathyon-satyon, suchnaon aur aitihasik smritiyon ko sanklit kiya hai, balki apni saral, kavyatmak aur sampreshniy shaili mein patrkarita se jude garishth, klisht aur duruh gyan ko atyant bodhgamya, supachya aur sarvasulabh kiya hai. Panch parvon evan anek bhagon mein vibhajit ye pustak patrkarita ke vividh rup-prkaron se aarambh hokar uske astitv tatha srijan ke sabhi stron aur charnon ki vistrit padtal karti hai. Hindi patrkarita ke vartman aur itihas se lekar patrkarita ke vaishvik paridrishya tak; mudrit patrkarita se lekar mudran-shilp-vigyan ke takniki pakshon—akshar-sanyojan ke shuddhikran (pruf riding), prishth-sajja tak; samachar-lekhan aur rachna-vyavhar ke sabhi pahaluon jaise—preshan, prastuti, vitran aur prbandhan tak ko lekhak ne puri sukshmta, sajivta aur pramanikta ke saath sameta hai.
Samachar-patr lekhan se sambandhit patrkarita ki sabhi vidhaon par prkash dalte hue pres-ayog, bhartiy pres-parishad, prsar bharti jaise sangathnatmak evan sanvaidhanik nikayon se lekar ne-purane midiya-qanunon tatha sanvaidhanik pravdhanon tak is pustak ka phalak itna adhik samahari aur vistrit hai ki ise patrkarita sambandhi gyan ka vishv-kosh hi kahna uchit hoga. Ye pustak patrkarita ke jigyasu, adhyeta evan vidyarthi sabhi ke liye ekal samadhan hone ka dava kar sakti hai.
—ram prkash kushvah

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products