BackBack
-11%

Hindi Ki Jatiya Sanskriti Aur Aupniveshikta

Rs. 699 Rs. 622

हिन्दी की जातीय संस्कृति और औपनिवेशिकता एक ऐसा विषय है जिस पर लगातार कई दृष्टियों से विचार करने की ज़रूरत है, क्योंकि ऐसे वैचारिक अनुसन्धान से ही हम उन कई प्रश्नों के उत्तर पा सकते हैं जो हमें बेचैन किए रहते हैं। हिन्दी में बार-बार व्याप रही विस्मृति, जातीय स्मृति... Read More

Description

हिन्दी की जातीय संस्कृति और औपनिवेशिकता एक ऐसा विषय है जिस पर लगातार कई दृष्टियों से विचार करने की ज़रूरत है, क्योंकि ऐसे वैचारिक अनुसन्धान से ही हम उन कई प्रश्नों के उत्तर पा सकते हैं जो हमें बेचैन किए रहते हैं। हिन्दी में बार-बार व्याप रही विस्मृति, जातीय स्मृति की अनुपस्थिति आदि ऐसे कई पक्ष हैं जो आलोचना के ध्यान में बराबर रहने चाहिए। डॉ. राजकुमार की यह नई पुस्तक ऐसे आलोचनात्मक उद्यम की ही उपज है और हम उसे सहर्ष प्रकाशित कर रहे हैं। Hindi ki jatiy sanskriti aur aupaniveshikta ek aisa vishay hai jis par lagatar kai drishtiyon se vichar karne ki zarurat hai, kyonki aise vaicharik anusandhan se hi hum un kai prashnon ke uttar pa sakte hain jo hamein bechain kiye rahte hain. Hindi mein bar-bar vyap rahi vismriti, jatiy smriti ki anupasthiti aadi aise kai paksh hain jo aalochna ke dhyan mein barabar rahne chahiye. Dau. Rajakumar ki ye nai pustak aise aalochnatmak udyam ki hi upaj hai aur hum use saharsh prkashit kar rahe hain.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year