BackBack
-11%

Hindi Ka Sanganakiya Vyakaran

Rs. 1,195 Rs. 1,064

भाषा की आन्‍तरिक व्यवस्था अत्यन्‍त जटिल है। इसके दो कारण हैं—भाषा व्यवस्था का विभिन्न स्तरों पर स्तरित होते हुए भी सभी स्तरों का एक दूसरे से सम्‍बद्ध होना तथा मानव मस्तिष्क द्वारा किसी भी प्रकार से अभिव्यक्ति का निर्माण करना और उसे समझ लेना। अत: भाषा में प्राप्त होनेवाली विभिन्न... Read More

Description

भाषा की आन्‍तरिक व्यवस्था अत्यन्‍त जटिल है। इसके दो कारण हैं—भाषा व्यवस्था का विभिन्न स्तरों पर स्तरित होते हुए भी सभी स्तरों का एक दूसरे से सम्‍बद्ध होना तथा मानव मस्तिष्क द्वारा किसी भी प्रकार से अभिव्यक्ति का निर्माण करना और उसे समझ लेना। अत: भाषा में प्राप्त होनेवाली विभिन्न प्रकार की जटिलताओं के कारण कम्‍प्यूटर पर संसाधन की दृष्टि से किसी पुस्तक का लेखन अत्यन्‍त चुनौतीपूर्ण कार्य रहा है। फिर भी हिन्दी को लेकर यह आरम्भिक प्रयास किया गया है। यह पुस्तक हिन्‍दी के पूर्णत: मशीनी संसाधन का दावा करते हुए प्रस्तुत नहीं की जा रही है, बल्कि यह उस दिशा में एक क़दम मात्र है। इसके माध्यम से प्राकृतिक भाषा संसाधन (NLP) के क्षेत्र में कार्य कर रहे लोगों को हिन्दी का मशीन में संसाधन करने को एक दृष्टि (Sight ) प्राप्त हो सके, यही लेखक का उद्देश्य है। वैसे हिन्दी के मशीनी संसाधन को लेकर 1990 के दशक से ही कार्य हो रहे हैं, और पर्याप्त मात्रा में यह कार्य हो भी चुका है, किन्‍तु आम विद्यार्थियों, शोधार्थियों और इस क्षेत्र में रुचि रखनेवाले विद्वानों के लिए उसकी तकनीकी उपलब्ध नहीं है, जिससे कोई नया व्यक्ति इस दिशा में कार्य कर सके। हिन्‍दी माध्यम से तो ऐसी सामग्री का पूर्णत: अभाव है। विभिन्न प्रकार के शोधों द्वारा यह प्रमाणित हो चुका है कि कोई भी व्यक्ति अपनी मातृभाषा में मौलिक कार्य अधिक दक्षतापूर्वक कर सकता है। इसलिए हिन्‍दी के मशीनी संसाधन की सामग्री किसी भी अन्य भाषा के बजाय हिन्‍दी में ही होनी चहिए। इस पुस्तक को प्रस्तुत करने का एक मुख्य उद्देश्य इस कथन की पूर्ति करते हुए हिन्दी को इस दिशा में यथासम्‍भव आत्मनिर्भर बनाना भी है।
—भूमिका से Bhasha ki aan‍tarik vyvastha atyan‍ta jatil hai. Iske do karan hain—bhasha vyvastha ka vibhinn stron par strit hote hue bhi sabhi stron ka ek dusre se sam‍baddh hona tatha manav mastishk dvara kisi bhi prkar se abhivyakti ka nirman karna aur use samajh lena. At: bhasha mein prapt honevali vibhinn prkar ki jatiltaon ke karan kam‍pyutar par sansadhan ki drishti se kisi pustak ka lekhan atyan‍ta chunautipurn karya raha hai. Phir bhi hindi ko lekar ye aarambhik pryas kiya gaya hai. Ye pustak hin‍di ke purnat: mashini sansadhan ka dava karte hue prastut nahin ki ja rahi hai, balki ye us disha mein ek qadam matr hai. Iske madhyam se prakritik bhasha sansadhan (nlp) ke kshetr mein karya kar rahe logon ko hindi ka mashin mein sansadhan karne ko ek drishti (sight ) prapt ho sake, yahi lekhak ka uddeshya hai. Vaise hindi ke mashini sansadhan ko lekar 1990 ke dashak se hi karya ho rahe hain, aur paryapt matra mein ye karya ho bhi chuka hai, kin‍tu aam vidyarthiyon, shodharthiyon aur is kshetr mein ruchi rakhnevale vidvanon ke liye uski takniki uplabdh nahin hai, jisse koi naya vyakti is disha mein karya kar sake. Hin‍di madhyam se to aisi samagri ka purnat: abhav hai. Vibhinn prkar ke shodhon dvara ye prmanit ho chuka hai ki koi bhi vyakti apni matribhasha mein maulik karya adhik dakshtapurvak kar sakta hai. Isaliye hin‍di ke mashini sansadhan ki samagri kisi bhi anya bhasha ke bajay hin‍di mein hi honi chahiye. Is pustak ko prastut karne ka ek mukhya uddeshya is kathan ki purti karte hue hindi ko is disha mein yathasam‍bhav aatmnirbhar banana bhi hai. —bhumika se