Look Inside
Hindi Gadya Vinyas Aur Vikas Prakriya
Hindi Gadya Vinyas Aur Vikas Prakriya
Hindi Gadya Vinyas Aur Vikas Prakriya
Hindi Gadya Vinyas Aur Vikas Prakriya

Hindi Gadya Vinyas Aur Vikas Prakriya

Regular price Rs. 372
Sale price Rs. 372 Regular price Rs. 400
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hindi Gadya Vinyas Aur Vikas Prakriya

Hindi Gadya Vinyas Aur Vikas Prakriya

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

वर्तमान युग गद्य है, अच्छे और बुरे दोनों अर्थों में। इस दृष्टि से गद्य की प्रकृति और उसके विकास को समझने का क्रम आधुनिक साहित्य की समग्र परम्परा को देखने-परखने की प्रक्रिया तो है ही, एक व्यापक स्तर पर वह समूची हिन्दी जाति की मानसिकता को समझने का यत्न भी है। आलोचक रामस्वरूप चतुर्वेदी की अभिनव कृति ‘हिन्दी गद्य : विन्यास और विकास’ यही काम करती है। गद्य विषयक तथ्य-सामग्री यहाँ जितनी विश्वसनीय है, उतना ही गद्य का विवेचन अपने में स्वयं गद्य का मानक रूप बन सका है। इस द्विस्तरीय उपलब्धि का अनुमान पुस्तक के किसी भी अंश को पढ़ने पर आसानी से हो सकता है। फिर गद्य के प्रसार और विस्तार में काव्य-रूपों का उदय कैसे होता है, यह मौलिक विवेचन प्रस्तुत अध्ययन की निजी विशेषताओं में से एक है। ग्रन्थ का विवेचन-क्रम तीन खंडों में चलता है। प्रथम खंड में गद्य की सामान्य प्रकृति का विश्लेषण है, द्वितीय में हिन्दी गद्य के एक हज़ार वर्षों का विकास-क्रम सोदाहरण विस्तार में अंकित हुआ है, और तीसरे तथा अन्तिम खंड में हिन्दी के प्रमुख गद्यकारों का सम्रग्र तथा स्वतंत्र रूप से विवेचन है। अन्त में कई परिशिष्टों के अन्तर्गत गद्यविषयक कुछ सामान्यत: दुर्लभ सामग्री सँजोई गई है, जो हर स्तर के अध्येता के लिए रुचिकर और उपयोगी दोनों होगी। यों गद्य आज जैसे समस्त जीवन में परिव्याप्त है उसके अनुकूल ही इस अध्ययन को परिपूर्ण बनाने का आलोचकीय यत्न है विविध वर्ग के पाठकों की तुष्टि कर सकने के लिए। Vartman yug gadya hai, achchhe aur bure donon arthon mein. Is drishti se gadya ki prkriti aur uske vikas ko samajhne ka kram aadhunik sahitya ki samagr parampra ko dekhne-parakhne ki prakriya to hai hi, ek vyapak star par vah samuchi hindi jati ki manasikta ko samajhne ka yatn bhi hai. Aalochak ramasvrup chaturvedi ki abhinav kriti ‘hindi gadya : vinyas aur vikas’ yahi kaam karti hai. Gadya vishyak tathya-samagri yahan jitni vishvasniy hai, utna hi gadya ka vivechan apne mein svayan gadya ka manak rup ban saka hai. Is dvistriy uplabdhi ka anuman pustak ke kisi bhi ansh ko padhne par aasani se ho sakta hai. Phir gadya ke prsar aur vistar mein kavya-rupon ka uday kaise hota hai, ye maulik vivechan prastut adhyyan ki niji visheshtaon mein se ek hai. Granth ka vivechan-kram tin khandon mein chalta hai. Prtham khand mein gadya ki samanya prkriti ka vishleshan hai, dvitiy mein hindi gadya ke ek hazar varshon ka vikas-kram sodahran vistar mein ankit hua hai, aur tisre tatha antim khand mein hindi ke prmukh gadykaron ka samragr tatha svtantr rup se vivechan hai. Ant mein kai parishishton ke antargat gadyavishyak kuchh samanyat: durlabh samagri sanjoi gai hai, jo har star ke adhyeta ke liye ruchikar aur upyogi donon hogi. Yon gadya aaj jaise samast jivan mein parivyapt hai uske anukul hi is adhyyan ko paripurn banane ka aalochkiy yatn hai vividh varg ke pathkon ki tushti kar sakne ke liye.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products