BackBack
-11%

Hijarat Se Pahale

Rs. 300 Rs. 267

सूक्ष्म अन्तर्दृष्टि और गहरे भावनात्मक प्रवाह की धनी कथाकार वंदना राग का यह नया कहानी-संग्रह उनके कथाकार की क्षमताओं के नए क्षितिजों से परिचित कराता है। परिपक्व भाषा-संस्कार और अपने पात्रों के माध्यम से अपने समय-समाज के स्याह-सफ़ेद पर वयस्क दृष्टि डालते हुए वंदना राग अपनी कहानियों में जीवन की... Read More

BlackBlack
Description

सूक्ष्म अन्तर्दृष्टि और गहरे भावनात्मक प्रवाह की धनी कथाकार वंदना राग का यह नया कहानी-संग्रह उनके कथाकार की क्षमताओं के नए क्षितिजों से परिचित कराता है। परिपक्व भाषा-संस्कार और अपने पात्रों के माध्यम से अपने समय-समाज के स्याह-सफ़ेद पर वयस्क दृष्टि डालते हुए वंदना राग अपनी कहानियों में जीवन की जिन विडम्बनाओं और छवियों को चिह्नित करती हैं, उनसे हम अपने समय के ख़ाली स्थानों को समझ और पकड़ सकते हैं।
वंदना राग के पात्र अपनी संश्लिष्टता और वैविध्य में अपने समकालीन सच्चाइयों को इतने विश्वसनीय ढंग से उजागर करते हैं कि उनकी कहानियाँ अपने समय की समीक्षा करती नज़र आती हैं। जिए हुए और जिए जा रहे अपने वक़्त का साक्ष्य उनकी भाषा में भी दिखाई देता है जो सिर्फ़ कहानी को बयान नहीं करती, उसकी अन्तर्ध्वनियों को चिह्नित भी करती जाती हैं।
इस संग्रह में शामिल दसों कहानियाँ इस तथ्य की साक्षी हैं कि हिन्दी की युवा कहानी अपने कथ्य के ज़रिए अपने वक़्त को जितनी गम्भीरता से पकड़ने की कोशिश कर रही है, वह उल्लेखनीय है, और वंदना राग ने इस परिदृश्य में अपनी सतत और रचनात्मक उपस्थिति से बार-बार भरोसा जगाया है। संग्रह में शामिल ‘विरासत’, ‘क्रिसमस कैरोल’, ‘मोनिका फिर याद आई’ और ‘हिजरत से पहले’ जैसी कहानियाँ पाठकों को लम्बे समय तक याद रहेंगी। Sukshm antardrishti aur gahre bhavnatmak prvah ki dhani kathakar vandna raag ka ye naya kahani-sangrah unke kathakar ki kshamtaon ke ne kshitijon se parichit karata hai. Paripakv bhasha-sanskar aur apne patron ke madhyam se apne samay-samaj ke syah-safed par vayask drishti dalte hue vandna raag apni kahaniyon mein jivan ki jin vidambnaon aur chhaviyon ko chihnit karti hain, unse hum apne samay ke khali sthanon ko samajh aur pakad sakte hain. Vandna raag ke patr apni sanshlishtta aur vaividhya mein apne samkalin sachchaiyon ko itne vishvasniy dhang se ujagar karte hain ki unki kahaniyan apne samay ki samiksha karti nazar aati hain. Jiye hue aur jiye ja rahe apne vaqt ka sakshya unki bhasha mein bhi dikhai deta hai jo sirf kahani ko bayan nahin karti, uski antardhvaniyon ko chihnit bhi karti jati hain.
Is sangrah mein shamil dason kahaniyan is tathya ki sakshi hain ki hindi ki yuva kahani apne kathya ke zariye apne vaqt ko jitni gambhirta se pakadne ki koshish kar rahi hai, vah ullekhniy hai, aur vandna raag ne is paridrishya mein apni satat aur rachnatmak upasthiti se bar-bar bharosa jagaya hai. Sangrah mein shamil ‘virasat’, ‘krismas kairol’, ‘monika phir yaad aai’ aur ‘hijrat se pahle’ jaisi kahaniyan pathkon ko lambe samay tak yaad rahengi.