Look Inside
Hemant Ka Panchhi
Hemant Ka Panchhi
Hemant Ka Panchhi
Hemant Ka Panchhi

Hemant Ka Panchhi

Regular price Rs. 124
Sale price Rs. 124 Regular price Rs. 134
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hemant Ka Panchhi

Hemant Ka Panchhi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

क़ामयाब पति, दो-दो बुद्धिमान बेटे और अपनी घर-गृहस्थी में डूबी अदिति, उम्र के चालीसवें के मध्य तक पहुँचते-पहुँचते अचानक महसूस करती है कि वह भयंकर अकेली है। पति अपनी नौकरी में व्यस्त है, दोनों बेटे भी अपने-अपने आकाश में पंख फैलाए उड़ने लगे हैं। अकेली अदिति अब अपने दिन या तो अपने आपसे या पिंजरे की मैना से बातें करती हुई गुज़ारती है। उन्हीं दिनों उसकी ज़िन्दगी में हेमेन मामा दाख़िल होते हैं, उन्हीं की प्रेरणा से जाग उठती है—एक नई अदिति धीरे-धीरे वह अपनी रची-गढ़ी दुनिया में मग्न हो जाती है। ब्याह से पहले वह लेखन के क, ख, ग से परिचित हो चुकी थी। अब वह दुबारा लिखना शुरू करती है। अब जब वह अपने पति, सन्तान और गृहस्थी को नई निगाह से तौलना-परखना शुरू कर देती है, तो शुरू होता है—ज़बर्दस्त टकराव। भयंकर दर्द के काले बादल घिर आते हैं।
अदिति क्या सिर्फ़ सुप्रतिम की पत्नी-भर है? मात्रा बच्चों की माँ है? वह क्या सिर्फ़ ख़ून-मांस की मशीन-भर है, जिससे सिर्फ़ यह अपेक्षित है कि बेहद सहज-स्वाभाविक तरीक़े से गृहस्थी की गाड़ी आगे बढ़ाती रहे? इस दायरे से बाहर क्या अदिति का कोई अस्तित्व नहीं?
सुचित्रा भट्टाचार्य की सशक्त क़लम ने ‘हेमन्त का पंछी’ में औरत के इसी सच की बेचैन तलाश को उकेरा है। Qamyab pati, do-do buddhiman bete aur apni ghar-grihasthi mein dubi aditi, umr ke chalisven ke madhya tak pahunchate-pahunchate achanak mahsus karti hai ki vah bhayankar akeli hai. Pati apni naukri mein vyast hai, donon bete bhi apne-apne aakash mein pankh phailaye udne lage hain. Akeli aditi ab apne din ya to apne aapse ya pinjre ki maina se baten karti hui guzarti hai. Unhin dinon uski zindagi mein hemen mama dakhil hote hain, unhin ki prerna se jaag uthti hai—ek nai aditi dhire-dhire vah apni rachi-gadhi duniya mein magn ho jati hai. Byah se pahle vah lekhan ke ka, kha, ga se parichit ho chuki thi. Ab vah dubara likhna shuru karti hai. Ab jab vah apne pati, santan aur grihasthi ko nai nigah se taulna-parakhna shuru kar deti hai, to shuru hota hai—zabardast takrav. Bhayankar dard ke kale badal ghir aate hain. Aditi kya sirf suprtim ki patni-bhar hai? matra bachchon ki man hai? vah kya sirf khun-mans ki mashin-bhar hai, jisse sirf ye apekshit hai ki behad sahaj-svabhavik tariqe se grihasthi ki gadi aage badhati rahe? is dayre se bahar kya aditi ka koi astitv nahin?
Suchitra bhattacharya ki sashakt qalam ne ‘hemant ka panchhi’ mein aurat ke isi sach ki bechain talash ko ukera hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products