Look Inside
Hello China
Hello China
Hello China
Hello China

Hello China

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hello China

Hello China

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और विकास के वर्तमान राजनीतिक-सामाजिक परिदृश्य को देखें तो चीन उतना ही दिलचस्प देश है जितना भारत रहा है। लेकिन कई कारणों से हम चीन के बारे में बहुत ज्‍़यादा नहीं जानते। तक़रीबन इतना ही कि उसकी जनसंख्या हमसे ज्‍़यादा है, और अब यह कि ‘मेड इन चाइना’ सस्ता तो बहुत है, पर भरोसेमन्‍द बिलकुल नहीं।’ लेकिन चीन में इसके अलावा ऐसा बहुत कुछ है जिसे जानना न सिर्फ़ इन दोनों देशों के बेहतर रिश्तों के लिए ज़रूरी है, बल्कि ऐसे भी अनेक पहलू हैं जिन्हें जानकर हम अपने देश में भी कुछ बेहतर नागरिक होने की कोशिश कर सकते हैं; मसलन—नागरिक अनुशासन, स्वच्छता को लेकर सार्वजानिक सहमति और इसके लिए लगातार किया जानेवाला उद्यम।
निजी अनुभवों और अध्ययन के आधार पर लिखी गई यह पुस्तक हमें चीन के इतिहास, वहाँ के रीती-रिवाजों, पारिवारिक संरचना, विवाह-परम्‍परा, खान-पान की शैलियों के साथ-साथ चीन की वर्तमान आर्थिक संरचना, व्यापारिक-व्यावसायिक स्थितियों और विश्व में चीन की राजनीतिक भूमिका से भी परिचित कराती है।
स्वाभाविक है कि पुस्तक की रचना भारत-चीन सम्‍बन्‍धों की बेहतरी को ध्यान में रखकर की गई है जिसके लिए इसमें समय-समय पर प्रकाशित कुछ आलेखों को भी शामिल किया गया है और उन ऐतिहासिक व्यक्तित्वों का भी उल्लेख किया गया है, जिनका योगदान दोनों देशों के रिश्तों को बेहतर बनाने में रहा है। Sanskritik, aitihasik aur vikas ke vartman rajnitik-samajik paridrishya ko dekhen to chin utna hi dilchasp desh hai jitna bharat raha hai. Lekin kai karnon se hum chin ke bare mein bahut ‍yada nahin jante. Taqriban itna hi ki uski jansankhya hamse ‍yada hai, aur ab ye ki ‘med in chaina’ sasta to bahut hai, par bharoseman‍da bilkul nahin. ’ lekin chin mein iske alava aisa bahut kuchh hai jise janna na sirf in donon deshon ke behtar rishton ke liye zaruri hai, balki aise bhi anek pahlu hain jinhen jankar hum apne desh mein bhi kuchh behtar nagrik hone ki koshish kar sakte hain; maslan—nagrik anushasan, svachchhta ko lekar sarvjanik sahamati aur iske liye lagatar kiya janevala udyam. Niji anubhvon aur adhyyan ke aadhar par likhi gai ye pustak hamein chin ke itihas, vahan ke riti-rivajon, parivarik sanrachna, vivah-param‍para, khan-pan ki shailiyon ke sath-sath chin ki vartman aarthik sanrachna, vyaparik-vyavsayik sthitiyon aur vishv mein chin ki rajnitik bhumika se bhi parichit karati hai.
Svabhavik hai ki pustak ki rachna bharat-chin sam‍ban‍dhon ki behatri ko dhyan mein rakhkar ki gai hai jiske liye ismen samay-samay par prkashit kuchh aalekhon ko bhi shamil kiya gaya hai aur un aitihasik vyaktitvon ka bhi ullekh kiya gaya hai, jinka yogdan donon deshon ke rishton ko behtar banane mein raha hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products