Look Inside
Hata Rahim
Hata Rahim
Hata Rahim
Hata Rahim

Hata Rahim

Regular price Rs. 372
Sale price Rs. 372 Regular price Rs. 400
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hata Rahim

Hata Rahim

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

क्या किसी व्यक्ति या समाज का अस्तित्व महज़ एक संस्था या कुछ सूचनाओं में सीमित हो सकता है? आज के उत्तर-आधुनिक दौर की सच्चाई यही है कि देश और दुनिया की विशाल से विशालतर होती जाती आबादी में एक सामान्य जन जनसंख्या सूची की एक संख्या में सिमटकर रह जाने को अभिशप्त है। जनगणना का सूत्र लेकर चर्चित रचनाकार वीरेन्द्र सारंग का यह उपन्यास अत्यन्त तर्कसंगत ढंग से न सिर्फ़ इस दुरवस्था को उजागर करता है, बल्कि पूरी दृढ़ता से यह स्थापित करता है कि कुछ औपचारिक संख्याओं-सूचनाओं से किसी व्यक्ति या समाज की वास्तविक स्थिति-परिस्थिति को सम्पूर्णता में समझा नहीं जा सकता। मुख्य पात्र देवीप्रसाद की नज़र से यह उपन्यास एक बस्ती के तमाम दृश्य-अदृश्य रंग-रेशों को उजागर करता है, जहाँ अभावग्रस्तता और जड़ता आम है। लेकिन प्रतिकूलताओं की परतों के नीचे दबे सकारात्मक बदलाव के बीज अभी निर्जीव नहीं हुए हैं।
‘हाता रहीम’ की कहानी बेशक एक बस्ती में घूमती है, लेकिन तसले में सीझ रहे सारे चावलों का हाल एक दाने से जानने की तरह यह भारत के तमाम गाँवों-क़स्बों के समसामयिक यथार्थ का उद्घाटन करती है। सरकारी तंत्र इन गाँवों-क़स्बों के उद्धार का वादा करने में कभी कोताही नहीं करता, मगर किसी फ़ॉर्म के दस-बीस या तीस कॉलमों में लोगों की सूचनाएँ दर्ज करने की औपचारिकता से आगे उसकी दृष्टि प्राय: नहीं जा पाती। इस स्थिति में उपन्यास बतलाता है कि स्वप्न का सच्चाई में बदलना सम्भव नहीं है। उपन्यास का मुख्य चरित्र अपने विशिष्ट दृष्टिकोण के कारण एक ओर समाज के लिए प्रेरक की भूमिका निभाता है तो दूसरी ओर प्रतिकूल समय में व्यक्तिगत निष्ठा से समष्टिगत हित के सृजन संवर्धन का सन्देश भी देता है।
जनगणना विषय पर कथा साहित्य का एकमात्र यह पहला उपन्यास अपने तेवर में ख़ास है। एक अत्यन्त पठनीय कृति। Kya kisi vyakti ya samaj ka astitv mahaz ek sanstha ya kuchh suchnaon mein simit ho sakta hai? aaj ke uttar-adhunik daur ki sachchai yahi hai ki desh aur duniya ki vishal se vishaltar hoti jati aabadi mein ek samanya jan jansankhya suchi ki ek sankhya mein simatkar rah jane ko abhishapt hai. Janaganna ka sutr lekar charchit rachnakar virendr sarang ka ye upanyas atyant tarksangat dhang se na sirf is durvastha ko ujagar karta hai, balki puri dridhta se ye sthapit karta hai ki kuchh aupcharik sankhyaon-suchnaon se kisi vyakti ya samaj ki vastvik sthiti-paristhiti ko sampurnta mein samjha nahin ja sakta. Mukhya patr deviprsad ki nazar se ye upanyas ek basti ke tamam drishya-adrishya rang-reshon ko ujagar karta hai, jahan abhavagrastta aur jadta aam hai. Lekin pratikultaon ki parton ke niche dabe sakaratmak badlav ke bij abhi nirjiv nahin hue hain. ‘hata rahim’ ki kahani beshak ek basti mein ghumti hai, lekin tasle mein sijh rahe sare chavlon ka haal ek dane se janne ki tarah ye bharat ke tamam ganvon-qasbon ke samsamyik yatharth ka udghatan karti hai. Sarkari tantr in ganvon-qasbon ke uddhar ka vada karne mein kabhi kotahi nahin karta, magar kisi faurm ke das-bis ya tis kaulmon mein logon ki suchnayen darj karne ki aupcharikta se aage uski drishti pray: nahin ja pati. Is sthiti mein upanyas batlata hai ki svapn ka sachchai mein badalna sambhav nahin hai. Upanyas ka mukhya charitr apne vishisht drishtikon ke karan ek or samaj ke liye prerak ki bhumika nibhata hai to dusri or pratikul samay mein vyaktigat nishtha se samashtigat hit ke srijan sanvardhan ka sandesh bhi deta hai.
Janaganna vishay par katha sahitya ka ekmatr ye pahla upanyas apne tevar mein khas hai. Ek atyant pathniy kriti.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products