Look Inside
Hashimpura 22 May
Hashimpura 22 May
Hashimpura 22 May
Hashimpura 22 May

Hashimpura 22 May

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hashimpura 22 May

Hashimpura 22 May

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

साल 1987; दिन 22 मई; समय तक़रीबन आधी रात। ग़ाज़‍ियाबाद से सिर्फ़ पन्द्रह-बीस किलोमीटर दूर मकनपुर गाँव की नहर के किनारे आज़ाद भारत का सबसे भयावह हिरासती हत्याकांड हुआ था। पी.ए.सी. ने मेरठ के हाशिमपुरा मुहल्ले से उठाकर कई दर्जन मुसलमानों को यहाँ नहर की पटरी पर लाकर मार दिया था। विभूति नारायण राय उस समय गाजियाबाद के पुलिस कप्तान थे।
यह पुस्तक लेखक द्वारा उसी समय लिए गए एक संकल्प का नतीजा है, जब वे धर्मनिरपेक्ष भारत की विकास-भूमि पर अपने लेखकीय और प्रशासनिक जीवन के सबसे जघन्य दृश्य के सम्मुख थे। साम्प्रदायिक दंगों की धार्मिक-प्रशासनिक संरचना पर गहरी निगाह रखनेवाले, और ‘शहर में कर्फ़्यू’ जैसे अत्यन्‍त संवेदनशील उपन्यास के लेखक विभूति जी ने इस घटना को भारतीय सत्ता-तंत्र और भारतवासियों के परस्पर सम्बन्धों के लिहाज़ से एक निर्णायक और उद्घाटनकारी घटना माना और इस पर प्रामाणिक तथ्यों के साथ लिखने का फ़ैसला लिया जिसका नतीजा यह पुस्तक है।
यह सिर्फ़ उस घटना का विवरण भर नहीं है, उसके कारणों और उसके बाद चले मुक़दमे और उसके फ़ैसले के नतीजों को जानने की कोशिश भी है। इसमें दु:ख है, चिन्‍ता है, आशंका है, और उस ख़तरे को पहचानने की इच्छा भी है जो इस तरह की घटनाओं के चलते हमारे समाज और देश की सामूहिकता के सामने आ सकता है—घृणा, अविश्वास और हिंसा का चहुँमुखी प्रसार।
उम्मीद करते हैं कि इस किताब को पढ़ने के बाद हम एक सभ्य नागरिक समाज के रूप में अपने आस-पास पसरते इस ख़तरे के प्रति सतर्क होंगे और इसे रोकने का संकल्प लेंगे, जिसके कारण हाशिमपुरा जैसे कांड वैधता पाते हैं। Saal 1987; din 22 mai; samay taqriban aadhi raat. Gaz‍iyabad se sirf pandrah-bis kilomitar dur makanpur ganv ki nahar ke kinare aazad bharat ka sabse bhayavah hirasti hatyakand hua tha. Pi. e. Si. Ne merath ke hashimapura muhalle se uthakar kai darjan musalmanon ko yahan nahar ki patri par lakar maar diya tha. Vibhuti narayan raay us samay gajiyabad ke pulis kaptan the. Ye pustak lekhak dvara usi samay liye ge ek sankalp ka natija hai, jab ve dharmanirpeksh bharat ki vikas-bhumi par apne lekhkiy aur prshasnik jivan ke sabse jaghanya drishya ke sammukh the. Samprdayik dangon ki dharmik-prshasnik sanrachna par gahri nigah rakhnevale, aur ‘shahar mein karfyu’ jaise atyan‍ta sanvedanshil upanyas ke lekhak vibhuti ji ne is ghatna ko bhartiy satta-tantr aur bharatvasiyon ke paraspar sambandhon ke lihaz se ek nirnayak aur udghatankari ghatna mana aur is par pramanik tathyon ke saath likhne ka faisla liya jiska natija ye pustak hai.
Ye sirf us ghatna ka vivran bhar nahin hai, uske karnon aur uske baad chale muqadme aur uske faisle ke natijon ko janne ki koshish bhi hai. Ismen du:kha hai, chin‍ta hai, aashanka hai, aur us khatre ko pahchanne ki ichchha bhi hai jo is tarah ki ghatnaon ke chalte hamare samaj aur desh ki samuhikta ke samne aa sakta hai—ghrina, avishvas aur hinsa ka chahunmukhi prsar.
Ummid karte hain ki is kitab ko padhne ke baad hum ek sabhya nagrik samaj ke rup mein apne aas-pas pasarte is khatre ke prati satark honge aur ise rokne ka sankalp lenge, jiske karan hashimapura jaise kand vaidhta pate hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products