Look Inside
Hare Ko Harinaam : Dinkar Granthmala
Hare Ko Harinaam : Dinkar Granthmala
Hare Ko Harinaam : Dinkar Granthmala
Hare Ko Harinaam : Dinkar Granthmala

Hare Ko Harinaam : Dinkar Granthmala

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hare Ko Harinaam : Dinkar Granthmala

Hare Ko Harinaam : Dinkar Granthmala

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘केवल कवि ही कविता नहीं रचता, कविता भी बदले में कवि की रचना करती है' जैसी अनुभूति को आत्मसात् करनेवाले दिनकर की विचारप्रधान कविताओं का संकलन है 'हारे को हरिनाम', जिसमें उनके जीवन के उत्तरार्द्ध की दार्शनिक मानसिकता के दर्शन होते हैं। इसमें परम सत्ता के प्रति छलहीन समर्पण की आकुलता से भरी ऐसी कविताओं की अभिव्यक्ति हुई है जिनमें मनुष्य मन की विराटता है। हम कह सकते हैं कि ओज और आक्रोश से भरी राष्ट्रीय कविताओं के सर्जक दिनकर की भक्ति-भावनाओं से विह्वल रचनाओं का यह संग्रह संवेदना और आस्था के विरल आयामों से जोड़ने का एक सफल उपक्रम है। और संग्रह का नाम ‘हारे को हरिनाम’ से कुछ मित्रों के चौंकने पर सच स्वीकार करने की साहस-भरी वह मनुष्यता भी, जिसे राष्ट्रकवि दिनकर अपने इन शब्दों में व्यक्त करते हैं–“...किन्तु पराजित मनुष्य और किसका नाम ले? मैंने अपने आपको क्षमा कर दिया है। बन्धु, तुम भी मुझे क्षमा करो। मुमकिन है, वह ताज़गी हो। जिसे तुम थकान मानते हो। ईश्वर की इच्छा को न मैं जानता हूँ, न तुम जानते हो।” ‘keval kavi hi kavita nahin rachta, kavita bhi badle mein kavi ki rachna karti hai jaisi anubhuti ko aatmsat karnevale dinkar ki vicharaprdhan kavitaon ka sanklan hai hare ko harinam, jismen unke jivan ke uttrarddh ki darshnik manasikta ke darshan hote hain. Ismen param satta ke prati chhalhin samarpan ki aakulta se bhari aisi kavitaon ki abhivyakti hui hai jinmen manushya man ki viratta hai. Hum kah sakte hain ki oj aur aakrosh se bhari rashtriy kavitaon ke sarjak dinkar ki bhakti-bhavnaon se vihval rachnaon ka ye sangrah sanvedna aur aastha ke viral aayamon se jodne ka ek saphal upakram hai. Aur sangrah ka naam ‘hare ko harinam’ se kuchh mitron ke chaunkne par sach svikar karne ki sahas-bhari vah manushyta bhi, jise rashtrakavi dinkar apne in shabdon mein vyakt karte hain–“. . . Kintu parajit manushya aur kiska naam le? mainne apne aapko kshma kar diya hai. Bandhu, tum bhi mujhe kshma karo. Mumkin hai, vah tazgi ho. Jise tum thakan mante ho. Iishvar ki ichchha ko na main janta hun, na tum jante ho. ”

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products