Look Inside
Hanso Hanso Jaldi Hanso
Hanso Hanso Jaldi Hanso
Hanso Hanso Jaldi Hanso
Hanso Hanso Jaldi Hanso

Hanso Hanso Jaldi Hanso

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hanso Hanso Jaldi Hanso

Hanso Hanso Jaldi Hanso

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

रघुवीर सहाय विडम्बना के खोजी कवि हैं। समाज और उसके ऊपर-नीचे खड़ी-पड़ी तमाम संरचनाओं, यथा राजनीति, शासन-प्रशासन और ताक़त से बने या ताक़त से बिगड़े अनेक मूर्त-अमूर्त फ़ॉर्म्स को वे एक नई और असंलग्न निगाह से देखते हैं। इस बहुपठित-बहुचर्चित संग्रह की अनेक कविताएँ, जिनमें अत्यन्त प्रसिद्ध कविता, 'रामदास' भी है उनकी उसी असंलग्नता के कारण इतनी भीषण बन पड़ी है। वह असंलग्नता जो अपने समाज से बहुत गहरे, बेशर्त जुड़ाव के बाद किसी शुभाकांक्षी मन का हिस्सा बनती है।
वे इस समाज और उसको चला रही व्यवस्था को बदलने की इतनी गहरी आकांक्षा से बिंधे थे कि कविता भी उन्हें कवि न बनाकर एक चिन्तित सामाजिक के रूप में प्रक्षेपित करती थी। इसीलिए उनकी हर कविता अपनी पूर्ववर्ती कविता के विस्तार की तरह नहीं, एक नई शाखा की तरह प्रकट होती थी। यह संग्रह अपने संयोजन में स्वयं इसका साक्षी है कि हर कविता न तो शिल्प में, और न ही भाषा में अपनी किसी परम्परा का निर्माण करने की चिन्ता करती दिखती और न किसी और काव्य-परम्परा का निर्वाह करती। हर बार उनका कवि समाज नामक दु:ख के इस विस्तृत पठार में एक नई जगह से उठता दिखाई देता है और पीड़ा के एक नए रंग, नए आकार का ध्वज लेकर।
ये कविताएँ बार-बार पढ़ी गई हैं और बार-बार पढ़े जाने की माँग करती हैं। आज भी, क्योंकि, हमारे समूह-मन की जिन दरारों की ओर इन कविताओं ने संकेत किया था, आज वे और गहरी हो गई हैं। Raghuvir sahay vidambna ke khoji kavi hain. Samaj aur uske uupar-niche khadi-padi tamam sanrachnaon, yatha rajniti, shasan-prshasan aur taqat se bane ya taqat se bigde anek murt-amurt faurms ko ve ek nai aur asanlagn nigah se dekhte hain. Is bahupthit-bahucharchit sangrah ki anek kavitayen, jinmen atyant prsiddh kavita, ramdas bhi hai unki usi asanlagnta ke karan itni bhishan ban padi hai. Vah asanlagnta jo apne samaj se bahut gahre, beshart judav ke baad kisi shubhakankshi man ka hissa banti hai. Ve is samaj aur usko chala rahi vyvastha ko badalne ki itni gahri aakanksha se bindhe the ki kavita bhi unhen kavi na banakar ek chintit samajik ke rup mein prakshepit karti thi. Isiliye unki har kavita apni purvvarti kavita ke vistar ki tarah nahin, ek nai shakha ki tarah prkat hoti thi. Ye sangrah apne sanyojan mein svayan iska sakshi hai ki har kavita na to shilp mein, aur na hi bhasha mein apni kisi parampra ka nirman karne ki chinta karti dikhti aur na kisi aur kavya-parampra ka nirvah karti. Har baar unka kavi samaj namak du:kha ke is vistrit pathar mein ek nai jagah se uthta dikhai deta hai aur pida ke ek ne rang, ne aakar ka dhvaj lekar.
Ye kavitayen bar-bar padhi gai hain aur bar-bar padhe jane ki mang karti hain. Aaj bhi, kyonki, hamare samuh-man ki jin dararon ki or in kavitaon ne sanket kiya tha, aaj ve aur gahri ho gai hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products