Look Inside
Hansini
Hansini
Hansini
Hansini

Hansini

Regular price Rs. 116
Sale price Rs. 116 Regular price Rs. 125
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hansini

Hansini

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हंसनी मुख्य रूप से कलाकारों के अपने रचनात्मक और व्यक्तिगत जीवन के बीच तालमेल न बैठा पाने की पीढ़ी का लेखा-जोखा है। प्रतिष्ठित अभिनेत्री आर्कदीना स्थापित और लोकप्रिय लेखक त्रिगोरिन के प्रेम के बिना ज़‍िन्दा नहीं रह सकती। त्रिगोरिन रचना-कर्म को बेहद नीरस पाता है, मगर लिखने के लिए अभिशप्त है। उसे अपनी जड़ता तोड़ने के लिए हर बार नई उत्तेजना कि तलाश है और इसकी शिकार होती है—नीना अर्थात् आर्कदीना के पुत्र तेपलेव की प्रेमिका। दोनों को नाटक और लेखन की यानी जीवन के नए मुहावरों की तलाश है।
इस जटिल और उलझी हुई थीम को जिस ख़ूबसूरती से चेख़व ने नाटक का रूप दिया है, वह पूरी दुनिया के नाटकों के इतिहास में अभूतपूर्व है।
इस सन्दर्भ में अनुवादक राजेन्‍द्र यादव का कथन है : चेख़व की रचनाओं की आत्मीयता, करुणा और ख़ास क़‍िस्म की निराश उदासी (लगभग आत्मदया जैसी) मुझे बहुत छूती है। मैं उसके प्रभाव से लगभग मोहाच्छन्न था। उसी श्रद्धा से मैंने इन नाटकों को हाथ लगाया था। रूसी भाषा नहीं जनता था, मगर अधिक से अधिक ईमानदारी से उसके नाटकों की मौलिक शक्ति तक पहुँचाना चाहता था। इसलिए तीन अंग्रेज़ी अनुवादों को सामने रखकर एक-एक वाक्य पढ़ता और मूल को पकड़ने कि कोशिश करता। आधार बनाया मॉस्को के अनुवाद को। बाद में सुना, अनुवादों को पाठकों ने पसन्‍द किया, अनेक रंग-संस्थानों और रेडियो इत्यादि ने इन्हें अपनाया, पाठ्यक्रम में भी उन्हें लिया गया। Hansni mukhya rup se kalakaron ke apne rachnatmak aur vyaktigat jivan ke bich talmel na baitha pane ki pidhi ka lekha-jokha hai. Prtishthit abhinetri aarkdina sthapit aur lokapriy lekhak trigorin ke prem ke bina za‍inda nahin rah sakti. Trigorin rachna-karm ko behad niras pata hai, magar likhne ke liye abhishapt hai. Use apni jadta todne ke liye har baar nai uttejna ki talash hai aur iski shikar hoti hai—nina arthat aarkdina ke putr teplev ki premika. Donon ko natak aur lekhan ki yani jivan ke ne muhavron ki talash hai. Is jatil aur uljhi hui thim ko jis khubsurti se chekhav ne natak ka rup diya hai, vah puri duniya ke natkon ke itihas mein abhutpurv hai.
Is sandarbh mein anuvadak rajen‍dr yadav ka kathan hai : chekhav ki rachnaon ki aatmiyta, karuna aur khas qa‍ism ki nirash udasi (lagbhag aatmadya jaisi) mujhe bahut chhuti hai. Main uske prbhav se lagbhag mohachchhann tha. Usi shraddha se mainne in natkon ko hath lagaya tha. Rusi bhasha nahin janta tha, magar adhik se adhik iimandari se uske natkon ki maulik shakti tak pahunchana chahta tha. Isaliye tin angrezi anuvadon ko samne rakhkar ek-ek vakya padhta aur mul ko pakadne ki koshish karta. Aadhar banaya mausko ke anuvad ko. Baad mein suna, anuvadon ko pathkon ne pasan‍da kiya, anek rang-sansthanon aur rediyo ityadi ne inhen apnaya, pathyakram mein bhi unhen liya gaya.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products