BackBack
-11%

Hanoosh

Rs. 175 Rs. 156

‘हानूश’ भीष्म साहनी का एक ऐसा नाटक है जिसमें कलाकार की सृजन की अदम्य अकुलाहट और उसकी निरीहता को रूपायित किया गया है। धर्म और सत्ता के गठबन्धन के साथ सामाजिक शक्तियों के संघर्ष की मार्मिक अभिव्यक्ति भी है यह अनमोल नाटक ‘हानूश’। कलाकार के पारिवारिक तनावों का अनूठा अंकन... Read More

BlackBlack
Description

‘हानूश’ भीष्म साहनी का एक ऐसा नाटक है जिसमें कलाकार की सृजन की अदम्य अकुलाहट और उसकी निरीहता को रूपायित किया गया है। धर्म और सत्ता के गठबन्धन के साथ सामाजिक शक्तियों के संघर्ष की मार्मिक अभिव्यक्ति भी है यह अनमोल नाटक ‘हानूश’। कलाकार के पारिवारिक तनावों का अनूठा अंकन हुआ है ‘हानूश’ में। इस नाटक में एक ऐसे कलकार को केन्द्रीय भूमिका मिली है जो शुरू में ताला बनानेवाला एक सामान्य मिस्त्री है, बाद में उसके दिमाग़ में घड़ी बनाने का विचार उत्पन्न होता है और वह घड़ी बनाने में लग जाता है। विषम परिस्थितियों से जूझता हुआ वह घड़ी बनाने के काम में लगातार सत्रह साल गुज़ार देता है और अन्ततः इस लगन और कड़ी मेहनत के परिणामस्वरूप वह चेकोस्लोवाकिया की पहली घड़ी बनाने में कामयाब होता है। उसकी बनाई गई घड़ी नगरपालिका की मीनार पर लगाई जाती है, लेकिन इतनी बड़ी सफलता के बाद कलाकार को क्या मिलता है? बादशाह कलाकार की आँखें निकलवा लेता है, ताकि वह उस तरह की दूसरी घड़ी नहीं बना सके। चेक-इतिहास की इस छोटी-सी घटना से भीष्म साहनी ने हिन्दी को यह यादगार नाटक सौंपा है जो आज छह दशक बाद भी रंग-प्रेमियों के लिए यथार्थ और आश्चर्य का एक सामंजस्य-सा प्रतीत होता है। ‘hanush’ bhishm sahni ka ek aisa natak hai jismen kalakar ki srijan ki adamya akulahat aur uski nirihta ko rupayit kiya gaya hai. Dharm aur satta ke gathbandhan ke saath samajik shaktiyon ke sangharsh ki marmik abhivyakti bhi hai ye anmol natak ‘hanush’. Kalakar ke parivarik tanavon ka anutha ankan hua hai ‘hanush’ mein. Is natak mein ek aise kalkar ko kendriy bhumika mili hai jo shuru mein tala bananevala ek samanya mistri hai, baad mein uske dimag mein ghadi banane ka vichar utpann hota hai aur vah ghadi banane mein lag jata hai. Visham paristhitiyon se jujhta hua vah ghadi banane ke kaam mein lagatar satrah saal guzar deta hai aur antatः is lagan aur kadi mehnat ke parinamasvrup vah chekoslovakiya ki pahli ghadi banane mein kamyab hota hai. Uski banai gai ghadi nagarpalika ki minar par lagai jati hai, lekin itni badi saphalta ke baad kalakar ko kya milta hai? badshah kalakar ki aankhen nikalva leta hai, taki vah us tarah ki dusri ghadi nahin bana sake. Chek-itihas ki is chhoti-si ghatna se bhishm sahni ne hindi ko ye yadgar natak saumpa hai jo aaj chhah dashak baad bhi rang-premiyon ke liye yatharth aur aashcharya ka ek samanjasya-sa prtit hota hai.