Hamzamin

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Hamzamin

Hamzamin

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अवधेश प्रीत उन थोड़े से कथाकारों में हैं जो यथार्थ की भीतरी तह तक पहुँचकर उसकी आन्तरिक गतिशीलता को उजागर करते हैं। उनकी कहानियों में जीवन के गहरे अनुभव के साथ-साथ समाज में होनेवाले परिवर्तनों के संकेत भी मिलते हैं। विसंगतियों और विडम्बनाओं का चित्र उकेरते वक़्त उनकी नज़र हमेशा उन वंचितजनों पर टिकी होती है, जो अपनी स्थिति से उबरने तथा समाज के बदलने के लिए संघर्ष कर रहे होते हैं। सपाटबयानी से बचते हुए अवधेश अपने एक-एक अनुभव को पहले वैचारिक धरातल पर सूत्रबद्ध करते हैं, फिर उनके कलात्मक संग्रन्थन से ऐसी फंतासी रचते हैं जिसमें किरदारों के आत्मसंघर्ष तथा सामाजिक संघर्ष के बीच की विभाजक रेखा मिट जाती है। उनका यह शिल्प ही उन्हें अपने समकालीनों से अलग करता है।
‘हमज़मीन’ संग्रह की कहानियों में अवधेश प्रीत ने साम्प्रदायिक और सामंती क्रूरताओं के शिकार वंचितों तथा स्त्रियों की पीड़ाओं के चित्रण के साथ-साथ उनके संघर्ष और जिजीविषा को रेखांकित करने का जो सार्थक प्रयास किया है वह उल्लेखनीय है। Avdhesh prit un thode se kathakaron mein hain jo yatharth ki bhitri tah tak pahunchakar uski aantrik gatishilta ko ujagar karte hain. Unki kahaniyon mein jivan ke gahre anubhav ke sath-sath samaj mein honevale parivartnon ke sanket bhi milte hain. Visangatiyon aur vidambnaon ka chitr ukerte vaqt unki nazar hamesha un vanchitajnon par tiki hoti hai, jo apni sthiti se ubarne tatha samaj ke badalne ke liye sangharsh kar rahe hote hain. Sapatabyani se bachte hue avdhesh apne ek-ek anubhav ko pahle vaicharik dharatal par sutrbaddh karte hain, phir unke kalatmak sangranthan se aisi phantasi rachte hain jismen kirdaron ke aatmsangharsh tatha samajik sangharsh ke bich ki vibhajak rekha mit jati hai. Unka ye shilp hi unhen apne samkalinon se alag karta hai. ‘hamazmin’ sangrah ki kahaniyon mein avdhesh prit ne samprdayik aur samanti krurtaon ke shikar vanchiton tatha striyon ki pidaon ke chitran ke sath-sath unke sangharsh aur jijivisha ko rekhankit karne ka jo sarthak pryas kiya hai vah ullekhniy hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products