Look Inside
Hamara Panchayati Raj
Hamara Panchayati Raj

Hamara Panchayati Raj

Regular price Rs. 371
Sale price Rs. 371 Regular price Rs. 399
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hamara Panchayati Raj

Hamara Panchayati Raj

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारत की आत्मा गाँवों में बसती है। ग्राम-व्यवस्था वस्तुतः राष्ट्र-व्यवस्था की बुनियाद है। यही कारण है कि हमारे राष्ट्रनायकों ने सामाजिक उन्नयन, आर्थिक विकास, सांस्कृतिक प्रगति और राजनीतिक चेतना की दृष्टि से गाँवों को पर्याप्त महत्त्व दिया है। सबका मानना है कि भारत के विकास का रास्ता गाँवों से होकर गुज़रता है। महात्मा गांधी के श्रम, स्वदेशी और स्वावलम्बन की कर्मभूमि अधिकांश अर्थ में गाँव ही है।
प्रतापमल देवपुरा द्वारा लिखित ‘हमारा पंचायती राज’ पुस्तक पंचायती राज के प्रति जानकारी व जागरूकता उत्पन्न करने हेतु लिखी गई है। पुस्तक जनप्रतिनिधियों से लेकर सामान्य नागरिकों के लिए सामाजिक रूप से उपयोगी है। 50 छोटे-छोटे अध्यायों में पंचायती राज से जुड़ी विभिन्न जिज्ञासाओं व जानकारियों की सूत्र-शैली में प्रस्तुति सकारण है। इस पद्धति से सूचनाएँ सरलता से प्राप्त हो जाती हैं। जैसे ‘सूचना का अधिकार’ के अन्तर्गत पहला सूत्र है, ‘सूचना के अधिकार का अर्थ है—नागरिकों द्वारा सूचना माँगने पर सूचना मिले जिससे उसका जीवन बेहतर एवं सुरक्षित बने; इसके साथ ही सरकारी विभागों द्वारा सूचना देने का कर्तव्य।’
सरल व सुबोध भाषा में लिखित ‘हमारा पंचायती राज’ अत्यन्त जनोपयोगी पुस्तक है। Bharat ki aatma ganvon mein basti hai. Gram-vyvastha vastutः rashtr-vyvastha ki buniyad hai. Yahi karan hai ki hamare rashtrnaykon ne samajik unnyan, aarthik vikas, sanskritik pragati aur rajnitik chetna ki drishti se ganvon ko paryapt mahattv diya hai. Sabka manna hai ki bharat ke vikas ka rasta ganvon se hokar guzarta hai. Mahatma gandhi ke shram, svdeshi aur svavlamban ki karmbhumi adhikansh arth mein ganv hi hai. Prtapmal devapura dvara likhit ‘hamara panchayti raj’ pustak panchayti raaj ke prati jankari va jagrukta utpann karne hetu likhi gai hai. Pustak janapratinidhiyon se lekar samanya nagarikon ke liye samajik rup se upyogi hai. 50 chhote-chhote adhyayon mein panchayti raaj se judi vibhinn jigyasaon va jankariyon ki sutr-shaili mein prastuti sakaran hai. Is paddhati se suchnayen saralta se prapt ho jati hain. Jaise ‘suchna ka adhikar’ ke antargat pahla sutr hai, ‘suchna ke adhikar ka arth hai—nagarikon dvara suchna mangane par suchna mile jisse uska jivan behtar evan surakshit bane; iske saath hi sarkari vibhagon dvara suchna dene ka kartavya. ’
Saral va subodh bhasha mein likhit ‘hamara panchayti raj’ atyant janopyogi pustak hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products