Halant

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Halant

Halant

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हृषीकेश सुलभ के कथा संकलन ‘हलंत’ की कहानियाँ हिन्दी की यथार्थवादी कथा-परम्परा का विकास प्रस्तुत करती हैं। इन कहानियों में भारतीय समाज की परम्परा, जीवनदृष्टि, समसामयिक यथार्थ और चिन्ताओं की अभिव्यक्ति के साथ-साथ विकृतियों और विसंगतियों का भी चित्रण है। मनुष्य की सत्ता और प्रवृत्ति की भीतरी दुर्गम राहों से गुज़रते हुए भविष्य के पूर्वाभासों और संकेतों को रेखांकित करने की कलात्मक कोशिश इन कहानियों की अलग पहचान बनती है। यथार्थ के अन्त:स्तरों के बीच से ढेरों ऐसे प्रसंग स्वत:स्फूर्ति उगते चलते हैं, जो हमारे जीवन की मार्मिकता को विस्तार देते हैं। संचित अतीत की ध्वनियाँ यहाँ संवेदन का विस्तार करती हैं और इसी अतीत की समयबद्धता लाँघकर यथार्थ जीवन की विराटता को रचता है।
हृषीकेश सुलभ की कहानियाँ भाषा और शिल्प के स्तर पर नए भावबोधों के सम्प्रेषण की नई प्रविधि विकसित करती हैं। नई अर्थछवियों को उकेरने के क्रम में इन कहानियों का शिल्प पाठकों को कहीं आलाप की गहराई में उतारता है, तो कहीं लोकलय की मार्मिकता से सहज ही जोड़ देता है। जीवन के स्पन्दन को कथा-प्रसंगों में ढालती और जीवन की संवेदना को विस्तृत करती ये कहानियाँ पाठकों से आत्मीय और सघन रिश्ता बनाती हैं।
हृषीकेश सुलभ के कथा-संसार में एकान्त के साथ-साथ भीड़ की हलचल भी है। सपनों की कोमल छवियों के साथ चिलचिलाती धूप का सफ़र है। पसीजती हथेलियों की थरथराहट है, तो विश्वास से लहराते हाथों की भव्यता भी है। भावनाओं और संवेदनाओं के माध्यम से अपना आत्यन्तिक अर्थ अर्जित करती इन कहानियों में क्रूरता और प्रपंच के बीच भी जीवन का बिरवा उग आता है, जो मनुष्य की संवेदना के उत्कर्ष और जिजीविषा की उत्कटता को रेखांकित करता है। Hrishikesh sulabh ke katha sanklan ‘halant’ ki kahaniyan hindi ki yatharthvadi katha-parampra ka vikas prastut karti hain. In kahaniyon mein bhartiy samaj ki parampra, jivandrishti, samsamyik yatharth aur chintaon ki abhivyakti ke sath-sath vikritiyon aur visangatiyon ka bhi chitran hai. Manushya ki satta aur prvritti ki bhitri durgam rahon se guzarte hue bhavishya ke purvabhason aur sanketon ko rekhankit karne ki kalatmak koshish in kahaniyon ki alag pahchan banti hai. Yatharth ke ant:stron ke bich se dheron aise prsang svat:sphurti ugte chalte hain, jo hamare jivan ki marmikta ko vistar dete hain. Sanchit atit ki dhvaniyan yahan sanvedan ka vistar karti hain aur isi atit ki samaybaddhta langhakar yatharth jivan ki viratta ko rachta hai. Hrishikesh sulabh ki kahaniyan bhasha aur shilp ke star par ne bhavbodhon ke sampreshan ki nai prvidhi viksit karti hain. Nai arthachhaviyon ko ukerne ke kram mein in kahaniyon ka shilp pathkon ko kahin aalap ki gahrai mein utarta hai, to kahin loklay ki marmikta se sahaj hi jod deta hai. Jivan ke spandan ko katha-prsangon mein dhalti aur jivan ki sanvedna ko vistrit karti ye kahaniyan pathkon se aatmiy aur saghan rishta banati hain.
Hrishikesh sulabh ke katha-sansar mein ekant ke sath-sath bhid ki halchal bhi hai. Sapnon ki komal chhaviyon ke saath chilachilati dhup ka safar hai. Pasijti hatheliyon ki tharathrahat hai, to vishvas se lahrate hathon ki bhavyta bhi hai. Bhavnaon aur sanvednaon ke madhyam se apna aatyantik arth arjit karti in kahaniyon mein krurta aur prpanch ke bich bhi jivan ka birva ug aata hai, jo manushya ki sanvedna ke utkarsh aur jijivisha ki utkatta ko rekhankit karta hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products