Look Inside
Hadappa Sabhyata Aur Vaidik Sahitya
Hadappa Sabhyata Aur Vaidik Sahitya
Hadappa Sabhyata Aur Vaidik Sahitya
Hadappa Sabhyata Aur Vaidik Sahitya

Hadappa Sabhyata Aur Vaidik Sahitya

Regular price Rs. 741
Sale price Rs. 741 Regular price Rs. 797
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hadappa Sabhyata Aur Vaidik Sahitya

Hadappa Sabhyata Aur Vaidik Sahitya

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हड़प्पा सभ्यता और वैदिक साहित्य (1987) के प्रकाशन से पहले तक इतिहासकार और पुरातत्‍त्‍वविद् अपने-अपने क्षेत्रों में अर्ध-दिग्भ्रमित से प्राचीनतम इतिहास को समझने का प्रयत्न कर रहे थे और अपने साक्ष्यों से टकराते हुए ख़ुद पछाड़ खाकर गिर जाते थे। अन्तर्विरोधी दावों का ऐसा दबाव था कि उनके पक्ष में प्रमाण भी नहीं मिल रहे थे और फिर भी उनका निषेध नहीं हो पा रहा था। सच तो यह है कि न तो इतिहास को अपना पुरातत्त्‍व मिल रहा था, न पुरातत्त्‍व को अपना इतिहास। ‘हड़प्पा सभ्यता और वैदिक साहित्य’ के प्रकाशन ने इन दोनों अनुशासनों और इनके प्रमाण-पुरुषों के आत्मनिर्वासन को पहली बार पूरे अधिकार और विपुल प्रमाणों के साथ खंडित किया और उसके बाद भारतीय पुरातत्त्‍व में पुरातात्त्विक सामग्री को साहित्य से जोड़कर भी देखने का आरम्भ हुआ। इस अर्थ में इसे एक युगान्‍तरकारी कृति के रूप में स्वीकार किया गया।
इस बीच शब्दमीमांसा को आधार बनाकर भी लेखक ने ऋग्वैदिक भाषा का अध्ययन किया और साहित्यिक सन्‍दर्भ से हटकर उनके शब्दों के मूलार्थ को ग्रहण करते हुए तकनीकी शब्दावली के आधार पर अपनी स्थापनाओं की जाँच करते हुए लेखक इस निष्कर्ष पर पहुँचा कि इनसे उसकी स्थापनाओं की पुष्टि ही नहीं होती, अपितु ‘हड़प्पा सभ्यता और वैदिक साहित्य’ में प्रकाशित उसकी स्थापनाएँ आइसबर्ग के दृश्य भाग को ही प्रकट कर पाई हैं। हड़प्पा सभ्यता के लगभग सभी प्रमुख पार्थिव लक्षणों की पुष्टि तो ऋग्वेद से होती ही है, यह ऐसे अनेक उदात्त और जीवन्‍त सांस्कृतिक पक्षों का भी उद्घाटन करता है जिनकी आशा पार्थिव अवशेषों से की ही नहीं जा सकती। उसके इस अध्ययन का सार The Vedic Harappans (1995) के रूप में प्रकाशित हुआ।
इस पुस्तक के वर्तमान संस्करण में इस पक्ष का समावेश भी किया गया है जिससे इसकी सार्थकता इसके ही पूर्व संस्करणों से अधिक बढ़ जाती है। इस संस्करण को आदि से अन्त तक सम्पादित करते हुए कुछ और भी परिवर्द्धन-संशोधन किए गए हैं। हड़प्पा सभ्यता का वैभव और वैदिक साहित्य की सांस्कृतिक पृष्ठभूमि को समझने की दृष्टि से यह पुस्तक अनन्य है। Hadappa sabhyta aur vaidik sahitya (1987) ke prkashan se pahle tak itihaskar aur puratat‍‍vavid apne-apne kshetron mein ardh-digbhrmit se prachintam itihas ko samajhne ka pryatn kar rahe the aur apne sakshyon se takrate hue khud pachhad khakar gir jate the. Antarvirodhi davon ka aisa dabav tha ki unke paksh mein prman bhi nahin mil rahe the aur phir bhi unka nishedh nahin ho pa raha tha. Sach to ye hai ki na to itihas ko apna puratatt‍va mil raha tha, na puratatt‍va ko apna itihas. ‘hadappa sabhyta aur vaidik sahitya’ ke prkashan ne in donon anushasnon aur inke prman-purushon ke aatmnirvasan ko pahli baar pure adhikar aur vipul prmanon ke saath khandit kiya aur uske baad bhartiy puratatt‍va mein puratattvik samagri ko sahitya se jodkar bhi dekhne ka aarambh hua. Is arth mein ise ek yugan‍tarkari kriti ke rup mein svikar kiya gaya. Is bich shabdmimansa ko aadhar banakar bhi lekhak ne rigvaidik bhasha ka adhyyan kiya aur sahityik san‍darbh se hatkar unke shabdon ke mularth ko grhan karte hue takniki shabdavli ke aadhar par apni sthapnaon ki janch karte hue lekhak is nishkarsh par pahuncha ki inse uski sthapnaon ki pushti hi nahin hoti, apitu ‘hadappa sabhyta aur vaidik sahitya’ mein prkashit uski sthapnayen aaisbarg ke drishya bhag ko hi prkat kar pai hain. Hadappa sabhyta ke lagbhag sabhi prmukh parthiv lakshnon ki pushti to rigved se hoti hi hai, ye aise anek udatt aur jivan‍ta sanskritik pakshon ka bhi udghatan karta hai jinki aasha parthiv avsheshon se ki hi nahin ja sakti. Uske is adhyyan ka saar the vedic harappans (1995) ke rup mein prkashit hua.
Is pustak ke vartman sanskran mein is paksh ka samavesh bhi kiya gaya hai jisse iski sarthakta iske hi purv sanskarnon se adhik badh jati hai. Is sanskran ko aadi se ant tak sampadit karte hue kuchh aur bhi parivarddhan-sanshodhan kiye ge hain. Hadappa sabhyta ka vaibhav aur vaidik sahitya ki sanskritik prishthbhumi ko samajhne ki drishti se ye pustak ananya hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products