Look Inside
Gyarahvin A ke Ladke
Gyarahvin A ke Ladke
Gyarahvin A ke Ladke
Gyarahvin A ke Ladke

Gyarahvin A ke Ladke

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Gyarahvin A ke Ladke

Gyarahvin A ke Ladke

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

गौरव सोलंकी नैतिकता के रूढ़ खाँचों में अपनी गाड़ी खींचते-धकेलते लहूलुहान समाज को बहुत अलग ढंग से विचलित करते हैं। और, यह करते हुए उसी समाज में अपने और अपने हमउम्र युवाओं के होने के अर्थ को पकड़ने के लिए भाषा में कुछ नई गलियाँ निकालते हैं जो रास्तों की तरह नहीं, पड़ावों की तरह काम करती हैं। इन्हीं गलियों में निम्न-मध्यवर्गीय शहरी भारत की उदासियों की खिड़कियाँ खुलती हैं जिनसे झाँकते हुए गौरव थोड़ा गुदगुदाते हुए हमें अपने साथ घुमाते रहते हैं। वे कल्पना की कुछ नई ऊँचाइयों तक क़‍िस्सागोई को ले जाते हैं, और अक्सर सामाजिक अनुभव की उन कंदराओं में भी झाँकते हैं, जहाँ मुद्रित हिन्दी की नैतिक गुत्थियाँ अपने लेखकों को कम ही जाने देती हैं।
इस संग्रह में गौरव की छह कहानियाँ सम्मिलित हैं, लगभग हर कहानी ने सोशल मीडिया और अन्य मंचों पर एक ख़ास क़‍िस्म की हलचल पैदा की। किसी ने उन्हें अश्लील कहा, किसी ने अनैतिक, किसी ने नक़ली। लेकिन ये सभी आरोप शायद उस अपूर्व बेचैनी की प्रतिक्रिया थे, जो इन कहानियों को पढक़र होती है।
कहने का अन्‍दाज़ गौरव को सबसे अलग बनाता है, और देखने का ढंग अपने समकालीनों में सबसे विशेष। उदारीकृत भारत के छोटे शहरों और क़स्बों की नागरिक उदासी को यह युवा क़लम जितने कौशल से तस्वीरों में बदलती है, वह चमत्कृत करनेवाला है। Gaurav solanki naitikta ke rudh khanchon mein apni gadi khinchte-dhakelte lahuluhan samaj ko bahut alag dhang se vichlit karte hain. Aur, ye karte hue usi samaj mein apne aur apne hamumr yuvaon ke hone ke arth ko pakadne ke liye bhasha mein kuchh nai galiyan nikalte hain jo raston ki tarah nahin, padavon ki tarah kaam karti hain. Inhin galiyon mein nimn-madhyvargiy shahri bharat ki udasiyon ki khidakiyan khulti hain jinse jhankate hue gaurav thoda gudagudate hue hamein apne saath ghumate rahte hain. Ve kalpna ki kuchh nai uunchaiyon tak qa‍issagoi ko le jate hain, aur aksar samajik anubhav ki un kandraon mein bhi jhankate hain, jahan mudrit hindi ki naitik gutthiyan apne lekhkon ko kam hi jane deti hain. Is sangrah mein gaurav ki chhah kahaniyan sammilit hain, lagbhag har kahani ne soshal midiya aur anya manchon par ek khas qa‍ism ki halchal paida ki. Kisi ne unhen ashlil kaha, kisi ne anaitik, kisi ne naqli. Lekin ye sabhi aarop shayad us apurv bechaini ki prtikriya the, jo in kahaniyon ko padhqar hoti hai.
Kahne ka an‍daz gaurav ko sabse alag banata hai, aur dekhne ka dhang apne samkalinon mein sabse vishesh. Udarikrit bharat ke chhote shahron aur qasbon ki nagrik udasi ko ye yuva qalam jitne kaushal se tasviron mein badalti hai, vah chamatkrit karnevala hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products