Look Inside
Guzare Lamhe
Guzare Lamhe
Guzare Lamhe
Guzare Lamhe

Guzare Lamhe

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Guzare Lamhe

Guzare Lamhe

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अशोक यादव की ग़ज़लों में अनायास ही बिम्ब और सार्थक प्रतीकों का प्रयोग हो गया है। वे मुस्कुराते हैं, अपने अर्थ को ध्वनित करते हैं और इशारों में अपनी बात कहते हैं। हम सभी जानते हैं कि ग़ज़ल किसी बात को साफ़-साफ़ कहने का तरीक़ा नहीं है, बल्कि इशारों में अपनी बात कहने का मोहक अन्दाज़ है। इस अन्दाज़ से अशोक जी बख़ूबी परिचित हैं। इसलिए उनकी ग़ज़लों में लक्षणा और व्यंजना का सटीक प्रयोग पाया जाता है।
उनकी ग़ज़लें ज़‍िन्दगी की धूप में पुरवाई का वह शीतल स्पर्श हैं जिससे थके इंसान की थकान मिटती है। मिट्टी की वह सांस्कृतिक सुगन्ध हैं जो सम्पूर्ण वातावरण को अपसंस्कृति के प्रदूषण से बचाती है। आकाश का वह विस्तार हैं जो सबको अपने में समाहित करने का हौसला रखता है और सबके दिलों में पलती हुई उस आग की तरह हैं जो स्नेह और प्रेम से भरे दीपक की लौ में ज्योतित होकर जहाँ अँधेरा है, वहाँ-वहाँ प्रकाश का महोत्सव मनाती हैं और इनसानियत की पहरेदारी करती हैं।
–कुँअर बेचैन Ashok yadav ki gazlon mein anayas hi bimb aur sarthak prtikon ka pryog ho gaya hai. Ve muskurate hain, apne arth ko dhvnit karte hain aur isharon mein apni baat kahte hain. Hum sabhi jante hain ki gazal kisi baat ko saf-saf kahne ka tariqa nahin hai, balki isharon mein apni baat kahne ka mohak andaz hai. Is andaz se ashok ji bakhubi parichit hain. Isaliye unki gazlon mein lakshna aur vyanjna ka satik pryog paya jata hai. Unki gazlen za‍indagi ki dhup mein purvai ka vah shital sparsh hain jisse thake insan ki thakan mitti hai. Mitti ki vah sanskritik sugandh hain jo sampurn vatavran ko apsanskriti ke prdushan se bachati hai. Aakash ka vah vistar hain jo sabko apne mein samahit karne ka hausla rakhta hai aur sabke dilon mein palti hui us aag ki tarah hain jo sneh aur prem se bhare dipak ki lau mein jyotit hokar jahan andhera hai, vahan-vahan prkash ka mahotsav manati hain aur insaniyat ki pahredari karti hain.
–kunar bechain

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products