Gunkari Phal

Regular price Rs. 1,204
Sale price Rs. 1,204 Regular price Rs. 1,295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Gunkari Phal

Gunkari Phal

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

फल प्रकृति द्वारा इनसान को दिए गए अनुपम वरदान हैं। ये कभी ताज़े, कभी पकाकर और कभी सुखाकर खाए जाते हैं। ये क्षुधा शान्त करते हैं, तृप्ति प्रदान करते हैं। मीठी सुगन्ध और उन्नत स्वाद वाले फल चित्त को आह्लादित करते हैं।
स्वस्थ शरीर के संचालन के लिए जिन प्राकृतिक तत्त्वों की ज़रूरत है, वे हमें फलों से मिलते रहते हैं। इनके द्वारा कैल्शियम, लोहा, ताम्र, फॉस्फ़ोरस आदि खनिज लवण, चिकनाई और विटामिनों की शरीर में आपूर्ति होती रहती है। फलों को रुग्णावस्था में पथ्य रूप में खिलाया जाता है। कुछ रोगों के निवारण के लिए चिकित्सक मुख्य रूप से फलों का सेवन कराते हैं।
पैंसठ फलों का 39 रंगीन तथा 103 सादे चित्रों के साथ इस पुस्तक में परिचय दिया गया है। उनका स्वरूप, प्राप्ति-स्थान, विविध भाषाओं में उनके नाम, उनकी खेती, उनका रासायनिक संघटन, उनके गुण और उनकी पौष्टिक उपादेयता का प्रतिपादन किया गया है।
ताज़ा खाए जानेवाले लोकप्रिय फल इसमें सम्मिलित किए गए हैं जैसे—आम, अमरूद, अंगूर, चीकू, नासपाती, केला, पपीता, लीची, सन्तरा, ख़रबूजा, तरबूज़ आदि; पहाड़ी इलाक़ों में पैदा होनेवाले फल खुमानी, सेब, आड़ई, आलूबुखारा, बगूगोशा, चेरी, स्ट्रॉबेरी, आदि; बाहर के देशों से भारत में सम्प्रविष्ट किए गए फल जैसे—कीवी, एवाकाडो, दुरियन, राम्बुतान; सूखे मेवे (ड्राई फ्रूट्स), जैसे—काजू, बादाम,
अख़रोट, पिस्ता, चिलगोज़ा, किशमिश आदि। Phal prkriti dvara insan ko diye ge anupam vardan hain. Ye kabhi taze, kabhi pakakar aur kabhi sukhakar khaye jate hain. Ye kshudha shant karte hain, tripti prdan karte hain. Mithi sugandh aur unnat svad vale phal chitt ko aahladit karte hain. Svasth sharir ke sanchalan ke liye jin prakritik tattvon ki zarurat hai, ve hamein phalon se milte rahte hain. Inke dvara kailshiyam, loha, tamr, phausforas aadi khanij lavan, chiknai aur vitaminon ki sharir mein aapurti hoti rahti hai. Phalon ko rugnavastha mein pathya rup mein khilaya jata hai. Kuchh rogon ke nivaran ke liye chikitsak mukhya rup se phalon ka sevan karate hain.
Painsath phalon ka 39 rangin tatha 103 sade chitron ke saath is pustak mein parichay diya gaya hai. Unka svrup, prapti-sthan, vividh bhashaon mein unke naam, unki kheti, unka rasaynik sanghtan, unke gun aur unki paushtik upadeyta ka pratipadan kiya gaya hai.
Taza khaye janevale lokapriy phal ismen sammilit kiye ge hain jaise—am, amrud, angur, chiku, naspati, kela, papita, lichi, santra, kharbuja, tarbuz aadi; pahadi ilaqon mein paida honevale phal khumani, seb, aadii, aalubukhara, bagugosha, cheri, strauberi, aadi; bahar ke deshon se bharat mein samprvisht kiye ge phal jaise—kivi, evakado, duriyan, rambutan; sukhe meve (drai phruts), jaise—kaju, badam,
Akhrot, pista, chilgoza, kishmish aadi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products