Look Inside
Gunah Begunah
Gunah Begunah
Gunah Begunah
Gunah Begunah

Gunah Begunah

Regular price ₹ 233
Sale price ₹ 233 Regular price ₹ 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.
Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Gunah Begunah

Gunah Begunah

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारतीय समाज में ताक़त का सबसे नज़दीकी, सबसे देशी और सबसे नृशंस चेहरा—पुलिस। कोई हिन्दुस्तानी जब क़ानून कहता है तब भी और जब सरकार कहता है तब भी, उसकी आँखों के सामने कुछ ख़ाकी-सा ही रहता है। इसके बावजूद थाने की दीवारों के पीछे क्या होता है, हममें से ज़्यादातर नहीं जानते। यह उपन्यास हमें इसी दीवार के उस तरफ़ ले जाता है और उस रहस्यमय दुनिया के कुछ दहशतनाक दृश्य दिखाता है और सो भी एक महिला पुलिसकर्मी की नज़रों से।
इला जो अपने स्त्री वजूद को अर्थ देने और समाज के लिए कुछ कर गुज़रने का हौसला लेकर ख़ाकी वर्दी पहनती है, वहाँ जाकर देखती है कि वह चालाक, कुटिल लेकिन डरपोक मर्दों की दुनिया से निकलकर कुछ ऐसे मर्दों की दुनिया में आ गई है जो और भी ज़्यादा क्रूर, हिंसालोलुप और स्त्रीभक्षक हैं। ऐसे मर्द जिनके पास वर्दी और बेल्ट की ताक़त भी है, अपनी अधपढ़ मर्दाना कुंठाओं को अंजाम देने की निरंकुश निर्लज्जता भी और सरकारी तंत्र की अबूझता से भयभीत समाज की नज़रों से दूर, थाने की अँधेरी कोठरियों में मिलनेवाले रोज़-रोज़ के मौक़े भी। अपनी बेलाग और बेचैन कहन में यह उपन्यास हमें बताता है कि मनुष्यता के ख़िलाफ़ सबसे बीभत्स दृश्य कहीं दूर युद्धों के मोर्चों और परमाणु हमलों में नहीं, यहीं हमारे घरों से कुछ ही दूर, सड़क के उस पार हमारे थानों में अंजाम दिए जाते हैं। और यहाँ उन दृश्यों की साक्षी है बीसवीं सदी में पैदा हुई वह भारतीय स्त्री जिसने अपने समाज के दयनीय पिछड़ेपन के बावजूद मनुष्यता के उच्चतर सपने देखने की सोची है।
मर्दाना सत्ता की एक भीषण संरचना यानी भारतीय पुलिस के सामने उस स्त्री के सपनों को रखकर यह उपन्यास एक तरह से उसकी ताक़त को भी आजमाता है और कितनी भी पीड़ाजन्य सही, एक उजली सुबह की तरफ़ इशारा करता है। Bhartiy samaj mein taqat ka sabse nazdiki, sabse deshi aur sabse nrishans chehra—pulis. Koi hindustani jab qanun kahta hai tab bhi aur jab sarkar kahta hai tab bhi, uski aankhon ke samne kuchh khaki-sa hi rahta hai. Iske bavjud thane ki divaron ke pichhe kya hota hai, hammen se zyadatar nahin jante. Ye upanyas hamein isi divar ke us taraf le jata hai aur us rahasymay duniya ke kuchh dahashatnak drishya dikhata hai aur so bhi ek mahila puliskarmi ki nazron se. Ila jo apne stri vajud ko arth dene aur samaj ke liye kuchh kar guzarne ka hausla lekar khaki vardi pahanti hai, vahan jakar dekhti hai ki vah chalak, kutil lekin darpok mardon ki duniya se nikalkar kuchh aise mardon ki duniya mein aa gai hai jo aur bhi zyada krur, hinsalolup aur stribhakshak hain. Aise mard jinke paas vardi aur belt ki taqat bhi hai, apni adhpadh mardana kunthaon ko anjam dene ki nirankush nirlajjta bhi aur sarkari tantr ki abujhta se bhaybhit samaj ki nazron se dur, thane ki andheri kothariyon mein milnevale roz-roz ke mauqe bhi. Apni belag aur bechain kahan mein ye upanyas hamein batata hai ki manushyta ke khilaf sabse bibhats drishya kahin dur yuddhon ke morchon aur parmanu hamlon mein nahin, yahin hamare gharon se kuchh hi dur, sadak ke us paar hamare thanon mein anjam diye jate hain. Aur yahan un drishyon ki sakshi hai bisvin sadi mein paida hui vah bhartiy stri jisne apne samaj ke dayniy pichhdepan ke bavjud manushyta ke uchchtar sapne dekhne ki sochi hai.
Mardana satta ki ek bhishan sanrachna yani bhartiy pulis ke samne us stri ke sapnon ko rakhkar ye upanyas ek tarah se uski taqat ko bhi aajmata hai aur kitni bhi pidajanya sahi, ek ujli subah ki taraf ishara karta hai.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products