BackBack

Gulara Ke Baba

Markande

Rs. 125 – Rs. 300

‘गुलरा के बाबा’ संग्रह की कहानियों का समय आज़ादी के ठीक बाद का है। सामाजिक सन्दर्भों का वास्तविक चित्रण कहानियों का प्रमुख तत्त्व है। जीवन का सुख-दु:ख ही कहानियों का विषय है। भारत के नए निर्माताओं के सामने देश की वास्तविक तस्वीर कहानियों में प्रस्तुत की गई है। कहानियों में... Read More

PaperbackPaperback
HardboundHardbound
Rs. 125
readsample_tab

‘गुलरा के बाबा’ संग्रह की कहानियों का समय आज़ादी के ठीक बाद का है। सामाजिक सन्दर्भों का वास्तविक चित्रण कहानियों का प्रमुख तत्त्व है। जीवन का सुख-दु:ख ही कहानियों का विषय है। भारत के नए निर्माताओं के सामने देश की वास्तविक तस्वीर कहानियों में प्रस्तुत की गई है। कहानियों में कोमल संवेदनाएँ, लुभावनी भाषा के साथ आक्रोश से भरी तीखी सामाजिक दृष्टि भी है। गाँव के जीवन का नया धरातल इस संग्रह का प्राण है। यहाँ जीवन की वास्तविकता के साथ उसमें परिवर्तन की आकांक्षा साथ-साथ है। ‘gulra ke baba’ sangrah ki kahaniyon ka samay aazadi ke thik baad ka hai. Samajik sandarbhon ka vastvik chitran kahaniyon ka prmukh tattv hai. Jivan ka sukh-du:kha hi kahaniyon ka vishay hai. Bharat ke ne nirmataon ke samne desh ki vastvik tasvir kahaniyon mein prastut ki gai hai. Kahaniyon mein komal sanvednayen, lubhavni bhasha ke saath aakrosh se bhari tikhi samajik drishti bhi hai. Ganv ke jivan ka naya dharatal is sangrah ka pran hai. Yahan jivan ki vastavikta ke saath usmen parivartan ki aakanksha sath-sath hai.

Description

‘गुलरा के बाबा’ संग्रह की कहानियों का समय आज़ादी के ठीक बाद का है। सामाजिक सन्दर्भों का वास्तविक चित्रण कहानियों का प्रमुख तत्त्व है। जीवन का सुख-दु:ख ही कहानियों का विषय है। भारत के नए निर्माताओं के सामने देश की वास्तविक तस्वीर कहानियों में प्रस्तुत की गई है। कहानियों में कोमल संवेदनाएँ, लुभावनी भाषा के साथ आक्रोश से भरी तीखी सामाजिक दृष्टि भी है। गाँव के जीवन का नया धरातल इस संग्रह का प्राण है। यहाँ जीवन की वास्तविकता के साथ उसमें परिवर्तन की आकांक्षा साथ-साथ है। ‘gulra ke baba’ sangrah ki kahaniyon ka samay aazadi ke thik baad ka hai. Samajik sandarbhon ka vastvik chitran kahaniyon ka prmukh tattv hai. Jivan ka sukh-du:kha hi kahaniyon ka vishay hai. Bharat ke ne nirmataon ke samne desh ki vastvik tasvir kahaniyon mein prastut ki gai hai. Kahaniyon mein komal sanvednayen, lubhavni bhasha ke saath aakrosh se bhari tikhi samajik drishti bhi hai. Ganv ke jivan ka naya dharatal is sangrah ka pran hai. Yahan jivan ki vastavikta ke saath usmen parivartan ki aakanksha sath-sath hai.

Additional Information
Book Type

Paperback, Hardbound

Publisher Lokbharti Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-9352211234
Pages 139p
Publishing Year

Gulara Ke Baba

‘गुलरा के बाबा’ संग्रह की कहानियों का समय आज़ादी के ठीक बाद का है। सामाजिक सन्दर्भों का वास्तविक चित्रण कहानियों का प्रमुख तत्त्व है। जीवन का सुख-दु:ख ही कहानियों का विषय है। भारत के नए निर्माताओं के सामने देश की वास्तविक तस्वीर कहानियों में प्रस्तुत की गई है। कहानियों में कोमल संवेदनाएँ, लुभावनी भाषा के साथ आक्रोश से भरी तीखी सामाजिक दृष्टि भी है। गाँव के जीवन का नया धरातल इस संग्रह का प्राण है। यहाँ जीवन की वास्तविकता के साथ उसमें परिवर्तन की आकांक्षा साथ-साथ है। ‘gulra ke baba’ sangrah ki kahaniyon ka samay aazadi ke thik baad ka hai. Samajik sandarbhon ka vastvik chitran kahaniyon ka prmukh tattv hai. Jivan ka sukh-du:kha hi kahaniyon ka vishay hai. Bharat ke ne nirmataon ke samne desh ki vastvik tasvir kahaniyon mein prastut ki gai hai. Kahaniyon mein komal sanvednayen, lubhavni bhasha ke saath aakrosh se bhari tikhi samajik drishti bhi hai. Ganv ke jivan ka naya dharatal is sangrah ka pran hai. Yahan jivan ki vastavikta ke saath usmen parivartan ki aakanksha sath-sath hai.