BackBack
-11%

Gujrat Pakistan Se Gujrat Hindustan

Rs. 695 Rs. 619

रक्तरंजित इतिहास के उस हिंस्र और क्रूर अध्याय को क्यों तो याद करें और कैसे उसे भूल जाएँ! सदियों-सदियों के बाद देश में अवतरित होनेवाली आज़ादी हर हिन्दुस्तानी दिल में धड़कती रही थी। इस उमगती विरासत को राजनीतिक शक्तियों ने विभाजित कर देश का नया भूगोल और इतिहास बना दिया।... Read More

Description

रक्तरंजित इतिहास के उस हिंस्र और क्रूर अध्याय को क्यों तो याद करें और कैसे उसे भूल जाएँ! सदियों-सदियों के बाद देश में अवतरित होनेवाली आज़ादी हर हिन्दुस्तानी दिल में धड़कती रही थी। इस उमगती विरासत को राजनीतिक शक्तियों ने विभाजित कर देश का नया भूगोल और इतिहास बना दिया। नई सरहदें खींच दीं। सरहदों के आर-पार दौड़ती लाशों से भरी रेलगाडिय़ाँ स्टेशनों के बाहर अँधेरों में खड़ी कर दी जाती रहीं। हज़ारों-हज़ारों की भीड़ वाले क़ाफ़िले अपने ही क़दमों में गुम हो बेनाम ख़ामोशियों की धूल में जा मिले। फिर भी हर हिन्दुस्तानी के दिल में धड़कता यह अहसास था कि विभाजन के अँधेरों में उपजी 'आज़ादी' एक पवित्र शब्द है—हमारी राष्ट्रीय अस्मिता और बरकतों का प्रतीक।
बँटवारे के बाद बना पाकिस्तान उस त्रासदी से पहले जिनके लिए अपना प्यारा हिन्दुस्तान था; वे लोग, अपने ही आज़ाद मुल्क में जिनके क़दम विस्थापित शरणार्थियों के भेस में पड़े, यह उपन्यास उन उखड़े और दर-ब-दर लोगों की रूहों का अक्स है।
यही वह समय था जब भारत की आज़ादी ने एक और कहानी लिखना शुरू की, जिसका मक़सद अपने औपनिवेशिक अतीत को धोना था। ‘रियासतों का विलय’ शुरू हो रहा था। इस उपन्यास का ताल्लुक़ इतिहास के इस अध्याय से भी है।
और सबसे नज़दीकी सम्बन्ध इस कृति का उस शख़्सियत से है जिसे हम कृष्णा सोबती के नाम से जानते हैं। बँटवारे के दौरान अपने जन्म-स्थान गुजरात और लाहौर को यह कहकर कि 'याद रखना, हम यहाँ रह गए हैं', वे दिल्ली पहुँची ही थीं कि यहाँ के गुजरात ने उन्हें आवाज़ दी और अपनी स्मृतियों को सहेजते-सँभालते वे अपनी पहली नौकरी करने सिरोही पहुँच गईं, जहाँ उनमें अपने स्वतंत्र देश का नागरिक होने का अहसास जगा; व्यक्ति की ख़ुद्दारी और आत्मसम्मान को जाँचने-परखने के लिए सामन्ती ताम-झाम का एक बड़ा फलक मिला। और मिले सिरोही रियासत के दत्तक पुत्र महाराज तेज सिंह— एक बच्चा, जो भारत के अतीत, वर्तमान और भविष्य के बीच सहमा खड़ा अपनी शिक्षिका से पूछ रहा था, 'मैम, बेदख़ल का मतलब क्या होता है?’
उल्लेखनीय है कि इस उपन्यास में लगभग सभी घटनाएँ और पात्र वास्तविक हैं। Raktranjit itihas ke us hinsr aur krur adhyay ko kyon to yaad karen aur kaise use bhul jayen! sadiyon-sadiyon ke baad desh mein avatrit honevali aazadi har hindustani dil mein dhadakti rahi thi. Is umagti virasat ko rajnitik shaktiyon ne vibhajit kar desh ka naya bhugol aur itihas bana diya. Nai sarahden khinch din. Sarahdon ke aar-par daudti lashon se bhari relgadiyan steshnon ke bahar andheron mein khadi kar di jati rahin. Hazaron-hazaron ki bhid vale qafile apne hi qadmon mein gum ho benam khamoshiyon ki dhul mein ja mile. Phir bhi har hindustani ke dil mein dhadakta ye ahsas tha ki vibhajan ke andheron mein upji azadi ek pavitr shabd hai—hamari rashtriy asmita aur barakton ka prtik. Bantvare ke baad bana pakistan us trasdi se pahle jinke liye apna pyara hindustan tha; ve log, apne hi aazad mulk mein jinke qadam visthapit sharnarthiyon ke bhes mein pade, ye upanyas un ukhde aur dar-ba-dar logon ki ruhon ka aks hai.
Yahi vah samay tha jab bharat ki aazadi ne ek aur kahani likhna shuru ki, jiska maqsad apne aupaniveshik atit ko dhona tha. ‘riyaston ka vilay’ shuru ho raha tha. Is upanyas ka talluq itihas ke is adhyay se bhi hai.
Aur sabse nazdiki sambandh is kriti ka us shakhsiyat se hai jise hum krishna sobti ke naam se jante hain. Bantvare ke dauran apne janm-sthan gujrat aur lahaur ko ye kahkar ki yad rakhna, hum yahan rah ge hain, ve dilli pahunchi hi thin ki yahan ke gujrat ne unhen aavaz di aur apni smritiyon ko sahejte-sanbhalate ve apni pahli naukri karne sirohi pahunch gain, jahan unmen apne svtantr desh ka nagrik hone ka ahsas jaga; vyakti ki khuddari aur aatmsamman ko janchane-parakhne ke liye samanti tam-jham ka ek bada phalak mila. Aur mile sirohi riyasat ke dattak putr maharaj tej sinh— ek bachcha, jo bharat ke atit, vartman aur bhavishya ke bich sahma khada apni shikshika se puchh raha tha, maim, bedkhal ka matlab kya hota hai?’
Ullekhniy hai ki is upanyas mein lagbhag sabhi ghatnayen aur patr vastvik hain.