Gramsevika

Regular price Rs. 419
Sale price Rs. 419 Regular price Rs. 450
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Gramsevika

Gramsevika

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

दमयन्ती के दिल में एक आग जल रही थी। वह साहस, संघर्ष और कर्मठता का जीवन अपनाकर अपने दु:ख, निराशा और अपमान का बदला उस व्यक्ति से लेना चाहती थी, जिसने दहेज के लालच में उसे ठुकरा दिया था।
उस दिन वह ख़ुशी से चहक उठी, जब उसे नियुक्ति-पत्र मिला। उसकी ख़ुशी का एक यह भी कारण था कि उसे गाँव की औरतों की सेवा करने का मौक़ा मिला था। जब पढ़ती थी, तो उसकी यह इच्छा रही थी कि वह अपने देश के लिए, समाज के लिए कुछ करे। आज उसका सपना साकार होने चला था।
परन्तु गाँव में जाकर उसे कितना कटु अनुभव हुआ था!
उस गाँव में न कोई स्कूल था और न ही अस्पताल। रूढ़िवादी संस्कारों और अन्धविश्वासों की गिरफ़्त में छटपटाते लोग थे, जिन्हें पढ़ाई-लिखाई से नफ़रत थी। उनका विश्वास था कि पढ़ाई-लिखाई से ग़रीबी आएगी। भला अपने बच्चों को वे भिखमंगा क्यों बनाएँ? भगवान ने सबको हाथ-पैर दिए हैं। टोकरी बनाकर शहर में बेचो और पेट का गड्ढा भरो।
इस अज्ञानता के कारण गाँव के ग़रीब लोग जहाँ धर्म के ठेकेदारों के क्रिया-कलापों से आक्रान्त थे, वहीं जोंक की तरह ख़ून चूसनेवाले सूदख़ोरों के जुल्मों से उत्पीड़ित भी।
इसके बावजूद दमयन्ती ने हार नहीं मानी। अपने लक्ष्य की राह को प्रशस्त करने की दिशा में जुटी रही—कि अचानक हरिचरन के प्रवेश ने ऐसी उथल-पुथल मचाई कि उसके जीवन की दिशा ही बदल गई।
गाँवों के जीवन पर आधारित अमरकान्त का बेहद संजीदा उपन्यास है : ग्रामसेविका! लेखक ने अपने इस उपन्यास में जहाँ गाँवों के लोगों की मूलभूत समस्याओं की ओर ध्यान आकर्षित किया है, वहीं गाँव के विकास के नाम पर बिचौलियों और सरकारी अधिकारियों की लूट-खसोट को बेबाक़ी से उजागर किया है। Damyanti ke dil mein ek aag jal rahi thi. Vah sahas, sangharsh aur karmathta ka jivan apnakar apne du:kha, nirasha aur apman ka badla us vyakti se lena chahti thi, jisne dahej ke lalach mein use thukra diya tha. Us din vah khushi se chahak uthi, jab use niyukti-patr mila. Uski khushi ka ek ye bhi karan tha ki use ganv ki aurton ki seva karne ka mauqa mila tha. Jab padhti thi, to uski ye ichchha rahi thi ki vah apne desh ke liye, samaj ke liye kuchh kare. Aaj uska sapna sakar hone chala tha.
Parantu ganv mein jakar use kitna katu anubhav hua tha!
Us ganv mein na koi skul tha aur na hi asptal. Rudhivadi sanskaron aur andhvishvason ki giraft mein chhataptate log the, jinhen padhai-likhai se nafrat thi. Unka vishvas tha ki padhai-likhai se garibi aaegi. Bhala apne bachchon ko ve bhikhmanga kyon banayen? bhagvan ne sabko hath-pair diye hain. Tokri banakar shahar mein becho aur pet ka gaddha bharo.
Is agyanta ke karan ganv ke garib log jahan dharm ke thekedaron ke kriya-kalapon se aakrant the, vahin jonk ki tarah khun chusnevale sudkhoron ke julmon se utpidit bhi.
Iske bavjud damyanti ne haar nahin mani. Apne lakshya ki raah ko prshast karne ki disha mein juti rahi—ki achanak harichran ke prvesh ne aisi uthal-puthal machai ki uske jivan ki disha hi badal gai.
Ganvon ke jivan par aadharit amarkant ka behad sanjida upanyas hai : gramsevika! lekhak ne apne is upanyas mein jahan ganvon ke logon ki mulbhut samasyaon ki or dhyan aakarshit kiya hai, vahin ganv ke vikas ke naam par bichauliyon aur sarkari adhikariyon ki lut-khasot ko bebaqi se ujagar kiya hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products