Look Inside
Gram Bangla
Gram Bangla
Gram Bangla
Gram Bangla

Gram Bangla

Regular price Rs. 739
Sale price Rs. 739 Regular price Rs. 795
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Gram Bangla

Gram Bangla

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘ग्राम बांग्ला’ में सात उपन्यासिकाएँ हैं—‘ग्राम बांग्ला’, ‘सीमान्त’, ‘अँधेरे की सन्तान’, ‘राजा’, ‘स्वदेश की धूलि’, ‘लाइफर’ और ‘तेपान्तरी’। कहने को ये अलग-अलग उपन्यासिकाएँ हैं लेकिन समग्रता में ये ग्रामीण बंगाल की ताजा तस्वीर बनाती हैं। वैसे ग्रामीण बंगाल भारत के किसी ग्रामीण समाज से अलग नहीं दिखता। थोड़े-बहुत भौगोलिक-सांस्कृतिक अन्तर के बावजूद वह भारतीय ग्रामीण समाज जैसा ही लगता है। हिन्दीभाषी समाज की तो विशेष निकटता बंगाल से रही है।
समाज क्या सिर्फ़ मुख्यधारा—यानी खाते-पीते-अघाए लोगों का होता है? क्या लेखक सिर्फ़ इन्हीं के जीवन के इर्द-गिर्द ध्यान रखता रहेगा? प्रख्यात लेखिका महाश्वेता देवी के सामने स्पष्ट रहा है कि मुख्यधारा समृद्ध है, मगर संख्या में छोटी है। समाज में बृहत्तर हिस्सा हाशिए पर धकेल दिए गए लोगों का है। और, ऐसे लोग साहित्य की उपेक्षा के भी शिकार रहे हैं। इसीलिए वे समाज के सीमान्त पर बसे लोगों को अपनी संवेदना-सहानुभूति का केन्द्र बनाती हैं।
इसीलिए वे स्टेशन के फेरीवालों, आदिवासियों, छोटी जगहों के राजनीतिक कार्यकर्ताओं, सपेरों, डायन करार दी गई स्त्रियों जैसे चरित्रों एवं छोटी-छोटी संख्या वाले समुदायों पर लिखती हैं। ख़ूब लिखती हैं और कलात्मक उत्कर्ष की परवाह किए बग़ैर लिखती हैं। “अब मुझमें साहित्य के शिल्पगत उत्कर्ष का कोई आग्रह नहीं रहा।” लेकिन नई विषय-वस्तु के सन्धान का उत्साह और साहस उनमें हमेशा बरक़रार रहा।
पूरे संकलन में यह साहस दीखता है। पश्चिम बंगाल में लोकप्रिय वामपन्थी सरकार द्वारा बटाईदारों के पक्ष में चलाए गए ऑपरेशन वर्गा की असलियत वह बेहिचक सामने लाती हैं। वर्ग-संघर्ष के बारे में वे सवाल करती हैं—यह कैसा वर्ग-संघर्ष है जिसमें एक ही वर्ग के लोग एक-दूसरे के शत्रु बन रहे हैं? 'सीमान्त’ में वे कहती हैं—‘सती-साध्वी होना एक प्रकार का रोग है। एक बार पकड़ लेता है तो कभी छोड़ता नहीं।’ यह संकलन विरल लेखकीय साहस का प्रतिमान है। ‘gram bangla’ mein saat upanyasikayen hain—‘gram bangla’, ‘simant’, ‘andhere ki santan’, ‘raja’, ‘svdesh ki dhuli’, ‘laiphar’ aur ‘tepantri’. Kahne ko ye alag-alag upanyasikayen hain lekin samagrta mein ye gramin bangal ki taja tasvir banati hain. Vaise gramin bangal bharat ke kisi gramin samaj se alag nahin dikhta. Thode-bahut bhaugolik-sanskritik antar ke bavjud vah bhartiy gramin samaj jaisa hi lagta hai. Hindibhashi samaj ki to vishesh nikatta bangal se rahi hai. Samaj kya sirf mukhydhara—yani khate-pite-aghaye logon ka hota hai? kya lekhak sirf inhin ke jivan ke ird-gird dhyan rakhta rahega? prakhyat lekhika mahashveta devi ke samne spasht raha hai ki mukhydhara samriddh hai, magar sankhya mein chhoti hai. Samaj mein brihattar hissa hashiye par dhakel diye ge logon ka hai. Aur, aise log sahitya ki upeksha ke bhi shikar rahe hain. Isiliye ve samaj ke simant par base logon ko apni sanvedna-sahanubhuti ka kendr banati hain.
Isiliye ve steshan ke pherivalon, aadivasiyon, chhoti jaghon ke rajnitik karykartaon, saperon, dayan karar di gai striyon jaise charitron evan chhoti-chhoti sankhya vale samudayon par likhti hain. Khub likhti hain aur kalatmak utkarsh ki parvah kiye bagair likhti hain. “ab mujhmen sahitya ke shilpgat utkarsh ka koi aagrah nahin raha. ” lekin nai vishay-vastu ke sandhan ka utsah aur sahas unmen hamesha baraqrar raha.
Pure sanklan mein ye sahas dikhta hai. Pashchim bangal mein lokapriy vampanthi sarkar dvara bataidaron ke paksh mein chalaye ge aupreshan varga ki asaliyat vah behichak samne lati hain. Varg-sangharsh ke bare mein ve saval karti hain—yah kaisa varg-sangharsh hai jismen ek hi varg ke log ek-dusre ke shatru ban rahe hain? simant’ mein ve kahti hain—‘sati-sadhvi hona ek prkar ka rog hai. Ek baar pakad leta hai to kabhi chhodta nahin. ’ ye sanklan viral lekhkiy sahas ka pratiman hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products