Look Inside
Goshalak
Goshalak
Goshalak
Goshalak

Goshalak

Regular price Rs. 248
Sale price Rs. 248 Regular price Rs. 267
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Goshalak

Goshalak

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

वैदिक ही नहीं, बौद्ध और जैन दर्शनों को भी चुनौती देनेवाले गोशालक बुद्ध और महावीर के समकालीन थे। स्वभाव से विद्रोही और आचरण में तर्क तथा नवाचार की उँगली थामकर नई राहों का अन्वेषण करनेवाले गोशालक के विषय में कहा जाता है कि अपने समय में उनके अनुयायियों की संख्या बुद्ध से भी ज़्यादा थी। जनसाधारण में उनका विशेष आदर था।
एक ख़ानाबदोश जाति के निर्धन परिवार में जन्मे गोशालक ने आध्यात्मिकता के प्रति अपने जन्‍मजात रुझान के चलते युवावस्था के दौरान सात वर्ष भगवान महावीर के सान्निध्य में तपस्या की। लेकिन बाद में महावीर से उनके गहरे मतभेद हुए और महावीर के पुरुषार्थ के सिद्धान्त के मुक़ाबले उन्होंने नियतिवाद को स्थापित किया। कहते हैं कि महावीर से उनका विरोध इस हद तक बढ़ा कि अपनी सिद्धियों में उन्होंने महावीर पर प्राणघातक हमले भी किए, हालाँकि जीवन के अन्तिम क्षणों में उन्हें इस पर गहरा पश्चात्ताप भी हुआ जिसके प्रमाण जैन ग्रन्थों में पर्याप्त रूप में उपलब्ध हैं।
लेकिन जैन-मत के साथ बौद्ध ग्रन्थों में भी उनकी निन्दा अधिक मिलती है जहाँ न सिर्फ़ उनके विचारों की कड़ी आलोचना की गई बल्कि उनके चरित्र-हनन का भी प्रयास किया गया।
यह उपन्यास आजीवक गोशालक के बारे में सम्भवतः पहली रचना है जिनके बारे में अनेक पाठकों ने शायद कभी सुना भी नहीं होगा। आत्मकथात्मक शैली में निबद्ध यह कृति न सिर्फ़ गोशालक के जीवन-चरित्र को तमाम रंगों के साथ चित्रित करती है, बल्कि उन भ्रांतियों को भी दूर करती है जिनके आधार पर उस नवोन्मेषकारी विचारक को एक खलनायक के रूप में प्रस्तुत किया जाता है। Vaidik hi nahin, bauddh aur jain darshnon ko bhi chunauti denevale goshalak buddh aur mahavir ke samkalin the. Svbhav se vidrohi aur aachran mein tark tatha navachar ki ungali thamkar nai rahon ka anveshan karnevale goshalak ke vishay mein kaha jata hai ki apne samay mein unke anuyayiyon ki sankhya buddh se bhi zyada thi. Jansadharan mein unka vishesh aadar tha. Ek khanabdosh jati ke nirdhan parivar mein janme goshalak ne aadhyatmikta ke prati apne jan‍majat rujhan ke chalte yuvavastha ke dauran saat varsh bhagvan mahavir ke sannidhya mein tapasya ki. Lekin baad mein mahavir se unke gahre matbhed hue aur mahavir ke purusharth ke siddhant ke muqable unhonne niyativad ko sthapit kiya. Kahte hain ki mahavir se unka virodh is had tak badha ki apni siddhiyon mein unhonne mahavir par pranghatak hamle bhi kiye, halanki jivan ke antim kshnon mein unhen is par gahra pashchattap bhi hua jiske prman jain granthon mein paryapt rup mein uplabdh hain.
Lekin jain-mat ke saath bauddh granthon mein bhi unki ninda adhik milti hai jahan na sirf unke vicharon ki kadi aalochna ki gai balki unke charitr-hanan ka bhi pryas kiya gaya.
Ye upanyas aajivak goshalak ke bare mein sambhvatः pahli rachna hai jinke bare mein anek pathkon ne shayad kabhi suna bhi nahin hoga. Aatmakthatmak shaili mein nibaddh ye kriti na sirf goshalak ke jivan-charitr ko tamam rangon ke saath chitrit karti hai, balki un bhrantiyon ko bhi dur karti hai jinke aadhar par us navonmeshkari vicharak ko ek khalnayak ke rup mein prastut kiya jata hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products