Look Inside
Gorakhnath : Jeevan Aur Darshan
Gorakhnath : Jeevan Aur Darshan
Gorakhnath : Jeevan Aur Darshan
Gorakhnath : Jeevan Aur Darshan

Gorakhnath : Jeevan Aur Darshan

Regular price Rs. 302
Sale price Rs. 302 Regular price Rs. 325
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Gorakhnath : Jeevan Aur Darshan

Gorakhnath : Jeevan Aur Darshan

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

महायोगी गोरखनाथ नौवीं-दसवीं शताब्दी में अवतरित हुए। उन्होंने पतंजलि के योगसूत्रों के आधार पर अपनी योग-साधना का प्रतिपादन किया तथा स्वयं उसकी साधना से सिद्धि प्राप्त की थी। बुद्ध के बाद गोरखनाथ ही भारत में सच्चे लोकनायक हुए। उनका प्रभाव राजमहल से झोपड़ियों तक पड़ा था। अछूत और अन्त्यज के लिए उन्होंने अपने पंथ का द्वार खोल दिया था। कई महत्त्वपूर्ण योगी ऐसी ही जातियों से निकले और बहुत से अन्य धर्मावलम्बी भी योगमार्ग पर अग्रसर हुए। इस प्रकार उन्होंने जाति, पन्थ और सम्प्रदाय की रूढ़ियों को तोड़कर सामाजिक समरसता का मार्ग प्रशस्त किया। साथ ही ब्रह्मचर्य, वैराग्य और साधना द्वारा योगमार्ग को प्रशस्त किया।
उनका प्रभाव, उनके समय से लेकर सोलहवीं शताब्दी तक के समाज और साहित्य पर सम्पूर्ण भारत में पड़ा। उनके क्रियात्मक योग की प्रक्रिया और शब्दावली आदि का सभी भाषाओं के सन्त कवियों और सूफ़ी कवियों ने प्रयोग किया है। गोरखनाथ के योग का जादू को आज सारा विश्व स्वीकर कर रहा है। योग शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक उन्नति का मार्ग प्रशस्त करता है। यह योग आज के विश्व-मानव समाज के लिए महायोगी गोरखनाथ की अमूल्य देन है। Mahayogi gorakhnath nauvin-dasvin shatabdi mein avatrit hue. Unhonne patanjali ke yogsutron ke aadhar par apni yog-sadhna ka pratipadan kiya tatha svayan uski sadhna se siddhi prapt ki thi. Buddh ke baad gorakhnath hi bharat mein sachche loknayak hue. Unka prbhav rajamhal se jhopadiyon tak pada tha. Achhut aur antyaj ke liye unhonne apne panth ka dvar khol diya tha. Kai mahattvpurn yogi aisi hi jatiyon se nikle aur bahut se anya dharmavlambi bhi yogmarg par agrsar hue. Is prkar unhonne jati, panth aur samprday ki rudhiyon ko todkar samajik samarasta ka marg prshast kiya. Saath hi brahmcharya, vairagya aur sadhna dvara yogmarg ko prshast kiya. Unka prbhav, unke samay se lekar solahvin shatabdi tak ke samaj aur sahitya par sampurn bharat mein pada. Unke kriyatmak yog ki prakriya aur shabdavli aadi ka sabhi bhashaon ke sant kaviyon aur sufi kaviyon ne pryog kiya hai. Gorakhnath ke yog ka jadu ko aaj sara vishv svikar kar raha hai. Yog sharirik, mansik aur aadhyatmik unnati ka marg prshast karta hai. Ye yog aaj ke vishv-manav samaj ke liye mahayogi gorakhnath ki amulya den hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products