Gora

Rs. 795

भारतीय मनीषा के आधुनिक महानायक रवीन्द्रनाथ ठाकुर ने ‘गोरा’ की रचना एक शताब्दी पहले की थी और यह उपन्यास भारतीय साहित्य की पिछली पूरी शताब्दी के भीतर मौजूद जीवन-रेखाओं के भीतरी परिदृश्य की सबसे प्रामाणिक पहचान बना रहा। वर्तमान विश्व के तेज़ी से घूमते चक्र में जब एक बार फिर... Read More

BlackBlack
Description

भारतीय मनीषा के आधुनिक महानायक रवीन्द्रनाथ ठाकुर ने ‘गोरा’ की रचना एक शताब्दी पहले की थी और यह उपन्यास भारतीय साहित्य की पिछली पूरी शताब्दी के भीतर मौजूद जीवन-रेखाओं के भीतरी परिदृश्य की सबसे प्रामाणिक पहचान बना रहा। वर्तमान विश्व के तेज़ी से घूमते चक्र में जब एक बार फिर सभी महाद्वीपों के समाज इस प्राचीन राष्ट्र की ज्ञान-गरिमा, चिन्तन-परम्परा तथा विवेक पर आधारित नव-सृजन-शक्ति की ओर आशा-भरी दृष्टि घुमा रहे हैं, तो ‘गोरा’ की ऊर्जस्वी चेतना की प्रासंगिकता नए सिरे से अपनी विश्वसनीयता अर्जित कर रही है।
आज हम भारतीय साहित्य की परिकल्पना को लेकर जिस आत्म-संघर्ष से गुज़र रहे हें, उसे रवीन्द्रनाथ के विचारों और उनके ‘गोरा’ के सहारे प्रत्यक्ष करने का प्रयास किया जा सकता है। ‘गोरा’ की भाषिक संरचना और इसकी सांस्कृतिक चेतना भारतीय साहित्य की अवधारणा के नितान्त अनुकूल हैं। इस उपन्यास में रवीन्द्रनाथ ने पश्चिम बंग की साधु बांग्ला, पूर्वी बांग्ला (वर्तमान बांग्लादेश) की बंगाल-भाषा, लोक में व्यवहृत बांग्ला के विविध रूपों, प्राचीन पारम्परीण शब्दों, सांस्कृतिक शब्दावली, नव-निर्मित शब्दावली आदि का समन्वय करके एक बहुत अर्थगर्भी कथा-भाषा का व्यवहार किया है। भौगोलिक शब्दावली के लोक प्रचलित रूप भी ‘गोरा’ की कथा-भाषा की सम्पत्ति हैं। इसी के साथ रवीन्द्रनाथ ने ‘गोरा’ में अपनी कविता और गीत पंक्तियों तथा बाउल गीतों व लोकगीतों की पंक्तियों का प्रयोग भी किया है। अनुवाद करते समय कथा-भाषा तथा प्रयोगों के इस वैशिष्ट्य को महत्त्व दिया गया है।
‘गोरा’ में कितने ही ऐसे विभिन्न कोटियों के शब्द और प्रयोग हैं, जिनके सांस्कृतिक, भौगोलिक, ऐतिहासिक और लोकजीवन के दैनिक प्रयोगों से जुड़े सन्दर्भों को जाने बिना ‘गोरा’ का मूल पाठ नहीं समझा जा सकता। अनुवाद में इनके प्रयोग के साथ ही पाद-टिप्पणियों में इनकी व्याख्या कर दी गई है।
अब तक देशी या विदेशी भाषाओं में ‘गोरा’ के जितने भी अनुवाद हुए हैं, उनमें से किसी में भी यह विशेषता मौजूद नहीं है।...और यह ‘गोरा’ का अब तक का सबसे प्रामाणिक अनुवाद है। Bhartiy manisha ke aadhunik mahanayak ravindrnath thakur ne ‘gora’ ki rachna ek shatabdi pahle ki thi aur ye upanyas bhartiy sahitya ki pichhli puri shatabdi ke bhitar maujud jivan-rekhaon ke bhitri paridrishya ki sabse pramanik pahchan bana raha. Vartman vishv ke tezi se ghumte chakr mein jab ek baar phir sabhi mahadvipon ke samaj is prachin rashtr ki gyan-garima, chintan-parampra tatha vivek par aadharit nav-srijan-shakti ki or aasha-bhari drishti ghuma rahe hain, to ‘gora’ ki uurjasvi chetna ki prasangikta ne sire se apni vishvasniyta arjit kar rahi hai. Aaj hum bhartiy sahitya ki parikalpna ko lekar jis aatm-sangharsh se guzar rahe hen, use ravindrnath ke vicharon aur unke ‘gora’ ke sahare pratyaksh karne ka pryas kiya ja sakta hai. ‘gora’ ki bhashik sanrachna aur iski sanskritik chetna bhartiy sahitya ki avdharna ke nitant anukul hain. Is upanyas mein ravindrnath ne pashchim bang ki sadhu bangla, purvi bangla (vartman bangladesh) ki bangal-bhasha, lok mein vyavhrit bangla ke vividh rupon, prachin paramprin shabdon, sanskritik shabdavli, nav-nirmit shabdavli aadi ka samanvay karke ek bahut arthgarbhi katha-bhasha ka vyavhar kiya hai. Bhaugolik shabdavli ke lok prachlit rup bhi ‘gora’ ki katha-bhasha ki sampatti hain. Isi ke saath ravindrnath ne ‘gora’ mein apni kavita aur git panktiyon tatha baul giton va lokgiton ki panktiyon ka pryog bhi kiya hai. Anuvad karte samay katha-bhasha tatha pryogon ke is vaishishtya ko mahattv diya gaya hai.
‘gora’ mein kitne hi aise vibhinn kotiyon ke shabd aur pryog hain, jinke sanskritik, bhaugolik, aitihasik aur lokjivan ke dainik pryogon se jude sandarbhon ko jane bina ‘gora’ ka mul path nahin samjha ja sakta. Anuvad mein inke pryog ke saath hi pad-tippaniyon mein inki vyakhya kar di gai hai.
Ab tak deshi ya videshi bhashaon mein ‘gora’ ke jitne bhi anuvad hue hain, unmen se kisi mein bhi ye visheshta maujud nahin hai. . . . Aur ye ‘gora’ ka ab tak ka sabse pramanik anuvad hai.