BackBack
-11%

Globe Ke Bahar Ladki

Rs. 160 Rs. 142

प्रत्यक्षा की कहानियों में जितनी कविता होती है, कविताओं में उतनी ही कहानी भी होती है। विधाओं का पारम्‍परिक अनुशासन तोड़कर वे एक ऐसी अभिव्यक्ति रचती हैं जिसमें कविता की तरलता भी होती है और गद्य की गहनता भी। यह अनुशासन वे किसी शौक या दिखावे के लिए नहीं, कुछ... Read More

BlackBlack
Description

प्रत्यक्षा की कहानियों में जितनी कविता होती है, कविताओं में उतनी ही कहानी भी होती है। विधाओं का पारम्‍परिक अनुशासन तोड़कर वे एक ऐसी अभिव्यक्ति रचती हैं जिसमें कविता की तरलता भी होती है और गद्य की गहनता भी। यह अनुशासन वे किसी शौक या दिखावे के लिए नहीं, कुछ ऐसा कह पाने के लिए तोड़ती हैं जिसे किसी एक विधा में ठीक-ठीक कह पाना सम्‍भव नहीं। हिन्‍दी में गद्य कविताओं का सिलसिला पुराना है, लेकिन ज़्यादातर कवियों के यहाँ वे एक शौकिया विचलन की तरह दिखती हैं, जबकि प्रत्यक्षा का जैसे घर ही इन्हीं में बसता है। उनका अतीत, उनका वर्तमान, उनके रिश्ते-नाते, उनके जिए हुए दिन, उनके किए हुए सफ़र, सफ़र में मिले दोस्त, उस दौरान लगी प्यास, कहीं सुना हुआ संगीत, माँ की याद—यह सब इन कविताओं में कुछ इस स्वाभाविकता से चले आते हैं जैसे लगता है कि रचना के स्थापत्य में इनकी जगह तो पहले से तय थी। फिर वह स्थापत्य भी इतना अनगढ़ है कि पढ़नेवाला क़दम-क़दम पर हैरान हो। प्रत्यक्षा की रचना के परिसर में घूमना एक ऐसे घर में घूमना है जिसमें दीवारें पारदर्शी हैं, जिसके आँगन में धरती-आसमान दोनों बसते हैं, जिसके कमरे अतीत और वर्तमान की कसी हुई रस्सी से बने हैं, जहाँ ढेर सारे लोग बिल्कुल अपनी ज़‍िन्‍दा गंध और आवाज़ों-पदचापों के साथ आते-जाते घूमते रहते हैं। हिन्‍दी की इस विलक्षण लेखिका की यह कृति इस मायने में भी विलक्षण है कि अपने पाठक को वह रचना का एक बिल्कुल नया आस्वाद सुलभ कराती है—जिससे गुजऱते हुए पाठक भी अपने-आप को बदला हुआ पाता है। यह वह तिलिस्मी मकान है जिससे निकलकर आप पाते हैं कि दुनिया आपके लिए कुछ और हो गई है। यह पुस्तक प्रत्यक्षा की रचनाशीलता का ही नहीं, हिन्‍दी लेखन का भी एक प्रस्थान बिन्‍दु है।
—प्रियदर्शन Pratyaksha ki kahaniyon mein jitni kavita hoti hai, kavitaon mein utni hi kahani bhi hoti hai. Vidhaon ka param‍parik anushasan todkar ve ek aisi abhivyakti rachti hain jismen kavita ki taralta bhi hoti hai aur gadya ki gahanta bhi. Ye anushasan ve kisi shauk ya dikhave ke liye nahin, kuchh aisa kah pane ke liye todti hain jise kisi ek vidha mein thik-thik kah pana sam‍bhav nahin. Hin‍di mein gadya kavitaon ka silasila purana hai, lekin zyadatar kaviyon ke yahan ve ek shaukiya vichlan ki tarah dikhti hain, jabaki pratyaksha ka jaise ghar hi inhin mein basta hai. Unka atit, unka vartman, unke rishte-nate, unke jiye hue din, unke kiye hue safar, safar mein mile dost, us dauran lagi pyas, kahin suna hua sangit, man ki yad—yah sab in kavitaon mein kuchh is svabhavikta se chale aate hain jaise lagta hai ki rachna ke sthapatya mein inki jagah to pahle se tay thi. Phir vah sthapatya bhi itna angadh hai ki padhnevala qadam-qadam par hairan ho. Pratyaksha ki rachna ke parisar mein ghumna ek aise ghar mein ghumna hai jismen divaren pardarshi hain, jiske aangan mein dharti-asman donon baste hain, jiske kamre atit aur vartman ki kasi hui rassi se bane hain, jahan dher sare log bilkul apni za‍in‍da gandh aur aavazon-padchapon ke saath aate-jate ghumte rahte hain. Hin‍di ki is vilakshan lekhika ki ye kriti is mayne mein bhi vilakshan hai ki apne pathak ko vah rachna ka ek bilkul naya aasvad sulabh karati hai—jisse gujarte hue pathak bhi apne-ap ko badla hua pata hai. Ye vah tilismi makan hai jisse nikalkar aap pate hain ki duniya aapke liye kuchh aur ho gai hai. Ye pustak pratyaksha ki rachnashilta ka hi nahin, hin‍di lekhan ka bhi ek prasthan bin‍du hai. —priydarshan