Look Inside
Gita
Gita
Gita
Gita

Gita

Regular price Rs. 84
Sale price Rs. 84 Regular price Rs. 90
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Gita

Gita

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘गीता’ शीर्षक यह उपन्यास पहले ‘पार्टी कामरेड’ नाम से प्रकाशित हुआ था। इसके केन्द्र में गीता नामक एक कम्युनिस्ट युवती है जो पार्टी के प्रचार के लिए उसका अख़बार बम्बई की सड़कों पर बेचती है और पार्टी के लिए फंड इकट्ठा करती है। पार्टी के प्रति समर्पित निष्ठावान गीता पार्टी के काम के सिलसिले में अनेक लोगों के सम्पर्क में आती है। इन्हीं में से एक पदमलाल भावरिया भी है जो पैसे के बल पर युवतियों को फँसाता है। उसके साथी एक दिन उसे अख़बार बेचती गीता को दिखाकर फँसाने की चुनौती देते हैं। गीता और भावरिया का लम्बा सम्पर्क अन्ततः भावरिया को ही बदल देता है।
अपने अन्य उपन्यासों की तरह इस उपन्यास में भी यशपाल देश की राजनीति और उसके नेताओं के चारित्रिक अन्तर्विरोधों को व्यंग्यात्मक शैली में उद्घाटित करते हैं। उपन्यास में कम्यून जीवन का बड़ा विश्वसनीय अंकन हुआ है जिसके कारण इस उपन्यास का ऐतिहासिक महत्त्व है। इसके लिए काफ़ी समय तक यशपाल मुम्बई में स्वयं कम्यून में रहे थे। अपने ऊपर लगाए गए प्रचार के आरोप का उत्तर देते हुए यशपाल उपन्यास की भूमिका में संकेत करते हैं कि वास्तविकता को दर्पण दिखाना भी प्रचार के अन्तर्गत आ सकता है या नहीं, यह विचारणीय है। ‘gita’ shirshak ye upanyas pahle ‘parti kamred’ naam se prkashit hua tha. Iske kendr mein gita namak ek kamyunist yuvti hai jo parti ke prchar ke liye uska akhbar bambii ki sadkon par bechti hai aur parti ke liye phand ikattha karti hai. Parti ke prati samarpit nishthavan gita parti ke kaam ke silasile mein anek logon ke sampark mein aati hai. Inhin mein se ek padamlal bhavariya bhi hai jo paise ke bal par yuvatiyon ko phansata hai. Uske sathi ek din use akhbar bechti gita ko dikhakar phansane ki chunauti dete hain. Gita aur bhavariya ka lamba sampark antatः bhavariya ko hi badal deta hai. Apne anya upanyason ki tarah is upanyas mein bhi yashpal desh ki rajniti aur uske netaon ke charitrik antarvirodhon ko vyangyatmak shaili mein udghatit karte hain. Upanyas mein kamyun jivan ka bada vishvasniy ankan hua hai jiske karan is upanyas ka aitihasik mahattv hai. Iske liye kafi samay tak yashpal mumbii mein svayan kamyun mein rahe the. Apne uupar lagaye ge prchar ke aarop ka uttar dete hue yashpal upanyas ki bhumika mein sanket karte hain ki vastavikta ko darpan dikhana bhi prchar ke antargat aa sakta hai ya nahin, ye vicharniy hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products