Look Inside
Ghar Ka Rasta
Ghar Ka Rasta
Ghar Ka Rasta
Ghar Ka Rasta

Ghar Ka Rasta

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Ghar Ka Rasta

Ghar Ka Rasta

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मंगलेश डबराल की कविता में रोज़मर्रा ज़िन्दगी के संघर्ष की अनेक अनुगूँजें और घर-गाँव और पुरखों की अनेक ऐसी स्मृतियाँ हैं जो विचलित करती हैं। हमारे समय की तिक्तता और मानवीय संवेदनों के प्रति घनघोर उदासीनता के माहौल से ही उपजा है उनकी कविता का दु:ख। यह दु:ख मूल्यवान है क्योंकि इसमें बहुत कुछ बचाने की चेष्टा है। कविता की एक भूमिका निश्चय ही आदमी के उन ऐन्द्रीय और भावात्मक संवेदनों को सहेजने की भी है जिन्हें आज की अधकचरी और कभी-कभी तो मनुष्य-विरोधी राजनीति और एक बढ़ती हुई व्यावसायिक दृष्टि लगातार नष्ट कर रही है।
प्रकृति के साथ मनुष्य के सम्बन्धों पर भी एक हिसाबी-किताबी दृष्टि का ही क़ब्ज़ा होता जा रहा है। मंगलेश की कविता पेड़ को ‘करोड़ों चिड़ियों की नींद’ से जोड़ती हुई जैसे इस तरह के क़ब्ज़े के ख़िलाफ़ ही खड़ी है। महानगर में रहते हुए मंगलेश का ध्यान जूझती हुई गृहस्थिन की दिनचर्या, बेकार युवकों और चीज़ों के लिए तरसते बच्चों से लेकर दूर गाँव में इन्तज़ार करते पिता, नदी, खेतों और ‘बर्फ़ झाड़ते पेड़’ तक पर टिका है। उनकी नज़र उस अघाए हुए वर्ग के बीच जाकर बेचैन हो जाती है जो सब कुछ को बाज़ार-भाव के हवाले करने पर तुला है।
मंगलेश की कविता के शब्द करुण संगीत से भरे हुए हैं। इनमें एक पारदर्शी ईमानदारी और आत्मिक चमक है। लेकिन उनकी कविता अगर हमारे समय का एक शोकगीत है तो आदमी की जिजीविषा की टंकार भी हम उसमें सुनते हैं और उसमें स्वयं अपनी निजी स्थिति का एक साक्षात्कार भी है। बहुत सामान्य-सी लगनेवाली चीज़ों का मर्म भी मंगलेश की कविता इस तरह खोलती है कि उसमें से एक पूरी दुनिया झाँकने लगती है। ‘माचिस की तीली बराबर रोशनी’ इसी तरह की एक पंक्ति है।
दरअसल ‘घर का रास्ता’ की एक से दूसरी कविता तक हमें अनुभवों, बिम्बों और जीवन-स्थितियों का एक ऐसा संसार मिलेगा कि हम रह-रहकर पहचानेंगे कि यह तो हमारा कितना अपना है।
—प्रयाग शुक्ल Manglesh dabral ki kavita mein rozmarra zindagi ke sangharsh ki anek anugunjen aur ghar-ganv aur purkhon ki anek aisi smritiyan hain jo vichlit karti hain. Hamare samay ki tiktta aur manviy sanvednon ke prati ghanghor udasinta ke mahaul se hi upja hai unki kavita ka du:kha. Ye du:kha mulyvan hai kyonki ismen bahut kuchh bachane ki cheshta hai. Kavita ki ek bhumika nishchay hi aadmi ke un aindriy aur bhavatmak sanvednon ko sahejne ki bhi hai jinhen aaj ki adhakachri aur kabhi-kabhi to manushya-virodhi rajniti aur ek badhti hui vyavsayik drishti lagatar nasht kar rahi hai. Prkriti ke saath manushya ke sambandhon par bhi ek hisabi-kitabi drishti ka hi qabza hota ja raha hai. Manglesh ki kavita ped ko ‘karodon chidiyon ki nind’ se jodti hui jaise is tarah ke qabze ke khilaf hi khadi hai. Mahangar mein rahte hue manglesh ka dhyan jujhti hui grihasthin ki dincharya, bekar yuvkon aur chizon ke liye taraste bachchon se lekar dur ganv mein intzar karte pita, nadi, kheton aur ‘barf jhadte ped’ tak par tika hai. Unki nazar us aghaye hue varg ke bich jakar bechain ho jati hai jo sab kuchh ko bazar-bhav ke havale karne par tula hai.
Manglesh ki kavita ke shabd karun sangit se bhare hue hain. Inmen ek pardarshi iimandari aur aatmik chamak hai. Lekin unki kavita agar hamare samay ka ek shokgit hai to aadmi ki jijivisha ki tankar bhi hum usmen sunte hain aur usmen svayan apni niji sthiti ka ek sakshatkar bhi hai. Bahut samanya-si lagnevali chizon ka marm bhi manglesh ki kavita is tarah kholti hai ki usmen se ek puri duniya jhankane lagti hai. ‘machis ki tili barabar roshni’ isi tarah ki ek pankti hai.
Darasal ‘ghar ka rasta’ ki ek se dusri kavita tak hamein anubhvon, bimbon aur jivan-sthitiyon ka ek aisa sansar milega ki hum rah-rahkar pahchanenge ki ye to hamara kitna apna hai.
—pryag shukl

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products