BackBack

Gayasur Sandhan

Rs. 199 Rs. 189

विश्व आस्था के जुड़वाँ नगर गया-बोधगया पर केन्द्रित 'गयासुर संधान’ कथ्य और शैली में युगान्तरकारी ध्वनि का एक ऐसा उपन्यास है जिसमें कल्पना, इतिहास, लोककथा, दन्तकथा, मिथक और यथार्थ का अद्भुत रोमांचक मिश्रण है। रहस्यमय और संक्रामक! 'गयासुर संधान’ की कथा बताती है कि अनैतिक कामनाएँ-एषणाएँ अन्तत: कैसे भस्म होती... Read More

readsample_tab

विश्व आस्था के जुड़वाँ नगर गया-बोधगया पर केन्द्रित 'गयासुर संधान’ कथ्य और शैली में युगान्तरकारी ध्वनि का एक ऐसा उपन्यास है जिसमें कल्पना, इतिहास, लोककथा, दन्तकथा, मिथक और यथार्थ का अद्भुत रोमांचक मिश्रण है। रहस्यमय और संक्रामक!
'गयासुर संधान’ की कथा बताती है कि अनैतिक कामनाएँ-एषणाएँ अन्तत: कैसे भस्म होती हैं। गयासुर के शरीर पर बसे होने की मान्यतावाली इस प्राचीन नगरी में सदैव से यह अटल आस्था है कि कामनामुक्त व्यक्ति के लिए ही यहाँ आश्रय है। अनर्गल कामना का परिताप, बन्धन और व्यसन इस जुड़वाँ नगरी को सहन नहीं। गया के कण-कण में इहकाल-परकाल और जन्म-जन्मान्तर का महाशून्य अपने परम औघड़ भाव में विन्यस्त है।
भारत की पौराणिक आख्यायिका, परम्परा, संस्कार, दर्शन और चिन्तन के अर्क से निर्मित 'गयासुर संधान’ एक ऐसी गहन कृति है, जो स्वदेशानुराग की महागाथा के संग-संग मनुष्य के लिए रोमांचक सत्यार्थ प्रकाश है। Vishv aastha ke judvan nagar gaya-bodhagya par kendrit gayasur sandhan’ kathya aur shaili mein yugantarkari dhvani ka ek aisa upanyas hai jismen kalpna, itihas, lokaktha, dantaktha, mithak aur yatharth ka adbhut romanchak mishran hai. Rahasymay aur sankramak!Gayasur sandhan’ ki katha batati hai ki anaitik kamnayen-eshnayen antat: kaise bhasm hoti hain. Gayasur ke sharir par base hone ki manytavali is prachin nagri mein sadaiv se ye atal aastha hai ki kamnamukt vyakti ke liye hi yahan aashray hai. Anargal kamna ka paritap, bandhan aur vysan is judvan nagri ko sahan nahin. Gaya ke kan-kan mein ihkal-parkal aur janm-janmantar ka mahashunya apne param aughad bhav mein vinyast hai.
Bharat ki pauranik aakhyayika, parampra, sanskar, darshan aur chintan ke ark se nirmit gayasur sandhan’ ek aisi gahan kriti hai, jo svdeshanurag ki mahagatha ke sang-sang manushya ke liye romanchak satyarth prkash hai.

Description

विश्व आस्था के जुड़वाँ नगर गया-बोधगया पर केन्द्रित 'गयासुर संधान’ कथ्य और शैली में युगान्तरकारी ध्वनि का एक ऐसा उपन्यास है जिसमें कल्पना, इतिहास, लोककथा, दन्तकथा, मिथक और यथार्थ का अद्भुत रोमांचक मिश्रण है। रहस्यमय और संक्रामक!
'गयासुर संधान’ की कथा बताती है कि अनैतिक कामनाएँ-एषणाएँ अन्तत: कैसे भस्म होती हैं। गयासुर के शरीर पर बसे होने की मान्यतावाली इस प्राचीन नगरी में सदैव से यह अटल आस्था है कि कामनामुक्त व्यक्ति के लिए ही यहाँ आश्रय है। अनर्गल कामना का परिताप, बन्धन और व्यसन इस जुड़वाँ नगरी को सहन नहीं। गया के कण-कण में इहकाल-परकाल और जन्म-जन्मान्तर का महाशून्य अपने परम औघड़ भाव में विन्यस्त है।
भारत की पौराणिक आख्यायिका, परम्परा, संस्कार, दर्शन और चिन्तन के अर्क से निर्मित 'गयासुर संधान’ एक ऐसी गहन कृति है, जो स्वदेशानुराग की महागाथा के संग-संग मनुष्य के लिए रोमांचक सत्यार्थ प्रकाश है। Vishv aastha ke judvan nagar gaya-bodhagya par kendrit gayasur sandhan’ kathya aur shaili mein yugantarkari dhvani ka ek aisa upanyas hai jismen kalpna, itihas, lokaktha, dantaktha, mithak aur yatharth ka adbhut romanchak mishran hai. Rahasymay aur sankramak!Gayasur sandhan’ ki katha batati hai ki anaitik kamnayen-eshnayen antat: kaise bhasm hoti hain. Gayasur ke sharir par base hone ki manytavali is prachin nagri mein sadaiv se ye atal aastha hai ki kamnamukt vyakti ke liye hi yahan aashray hai. Anargal kamna ka paritap, bandhan aur vysan is judvan nagri ko sahan nahin. Gaya ke kan-kan mein ihkal-parkal aur janm-janmantar ka mahashunya apne param aughad bhav mein vinyast hai.
Bharat ki pauranik aakhyayika, parampra, sanskar, darshan aur chintan ke ark se nirmit gayasur sandhan’ ek aisi gahan kriti hai, jo svdeshanurag ki mahagatha ke sang-sang manushya ke liye romanchak satyarth prkash hai.

Additional Information
Book Type

Paperback

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Gayasur Sandhan

विश्व आस्था के जुड़वाँ नगर गया-बोधगया पर केन्द्रित 'गयासुर संधान’ कथ्य और शैली में युगान्तरकारी ध्वनि का एक ऐसा उपन्यास है जिसमें कल्पना, इतिहास, लोककथा, दन्तकथा, मिथक और यथार्थ का अद्भुत रोमांचक मिश्रण है। रहस्यमय और संक्रामक!
'गयासुर संधान’ की कथा बताती है कि अनैतिक कामनाएँ-एषणाएँ अन्तत: कैसे भस्म होती हैं। गयासुर के शरीर पर बसे होने की मान्यतावाली इस प्राचीन नगरी में सदैव से यह अटल आस्था है कि कामनामुक्त व्यक्ति के लिए ही यहाँ आश्रय है। अनर्गल कामना का परिताप, बन्धन और व्यसन इस जुड़वाँ नगरी को सहन नहीं। गया के कण-कण में इहकाल-परकाल और जन्म-जन्मान्तर का महाशून्य अपने परम औघड़ भाव में विन्यस्त है।
भारत की पौराणिक आख्यायिका, परम्परा, संस्कार, दर्शन और चिन्तन के अर्क से निर्मित 'गयासुर संधान’ एक ऐसी गहन कृति है, जो स्वदेशानुराग की महागाथा के संग-संग मनुष्य के लिए रोमांचक सत्यार्थ प्रकाश है। Vishv aastha ke judvan nagar gaya-bodhagya par kendrit gayasur sandhan’ kathya aur shaili mein yugantarkari dhvani ka ek aisa upanyas hai jismen kalpna, itihas, lokaktha, dantaktha, mithak aur yatharth ka adbhut romanchak mishran hai. Rahasymay aur sankramak!Gayasur sandhan’ ki katha batati hai ki anaitik kamnayen-eshnayen antat: kaise bhasm hoti hain. Gayasur ke sharir par base hone ki manytavali is prachin nagri mein sadaiv se ye atal aastha hai ki kamnamukt vyakti ke liye hi yahan aashray hai. Anargal kamna ka paritap, bandhan aur vysan is judvan nagri ko sahan nahin. Gaya ke kan-kan mein ihkal-parkal aur janm-janmantar ka mahashunya apne param aughad bhav mein vinyast hai.
Bharat ki pauranik aakhyayika, parampra, sanskar, darshan aur chintan ke ark se nirmit gayasur sandhan’ ek aisi gahan kriti hai, jo svdeshanurag ki mahagatha ke sang-sang manushya ke liye romanchak satyarth prkash hai.