Look Inside
Gausevak
Gausevak
Gausevak
Gausevak

Gausevak

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Gausevak

Gausevak

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

नक्सल प्रभावित एक आदिवासी इलाक़े में विकास का मिथ, नक्सलियों और पुलिस-प्रशासन के बीच पिसते आदिवासी, लगातार मौत को अपने सामने देखते नाउम्मीद जीवन का अवसरवाद जो गौरक्षा की राजनीति करनेवाली एक पार्टी के लिए बहुत उर्वर ज़मीन तैयार करता है, और इन सबके बीच गाय की तस्करी करनेवाले एक गौसेवक आदिवासी नेता के टिकट पाने का जुगाड़...आदिवासी जीवन के संकटों का बयान करनेवाली मुद्रा से अनछुई यह कहानी संकटों के गतिविज्ञान में आपको गहरे ले जाती है, और मज़ा यह कि जाते हुए आपको लेखक के शोध/तजुर्बे से आतंकित/प्रभावित होने की याद भी नहीं रहती! आपको याद बस इतना रहता है कि आप ‘धामा चेरो’ नामक एक गौसेवक आदिवासी नेता की कहानी सुन रहे हैं जिसने कई और गोरखधंधों के साथ-साथ गौतस्करी से अच्छी कमाई की है और जो पिछली बार विफल रहने के बाद इस बार टिकट पाने के लिए कृतसंकल्प है। अनिल यादव की बारीक निगाह और कथाभाषा उनकी ख़ास पहचान है। वे चीज़ों को जिस तरह देखते हैं, उसमें निगाहें हर अवगुंठन को पार कर जाती हैं और 'दृश्य' के भीतर का 'अदृश्य' दिखने लगता है। इसी देखने से इस कहानीकार की ख़ास अपनी कथाभाषा जन्मी है। हिन्दी के युवा/लगभग-युवा कथाकारों में सम्भवतः अनिल यादव ही हैं जिन्हें, अब, कथाभाषा से पहचाना जा सकता है। यह उन्होंने क्रमशः अर्जित की है और 'गौसेवक' में यह अपनी पकी हुई पहचान के साथ है।
—संजीव कुमार Naksal prbhavit ek aadivasi ilaqe mein vikas ka mith, naksaliyon aur pulis-prshasan ke bich piste aadivasi, lagatar maut ko apne samne dekhte naummid jivan ka avasarvad jo gauraksha ki rajniti karnevali ek parti ke liye bahut urvar zamin taiyar karta hai, aur in sabke bich gaay ki taskri karnevale ek gausevak aadivasi neta ke tikat pane ka jugad. . . Aadivasi jivan ke sankton ka bayan karnevali mudra se anachhui ye kahani sankton ke gativigyan mein aapko gahre le jati hai, aur maza ye ki jate hue aapko lekhak ke shodh/tajurbe se aatankit/prbhavit hone ki yaad bhi nahin rahti! aapko yaad bas itna rahta hai ki aap ‘dhama chero’ namak ek gausevak aadivasi neta ki kahani sun rahe hain jisne kai aur gorakhdhandhon ke sath-sath gautaskri se achchhi kamai ki hai aur jo pichhli baar viphal rahne ke baad is baar tikat pane ke liye kritsankalp hai. Anil yadav ki barik nigah aur kathabhasha unki khas pahchan hai. Ve chizon ko jis tarah dekhte hain, usmen nigahen har avgunthan ko paar kar jati hain aur drishya ke bhitar ka adrishya dikhne lagta hai. Isi dekhne se is kahanikar ki khas apni kathabhasha janmi hai. Hindi ke yuva/lagbhag-yuva kathakaron mein sambhvatः anil yadav hi hain jinhen, ab, kathabhasha se pahchana ja sakta hai. Ye unhonne krmashः arjit ki hai aur gausevak mein ye apni paki hui pahchan ke saath hai. —sanjiv kumar

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products