Garud Kisne Dekha Hai

Regular price Rs. 274
Sale price Rs. 274 Regular price Rs. 295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Garud Kisne Dekha Hai

Garud Kisne Dekha Hai

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘गरुड़ किसने देखा है’ श्रीकान्त वर्मा का छठा काव्य-संग्रह है, जो उनके निधन के लगभग वर्ष-भर बाद प्रकाशित हो रहा है। उनका पिछला संग्रह ‘मगध’ कवि की संवेदना को जिस निर्णायक बिन्दु पर छोड़ गया था, प्रस्तुत संग्रह उसके बाद की रचनात्मक यात्रा का प्रामाणिक दस्तावेज़ है। यहाँ एक ही साथ एक कलात्मक परिणति तक पहुँचे हुए कवि की परिपक्वता भी मिलेगी और एक नए प्रस्थान की छटपटाहट भी। यहाँ तक आते-आते कवि का अनुभव-लोक नई भावभूमियों के संस्पर्श से और समृद्ध हुआ है और शायद इसी के चलते कवि की भाषा में एक नई सरलता आई है और एक पारदर्शी विनयशीलता भी, जो सिर्फ़ श्रेष्ठ कविता में पाई जाती है। इस संग्रह की कविताओं का एक छोर काशी को छूता है, दूसरा सुदूर पेरिस को और इस तरह बनता है कवि की रचनात्मक यात्रा का एक पूरा इतिहास और भूगोल—और दोनों अलग-अलग नहीं, बल्कि एक ही साथ।
प्रस्तुत संग्रह की कविताएँ बीसवीं शताब्दी के अँधेरे से निकलने की कोशिश से पैदा होनेवाली कविताएँ हैं। इसीलिए यहाँ केवल अतीत की पीड़ा और वर्तमान की कड़वाहट ही नहीं, ‘भविष्य को न भुला पाने’ की एक रचनात्मक तड़प भी है। मृत्यु के विरुद्ध लड़ते हुए कवि की इन कविताओं में जीवन का एक गहरा स्वीकार है और उसके प्रति एक सच्ची, पीड़ाभरी मानवीय ललक भी। यही बात ‘गरुड़ किसने देखा है’ को विशिष्ट बनाती है और सार्थक भी। कवि के ही शब्दों में—
कितना लुभावना कितना सरल
निरर्थक होते हुए भी सार्थक है
यह संसार। ‘garud kisne dekha hai’ shrikant varma ka chhatha kavya-sangrah hai, jo unke nidhan ke lagbhag varsh-bhar baad prkashit ho raha hai. Unka pichhla sangrah ‘magadh’ kavi ki sanvedna ko jis nirnayak bindu par chhod gaya tha, prastut sangrah uske baad ki rachnatmak yatra ka pramanik dastavez hai. Yahan ek hi saath ek kalatmak parinati tak pahunche hue kavi ki paripakvta bhi milegi aur ek ne prasthan ki chhataptahat bhi. Yahan tak aate-ate kavi ka anubhav-lok nai bhavbhumiyon ke sansparsh se aur samriddh hua hai aur shayad isi ke chalte kavi ki bhasha mein ek nai saralta aai hai aur ek pardarshi vinayshilta bhi, jo sirf shreshth kavita mein pai jati hai. Is sangrah ki kavitaon ka ek chhor kashi ko chhuta hai, dusra sudur peris ko aur is tarah banta hai kavi ki rachnatmak yatra ka ek pura itihas aur bhugol—aur donon alag-alag nahin, balki ek hi saath. Prastut sangrah ki kavitayen bisvin shatabdi ke andhere se nikalne ki koshish se paida honevali kavitayen hain. Isiliye yahan keval atit ki pida aur vartman ki kadvahat hi nahin, ‘bhavishya ko na bhula pane’ ki ek rachnatmak tadap bhi hai. Mrityu ke viruddh ladte hue kavi ki in kavitaon mein jivan ka ek gahra svikar hai aur uske prati ek sachchi, pidabhri manviy lalak bhi. Yahi baat ‘garud kisne dekha hai’ ko vishisht banati hai aur sarthak bhi. Kavi ke hi shabdon men—
Kitna lubhavna kitna saral
Nirarthak hote hue bhi sarthak hai
Ye sansar.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products