BackBack
-11%

Ganzifa Aur Anya Kahaniyan

Rs. 399 Rs. 355

“हिन्दी और उर्दू के बीच संवाद, आवाजाही और लेन-देन हिन्दी परम्परा का एक ज़रूरी हिस्सा रहे हैं। उर्दू साहित्य का बहुत बड़ा हिस्सा देवनागरी और हिन्दी में पढ़ा-गुना-सराहा जाता रहा है। हमें इसी क्रम में उर्दू के मशहूर कथाकार नैयर मसूद की कहानियों का एक चयन हिन्दी में प्रस्तुत करते... Read More

Description

“हिन्दी और उर्दू के बीच संवाद, आवाजाही और लेन-देन हिन्दी परम्परा का एक ज़रूरी हिस्सा रहे हैं। उर्दू साहित्य का बहुत बड़ा हिस्सा देवनागरी और हिन्दी में पढ़ा-गुना-सराहा जाता रहा है। हमें इसी क्रम में उर्दू के मशहूर कथाकार नैयर मसूद की कहानियों का एक चयन हिन्दी में प्रस्तुत करते हुए ख़ुशी है। यह सिर्फ़ एक समृद्ध भारतीय प्रतिभा से परिचित कराने भर का उद्यम नहीं है, यह इस सच्चाई पर इसरार करना भी है कि उर्दू में नवाचार सशक्त ढंग से अनेक रूपों में हो रहा है। इस नवाचार का आस्वाद हिन्दी पाठक को भी लेना चाहिए।”
—अशोक वाजपेयी “hindi aur urdu ke bich sanvad, aavajahi aur len-den hindi parampra ka ek zaruri hissa rahe hain. Urdu sahitya ka bahut bada hissa devnagri aur hindi mein padha-guna-saraha jata raha hai. Hamein isi kram mein urdu ke mashhur kathakar naiyar masud ki kahaniyon ka ek chayan hindi mein prastut karte hue khushi hai. Ye sirf ek samriddh bhartiy pratibha se parichit karane bhar ka udyam nahin hai, ye is sachchai par israr karna bhi hai ki urdu mein navachar sashakt dhang se anek rupon mein ho raha hai. Is navachar ka aasvad hindi pathak ko bhi lena chahiye. ”—ashok vajpeyi