BackBack
-11%

Gandhi Ki Mrityu

Rs. 495 Rs. 441

“महात्मा गाँधी अपने समय में ही नहीं हमारे समय में भी एक प्रतिरोधक उपस्थिति हैं : उनका बीसवीं शताब्दी के विचार, राजनीति और सामाजिक कर्म पर गहरा प्रभाव पड़ा। इन दिनों उनका बहुत बारीक़ पर अचूक अवमूल्यन करने का एक अभियान ही चला हुआ है। इस सन्दर्भ में उनकी मृत्यु... Read More

Description

“महात्मा गाँधी अपने समय में ही नहीं हमारे समय में भी एक प्रतिरोधक उपस्थिति हैं : उनका बीसवीं शताब्दी के विचार, राजनीति और सामाजिक कर्म पर गहरा प्रभाव पड़ा। इन दिनों उनका बहुत बारीक़ पर अचूक अवमूल्यन करने का एक अभियान ही चला हुआ है। इस सन्दर्भ में उनकी मृत्यु पर लिखा गया यह हंगेरियन नाटक, जो सीधे हिन्दी में अनूदित किए जाने का एक बिरला उदाहरण भी है, प्रस्तुत करते हुए हमें उम्मीद है कि गाँधी-विचार और कर्म को ताज़ा नज़र से देखने के प्रयत्न में सहायक होगा।"
—अशोक वाजपेयी “mahatma gandhi apne samay mein hi nahin hamare samay mein bhi ek pratirodhak upasthiti hain : unka bisvin shatabdi ke vichar, rajniti aur samajik karm par gahra prbhav pada. In dinon unka bahut bariq par achuk avmulyan karne ka ek abhiyan hi chala hua hai. Is sandarbh mein unki mrityu par likha gaya ye hangeriyan natak, jo sidhe hindi mein anudit kiye jane ka ek birla udahran bhi hai, prastut karte hue hamein ummid hai ki gandhi-vichar aur karm ko taza nazar se dekhne ke pryatn mein sahayak hoga. "—ashok vajpeyi