BackBack
-11%

Gandhi Ke Desh Mein

Rs. 200 Rs. 178

विवेक, सन्मति और सदाशयता के धनी चिन्तक, विख्यात इतिहासकार सुधीर चन्द्र की निबन्ध पुस्तक। ‘‘सत्य, अहिंसा, प्रेम, अस्तेयादि एक झटके में और कायमी तौर पर लोगों की ज़िन्दगी में परिवर्तन ला देनेवाले गुण नहीं हैं। ख़ुद गांधी सारी ज़िन्दगी अपने को गांधी बनाने में लगे रहे थे। पर गांधी के... Read More

BlackBlack
Description

विवेक, सन्मति और सदाशयता के धनी चिन्तक, विख्यात इतिहासकार सुधीर चन्द्र की निबन्ध पुस्तक।
‘‘सत्य, अहिंसा, प्रेम, अस्तेयादि एक झटके में और कायमी तौर पर लोगों की ज़िन्दगी में परिवर्तन ला देनेवाले गुण नहीं हैं। ख़ुद गांधी सारी ज़िन्दगी अपने को गांधी बनाने में लगे रहे थे। पर गांधी के नाम पर सब कुछ निछावर करनेवालों ने क़ुर्बानियाँ जो भी की हों, उन लोगों ने अपने को वैसा बनाने की कोशिश नहीं की जैसा बनकर ही गांधी का स्वराज हासिल हो सकता था।’’
‘‘गांधी की हमारी समझ गम्भीर रूप से अपूर्ण रहेगी जब तक हम अहिंसा के परिप्रेक्ष्य में उस हिंसा के स्वरूप और परिस्थितियों को समझने की शुरुआत नहीं करते, जिसे नैतिक हिंसा कहा जा सके।’’
‘‘समलैंगिकता को अप्राकृतिक या अस्वाभाविक मान लेने का आधार क्या है? इसी से जुड़ा एक बुनियादी सवाल भी उठता है : क्या किसी कर्म का अप्राकृतिक होना काफ़ी है उसे दंडनीय अपराध बनाए जाने के लिए? किसी कर्म का प्राकृतिक या अप्राकृतिक होना—जिस हद तक इस तरह का निर्धारण सम्भव है—उसे अपराध की श्रेणी में न तो लाता है और न ही उससे बाहर रखता है। हिंसा और वासना से जुड़े तमाम अपराधों को प्राकृतिक कृत्यों के रूप में देखा जा सकता है। दूसरी तरफ़ सभ्यता और संस्कृति का विकास उत्तरोत्तर हमें प्रकृति से दूर लाता आया है।’’
‘‘जो मैं नहीं समझ पाता वह है बहुत सारे लोगों का विश्वास, देरीदा की मिसाल देते हुए कि, ‘डीकंस्ट्रक्शन’ और परिणामस्वरूप उत्तर-आधुनिकतावाद ‘एमॉरल’—नैतिक-अनैतिक से परे—है। देरीदा को, न कि देरीदा के बारे में, थोड़ा ही सही, पढ़े बगै़र कुछ प्रचलित भ्रान्तियों को मान लेना बौद्धिक आलस है।’’
देश के गतिशील समकालीन यथार्थ को समझने के लिए एक ज़रूरी पाठ। Vivek, sanmati aur sadashayta ke dhani chintak, vikhyat itihaskar sudhir chandr ki nibandh pustak. ‘‘satya, ahinsa, prem, asteyadi ek jhatke mein aur kaymi taur par logon ki zindagi mein parivartan la denevale gun nahin hain. Khud gandhi sari zindagi apne ko gandhi banane mein lage rahe the. Par gandhi ke naam par sab kuchh nichhavar karnevalon ne qurbaniyan jo bhi ki hon, un logon ne apne ko vaisa banane ki koshish nahin ki jaisa bankar hi gandhi ka svraj hasil ho sakta tha. ’’
‘‘gandhi ki hamari samajh gambhir rup se apurn rahegi jab tak hum ahinsa ke pariprekshya mein us hinsa ke svrup aur paristhitiyon ko samajhne ki shuruat nahin karte, jise naitik hinsa kaha ja sake. ’’
‘‘samlaingikta ko aprakritik ya asvabhavik maan lene ka aadhar kya hai? isi se juda ek buniyadi saval bhi uthta hai : kya kisi karm ka aprakritik hona kafi hai use dandniy apradh banaye jane ke liye? kisi karm ka prakritik ya aprakritik hona—jis had tak is tarah ka nirdharan sambhav hai—use apradh ki shreni mein na to lata hai aur na hi usse bahar rakhta hai. Hinsa aur vasna se jude tamam apradhon ko prakritik krityon ke rup mein dekha ja sakta hai. Dusri taraf sabhyta aur sanskriti ka vikas uttrottar hamein prkriti se dur lata aaya hai. ’’
‘‘jo main nahin samajh pata vah hai bahut sare logon ka vishvas, derida ki misal dete hue ki, ‘dikanstrakshan’ aur parinamasvrup uttar-adhuniktavad ‘emaural’—naitik-anaitik se pare—hai. Derida ko, na ki derida ke bare mein, thoda hi sahi, padhe bagair kuchh prachlit bhrantiyon ko maan lena bauddhik aalas hai. ’’
Desh ke gatishil samkalin yatharth ko samajhne ke liye ek zaruri path.