Look Inside
Gandh-Gatha
Gandh-Gatha
Gandh-Gatha
Gandh-Gatha

Gandh-Gatha

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Gandh-Gatha

Gandh-Gatha

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘गंध गाथा’ समकालीन हिन्दी साहित्य के अग्रणी कथाकारों में एक मृणाल पाण्डे का नया संग्रह है जिसमें शामिल कहानियाँ देखन और कहन दोनों स्तरों पर न सिर्फ़ हमारे सोच को प्रभावित करती हैं बल्कि मर्म को भी गहरे छूती हैं। ‘गंध गाथा’ की कहानियाँ अपने समय के चाक पर रची गई ऐसी कहानियाँ हैं जिनकी जड़ें बौद्ध और जैन जातक कथाओं के सोतों से भी अपनी नमी हासिल करती हैं, और स्त्री-प्रश्न हो या समाज-सत्ता के अन्य मसले, एक बड़े कैनवस पर एक नए आस्वाद को रचते हैं।
मृणाल जी के इस संग्रह को पाठक उनके शब्दों में इस तरह भी देख सकते हैं—‘‘हर कथा मेरे लिए कहीं न कहीं टुकड़ा-टुकड़ा मिले जीवन-ज्ञान के बीच सचाई की घनचक्करी तलाश है।...केदारघाटी का हादसा, पार्टीशन की विभीषिका, मनुष्य और पशु के बीच का शब्दहीन प्रेम और बतकही, इनकी बाबत मोटामोटी हम सब जानते हैं। पर इस संकलन की कथाओं में जहाँ, जिस तरह और जिस लिए कुदरत और व्यक्तित्वों के पास-पास सरकने से जो कई तरह के ब्रह्मांड टूटते, मिलते और दूर होते दिखते थे, उनका पीछा मेरे लिए अधिक महत्त्व रखता रहा है। इनमें कई बार जीवन के गहरे लेकिन अनुत्तरित प्रश्नों के छोर पर, जवाब की जो-जो सम्भावनाएँ झिलमिल करती मुझे दिखी हैं, उनका चित्रण सरलीकृत रिपोर्टिंग के परे कहीं अधिक महत्त्व का है।’’
हम कह सकते हैं कि ‘गंध गाथा’ एक ऐसा संग्रह है जिसमें रचित लोक अपनी चिन्ताओं से अवगत तो कराता ही है, अपने चिन्तन से समृद्ध भी करता है। ‘gandh gatha’ samkalin hindi sahitya ke agrni kathakaron mein ek mrinal pande ka naya sangrah hai jismen shamil kahaniyan dekhan aur kahan donon stron par na sirf hamare soch ko prbhavit karti hain balki marm ko bhi gahre chhuti hain. ‘gandh gatha’ ki kahaniyan apne samay ke chak par rachi gai aisi kahaniyan hain jinki jaden bauddh aur jain jatak kathaon ke soton se bhi apni nami hasil karti hain, aur stri-prashn ho ya samaj-satta ke anya masle, ek bade kainvas par ek ne aasvad ko rachte hain. Mrinal ji ke is sangrah ko pathak unke shabdon mein is tarah bhi dekh sakte hain—‘‘har katha mere liye kahin na kahin tukda-tukda mile jivan-gyan ke bich sachai ki ghanchakkri talash hai. . . . Kedarghati ka hadsa, partishan ki vibhishika, manushya aur pashu ke bich ka shabdhin prem aur batakhi, inki babat motamoti hum sab jante hain. Par is sanklan ki kathaon mein jahan, jis tarah aur jis liye kudrat aur vyaktitvon ke pas-pas sarakne se jo kai tarah ke brahmand tutte, milte aur dur hote dikhte the, unka pichha mere liye adhik mahattv rakhta raha hai. Inmen kai baar jivan ke gahre lekin anuttrit prashnon ke chhor par, javab ki jo-jo sambhavnayen jhilmil karti mujhe dikhi hain, unka chitran sarlikrit riporting ke pare kahin adhik mahattv ka hai. ’’
Hum kah sakte hain ki ‘gandh gatha’ ek aisa sangrah hai jismen rachit lok apni chintaon se avgat to karata hi hai, apne chintan se samriddh bhi karta hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products