Gaganvat : Sanskrit Muktakon Ka Sweekaran

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Gaganvat : Sanskrit Muktakon Ka Sweekaran

Gaganvat : Sanskrit Muktakon Ka Sweekaran

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

स्वीकरण’ शब्द मेरा नहीं, पुराना है—12वीं सदी के काव्याचार्य राजशेखर का है। मैंने शब्द 'कविता का एक भाषा से दूसरी भाषा में काव्यानुवाद’—इस अर्थ में लिया है। राजशेखर ने 'स्वीकरण’ का प्रयोग इसे 'हरण’ से व्यावृत्त—अलग—करने के लिए किया है। राजशेखर कहते हैं कि नई कविता बनती ही पुरानी चली-आती कविताओं की परम्परा के भीतर है—यों पुरानी कविता को 'ले लेना’ कोई बुरी बात नहीं—बल्कि अनिवार्य है। पर उसे सचमुच 'अपना लेना’ उपाय-कौशल चाहता है। राजशेखर ऐसे उपायों का विस्तार से वर्णन करते हैं। इसके लिए पुरानी कविता का रूपान्तर आवश्यक था जो कई तरह से किया जा सकता था, जिन्हें राजशेखर खोल कर दिखाते हैं। 'स्वीकरण’ शब्द राजशेखर ने गढ़ा था। पर इसके पीछे जो धारणा है, विचार है, वह 'ध्वन्यालोक’ के विख्यात लेखक, भाषा में एक नए अर्थलोक—व्यंजना—के द्रष्टा, महत् दार्शनिक आनन्दवर्धन का है। आनन्दवर्धन अपने ग्रन्थ में ध्वनि (व्यंजना) की शास्त्रीय स्थापना करने के बाद पूछते हैं कि यह जो स्थापना हुई है, यह क्या शास्त्रमात्र-सार नहीं? इससे कवि को क्या लाभ? उत्तर देते हुए आचार्य कहते हैं कि मनुष्य के चित्त में जितने भाव हैं, पुरानी कविता में उनकी सक्षम अभिव्यक्ति हो चुकी है, आज का कवि नया क्या कर सकता है? पर कविता तो नई ही होती है। आनन्दवर्धन की दृष्टि में यह नयापन व्यंजना का ही नयापन होता है। पुरानी कविता की व्यंजना बदल दी जाए तो कविता नई हो जाती है।
मेरे अनुवाद इन पुराने रास्तों पर नहीं चलते। 'स्वीकरण’ मेरे लिए अनूदित कविता का रूपान्तरण नहीं, उलटे उस कविता के स्वरूप-स्वभाव को, भाव-मर्म को बजा रखते हुए उसे एक नई भाषा में उतारना है। एक बात और कहना चाहूँगा। संस्कृत कविता मुक्तक-प्रधान है। बड़ी कविताओं में, महाकाव्यों में भी, यह प्रवृत्ति देखी जा सकती है। मैंने अपने 'अनुवचन’ में मुक्तक पर कुछ लम्बी चर्चा की है। पाठक उसे देखेंगे तो इन कविताओं में उसकी पैठ बढ़ सकती है।
—प्रस्तावना से
संस्कृत काव्य की विपुलता और वैभव का अक्सर ज़‍िक्र होता है। मुकुन्द लाठ उन बिरले कवि-चिन्तकों में से हैं जिन्होंने इस काव्य के अपार लालित्य को हिन्दी में सुघरता और संवेदनशीलता से लाने की कोशिश की है। राजशेखर के हवाले से वे इन्हें 'स्वीकरण’ कहते हैं। वे इस अर्थ में स्वीकरण हैं भी कि उन्हें पढ़ते लगता है कि आप मूल हिन्दी कविता ही पढ़ रहे हैं। हमें प्रसन्नता है कि हम रज़ा पुस्तक माला के अन्तर्गत इस संचयन को एक बार फिर हिन्दी पाठकों के समक्ष रसास्वादन के लिए ला रहे हैं।
—अशोक वाजपेयी Svikran’ shabd mera nahin, purana hai—12vin sadi ke kavyacharya rajshekhar ka hai. Mainne shabd kavita ka ek bhasha se dusri bhasha mein kavyanuvad’—is arth mein liya hai. Rajshekhar ne svikran’ ka pryog ise haran’ se vyavritt—alag—karne ke liye kiya hai. Rajshekhar kahte hain ki nai kavita banti hi purani chali-ati kavitaon ki parampra ke bhitar hai—yon purani kavita ko le lena’ koi buri baat nahin—balki anivarya hai. Par use sachmuch apna lena’ upay-kaushal chahta hai. Rajshekhar aise upayon ka vistar se varnan karte hain. Iske liye purani kavita ka rupantar aavashyak tha jo kai tarah se kiya ja sakta tha, jinhen rajshekhar khol kar dikhate hain. Svikran’ shabd rajshekhar ne gadha tha. Par iske pichhe jo dharna hai, vichar hai, vah dhvanyalok’ ke vikhyat lekhak, bhasha mein ek ne arthlok—vyanjna—ke drashta, mahat darshnik aanandvardhan ka hai. Aanandvardhan apne granth mein dhvani (vyanjna) ki shastriy sthapna karne ke baad puchhte hain ki ye jo sthapna hui hai, ye kya shastrmatr-sar nahin? isse kavi ko kya labh? uttar dete hue aacharya kahte hain ki manushya ke chitt mein jitne bhav hain, purani kavita mein unki saksham abhivyakti ho chuki hai, aaj ka kavi naya kya kar sakta hai? par kavita to nai hi hoti hai. Aanandvardhan ki drishti mein ye nayapan vyanjna ka hi nayapan hota hai. Purani kavita ki vyanjna badal di jaye to kavita nai ho jati hai. Mere anuvad in purane raston par nahin chalte. Svikran’ mere liye anudit kavita ka rupantran nahin, ulte us kavita ke svrup-svbhav ko, bhav-marm ko baja rakhte hue use ek nai bhasha mein utarna hai. Ek baat aur kahna chahunga. Sanskrit kavita muktak-prdhan hai. Badi kavitaon mein, mahakavyon mein bhi, ye prvritti dekhi ja sakti hai. Mainne apne anuvchan’ mein muktak par kuchh lambi charcha ki hai. Pathak use dekhenge to in kavitaon mein uski paith badh sakti hai.
—prastavna se
Sanskrit kavya ki vipulta aur vaibhav ka aksar za‍ikr hota hai. Mukund lath un birle kavi-chintkon mein se hain jinhonne is kavya ke apar lalitya ko hindi mein sugharta aur sanvedanshilta se lane ki koshish ki hai. Rajshekhar ke havale se ve inhen svikran’ kahte hain. Ve is arth mein svikran hain bhi ki unhen padhte lagta hai ki aap mul hindi kavita hi padh rahe hain. Hamein prsannta hai ki hum raza pustak mala ke antargat is sanchyan ko ek baar phir hindi pathkon ke samaksh rasasvadan ke liye la rahe hain.
—ashok vajpeyi

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products