Fasadat Ke Afsane

Regular price Rs. 149
Sale price Rs. 149 Regular price Rs. 160
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Fasadat Ke Afsane

Fasadat Ke Afsane

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
1947 से अब तक हमारी राजनीति फ़सादात करानेवाले को पहचानने में, उसे नंगा करने में आगे नहीं आई। कारण ये कि फ़सादात कराना सारे देश की राजनीति के दाँव-पेच का अंग बन चुका है। राजनीति से जुड़े सारे दल एक दूसरे को इल्ज़ाम देते रहते हैं लेकिन फ़सादात की जाँच करनेवाले कमीशन कुछ और कहते हैं। इन सबसे अलग फ़सादात का जो चेहरा अपने असली रूप में हमारे सामने आता है वो केवल साहित्यकार, रचनाकार के ज़रिए ही आता है। लेखक और रचनाकार ही ने फ़सादात के बारे में सच-सच लिखा है। उसी ने फ़सादात के मुजरिम को पहचाना है। दु:ख झेलनेवाले के दु:ख को समझा है।
इस संग्रह में कुछ अफ़साने तो वो हैं जो बँटवारे के फ़ौरन बाद होनेवाले साम्प्रदायिक दंगों पर लिखे गए और कुछ वो हैं जो बाबरी मस्जिद के गिराए जाने से पहले और उसके बाद होनेवाले फ़सादात पर लिखे गए। इनमें कई अफ़साना-निग़ार ऐसे भी हैं जो ख़ुद इस तूफ़ान से गुज़रे थे। फ़सादात के कारण बदलते रहे और साथ ही उनके बारे में लेखक का रवैया भी बदलता रहा, फ़सादात का अधिकतर शिकार बननेवाला समुदाय लेखक की सारी सहानुभूति समेटने लगा। वे राजनैतिक दल भी पहचान लिए गए जो फ़सादात की आग लगाते रहते हैं। पहले के अफ़सानों में हिन्दू मुसलमान की और मुसलमान हिन्दू की जानो-माल की हिफ़ाज़त करते हैं लेकिन बाद के फ़सादात में लेखक ने ये महसूस किया कि फ़सादात जब भी भड़कते हैं तो हिन्दू-मुसलमान के मेल-जोल में एक फ़ासला-सा आ जाता है। इस ट्रेजिडी की गूँज ‘नींव की ईंट’, ‘सिंघारदान’, ‘ज़िन्दा दरगोर’ जैसे अफ़सानों में सुनाई देती है।
फ़सादात ने हमारे जीवन और सायकी में एक मुस्तक़िल दहशत और लूटे जाने का ख़ौफ़ और भय पैदा कर दिया है। इस भय, डर और ख़ौफ़ की सायकी को ‘बग़ैर आसमान की ज़मीन’, ‘आदमी’ और ‘खौफ़’ जैसे अफ़सानों में महसूस किया जा सकता है। 1947 se ab tak hamari rajniti fasadat karanevale ko pahchanne mein, use nanga karne mein aage nahin aai. Karan ye ki fasadat karana sare desh ki rajniti ke danv-pech ka ang ban chuka hai. Rajniti se jude sare dal ek dusre ko ilzam dete rahte hain lekin fasadat ki janch karnevale kamishan kuchh aur kahte hain. In sabse alag fasadat ka jo chehra apne asli rup mein hamare samne aata hai vo keval sahitykar, rachnakar ke zariye hi aata hai. Lekhak aur rachnakar hi ne fasadat ke bare mein sach-sach likha hai. Usi ne fasadat ke mujrim ko pahchana hai. Du:kha jhelnevale ke du:kha ko samjha hai. Is sangrah mein kuchh afsane to vo hain jo bantvare ke fauran baad honevale samprdayik dangon par likhe ge aur kuchh vo hain jo babri masjid ke giraye jane se pahle aur uske baad honevale fasadat par likhe ge. Inmen kai afsana-nigar aise bhi hain jo khud is tufan se guzre the. Fasadat ke karan badalte rahe aur saath hi unke bare mein lekhak ka ravaiya bhi badalta raha, fasadat ka adhiktar shikar bannevala samuday lekhak ki sari sahanubhuti sametne laga. Ve rajanaitik dal bhi pahchan liye ge jo fasadat ki aag lagate rahte hain. Pahle ke afsanon mein hindu musalman ki aur musalman hindu ki jano-mal ki hifazat karte hain lekin baad ke fasadat mein lekhak ne ye mahsus kiya ki fasadat jab bhi bhadakte hain to hindu-musalman ke mel-jol mein ek fasla-sa aa jata hai. Is trejidi ki gunj ‘ninv ki iint’, ‘singhardan’, ‘zinda dargor’ jaise afsanon mein sunai deti hai.
Fasadat ne hamare jivan aur sayki mein ek mustqil dahshat aur lute jane ka khauf aur bhay paida kar diya hai. Is bhay, dar aur khauf ki sayki ko ‘bagair aasman ki zamin’, ‘admi’ aur ‘khauf’ jaise afsanon mein mahsus kiya ja sakta hai.
Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products