Look Inside
Ek Shamsher Bhi Hai
Ek Shamsher Bhi Hai
Ek Shamsher Bhi Hai
Ek Shamsher Bhi Hai
Ek Shamsher Bhi Hai
Ek Shamsher Bhi Hai

Ek Shamsher Bhi Hai

Regular price Rs. 419
Sale price Rs. 419 Regular price Rs. 450
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Ek Shamsher Bhi Hai

Ek Shamsher Bhi Hai

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘शमशेर बहादुर उन कवियों में रहे जो लगातार अपनी कविता के प्रति सजग और समर्पित भी रहे। राजनीति की दृष्टि से बहुत ज़्यादा सक्रिय तो वह नहीं रहे और एक उनकी कविता में निहित मूल्य-दृष्टि में और उनकी घोषित राजनीति में, राजनीतिक दृष्टि में लगातार एक विरोध भी रहा। वह प्रगतिवादी आन्दोलन के साथ रहे लेकिन उसके सिद्धान्तों का प्रतिपादन करनेवाले कभी नहीं रहे। उन सिद्धान्तों में उनका पूरा विश्वास भी कभी नहीं रहा। उन्होंने मान लिया कि हम इस आन्दोलन के साथ हैं, और स्वयं उनकी कविता है, उसका जो बुनियादी संवेदन है, वह लगातार उसके बाहर और उसके विरुद्ध भी जाता रहा। वह शायद एकमात्र ऐसे व्यक्ति हैं, उनके जीवन का, उनके कवि का विकास इस तरह से हुआ। पहले वह चित्रकार थे या उन्होंने दीक्षा चित्रकर्म में ली।’ उसमें भी लगातार उनकी दृष्टि बिम्बवादी-दृष्टि रही और काव्य में उनका बल इस पक्ष पर रहा। उनके प्रिय कवि भी ऐसे ही रहे हैं। इससे कभी मुक्त होना न उन्होंने चाहा, न वह हुए। हम चाहें तो उन्हें रूमानी और बिम्बवादी कवि भी कह सकते हैं, कभी इसके बाहर वह नहीं गए। मेरा ख़याल है कि उनके चित्रों और उनकी कविताओं में बराबर सम्बन्ध रहा है। और उस स्तर को उनके घोषित राजनीति विश्वास ने कभी छुआ ही नहीं। अगर उनसे पूछा जाता कि आप राजनीति में किस दल के साथ हैं, तो वह कहते कि मैं प्रगतिवादियों के साथ हूँ। अब आप इसका जो अर्थ चाहें लगा सकते हैं। इसे विभाजित व्यक्तित्व मैं तब कहता जबकि उनकी चेतना में उसका असर होता। उसमें भी दो खंड हो जाते। वैसा शायद हुआ नहीं। शमशेर तो पहली बार वहाँ (‘तार-सप्तक’ में) रखे भी गए थे, फिर उनको दूसरे के लिए रख लिया गया, क्योंकि उनकी कविताएँ बहुत कम मिल पाई थीं। दो-एक पेटियाँ भरकर कविताएँ तो उनके पास पड़ी होंगी, लेकिन ख़ुद उनको अपनी ख़बर नहीं थी। जब यह काम हुआ तो उन्हें लाया जा सका।
—अज्ञेय ‘shamsher bahadur un kaviyon mein rahe jo lagatar apni kavita ke prati sajag aur samarpit bhi rahe. Rajniti ki drishti se bahut zyada sakriy to vah nahin rahe aur ek unki kavita mein nihit mulya-drishti mein aur unki ghoshit rajniti mein, rajnitik drishti mein lagatar ek virodh bhi raha. Vah pragativadi aandolan ke saath rahe lekin uske siddhanton ka pratipadan karnevale kabhi nahin rahe. Un siddhanton mein unka pura vishvas bhi kabhi nahin raha. Unhonne maan liya ki hum is aandolan ke saath hain, aur svayan unki kavita hai, uska jo buniyadi sanvedan hai, vah lagatar uske bahar aur uske viruddh bhi jata raha. Vah shayad ekmatr aise vyakti hain, unke jivan ka, unke kavi ka vikas is tarah se hua. Pahle vah chitrkar the ya unhonne diksha chitrkarm mein li. ’ usmen bhi lagatar unki drishti bimbvadi-drishti rahi aur kavya mein unka bal is paksh par raha. Unke priy kavi bhi aise hi rahe hain. Isse kabhi mukt hona na unhonne chaha, na vah hue. Hum chahen to unhen rumani aur bimbvadi kavi bhi kah sakte hain, kabhi iske bahar vah nahin ge. Mera khayal hai ki unke chitron aur unki kavitaon mein barabar sambandh raha hai. Aur us star ko unke ghoshit rajniti vishvas ne kabhi chhua hi nahin. Agar unse puchha jata ki aap rajniti mein kis dal ke saath hain, to vah kahte ki main pragativadiyon ke saath hun. Ab aap iska jo arth chahen laga sakte hain. Ise vibhajit vyaktitv main tab kahta jabaki unki chetna mein uska asar hota. Usmen bhi do khand ho jate. Vaisa shayad hua nahin. Shamsher to pahli baar vahan (‘tar-saptak’ men) rakhe bhi ge the, phir unko dusre ke liye rakh liya gaya, kyonki unki kavitayen bahut kam mil pai thin. Do-ek petiyan bharkar kavitayen to unke paas padi hongi, lekin khud unko apni khabar nahin thi. Jab ye kaam hua to unhen laya ja saka. —agyey

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products