Ek Saa Sangit

Regular price Rs. 372
Sale price Rs. 372 Regular price Rs. 401
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Ek Saa Sangit

Ek Saa Sangit

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

विक्रम सेठ अपनी अनूठी शैली के लेखक हैं। उनकी किसी भी पुस्तक में किसी क़िस्म का दोहराव नहीं होता, फिर भी उनकी प्रत्येक कृति पर उनकी अपनी पहचान अंकित होती है। कुछ आलोचक इस पहचान को ‘जीवन की अचूक साँस’ तो कुछ उसे ‘अनुल्लंघनीय सच्चाई’ कहते हैं।
‘ए सूटेबुल ब्वाय’ के बाद उनका यह पहला उपन्यास है जिसमें वे एक सघन और संवेदनशील कहानी लेकर आए हैं। इस कहानी में संगीत है, कला है, हास्य है और गुरु-गम्भीर अहसास भी। एक स्तर पर यह कहानी प्यार के बारे में है—एक स्त्री का प्यार जो मिलकर खो जाती है, फिर मिलती है और फिर खो जाती है। विक्रम सेठ इस उपन्यास में पुनः जीवन के विभ्रम की रचना करते हैं। और सबसे ऊपर यह पुस्तक संगीत के बारे में है और इस बारे में कि कैसे संगीत का प्यार जीवन के बीचोबीच एक घनीभूत धारा की तरह प्रवहमान रहता है।
तीखे दु:ख और दीप्तिमान मेधा की पुनरावृत्तियों के द्वारा यह उपन्यास विक्रम सेठ के लेखकीय व्यक्तित्व का एक अलग ही पहलू पाठक के सम्मुख खोलता है। Vikram seth apni anuthi shaili ke lekhak hain. Unki kisi bhi pustak mein kisi qism ka dohrav nahin hota, phir bhi unki pratyek kriti par unki apni pahchan ankit hoti hai. Kuchh aalochak is pahchan ko ‘jivan ki achuk sans’ to kuchh use ‘anullanghniy sachchai’ kahte hain. ‘e sutebul bvay’ ke baad unka ye pahla upanyas hai jismen ve ek saghan aur sanvedanshil kahani lekar aae hain. Is kahani mein sangit hai, kala hai, hasya hai aur guru-gambhir ahsas bhi. Ek star par ye kahani pyar ke bare mein hai—ek stri ka pyar jo milkar kho jati hai, phir milti hai aur phir kho jati hai. Vikram seth is upanyas mein punः jivan ke vibhram ki rachna karte hain. Aur sabse uupar ye pustak sangit ke bare mein hai aur is bare mein ki kaise sangit ka pyar jivan ke bichobich ek ghanibhut dhara ki tarah pravahman rahta hai.
Tikhe du:kha aur diptiman medha ki punravrittiyon ke dvara ye upanyas vikram seth ke lekhkiy vyaktitv ka ek alag hi pahlu pathak ke sammukh kholta hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products