BackBack
-11%

Ek Mat Kayamat

Rs. 595 Rs. 530

भारत-पाक विभाजन एक ऐसी त्रासदी है जिसकी भीषणता और भारतीय जन-जीवन पर पड़े उसके प्रभाव को न तो देश के एक बड़े हिस्से ने महसूस किया और न साहित्य में ही उसे उतना महत्त्व दिया गया जितना दिया जाना चाहिए था। देश की आज़ादी और विभाजन को अब सत्तर साल... Read More

BlackBlack
Description

भारत-पाक विभाजन एक ऐसी त्रासदी है जिसकी भीषणता और भारतीय जन-जीवन पर पड़े उसके प्रभाव को न तो देश के एक बड़े हिस्से ने महसूस किया और न साहित्य में ही उसे उतना महत्त्व दिया गया जितना दिया जाना चाहिए था। देश की आज़ादी और विभाजन को अब सत्तर साल हो रहे हैं; फिर भी ढूँढ़ने चलें तो कम से कम कथा-साहित्य में हमें ऐसा बहुत कुछ नहीं मिलता जिससे इतिहास के उस अध्याय को महसूस किया जा सके।
यह आत्मवृत्त इस मायने में महत्त्वपूर्ण है कि इसमें उस वक़्त विभाजन को याद किया जा रहा है जब देश में धार्मिक और साम्प्रदायिक आधारों पर समाज को बाँटने की प्रक्रिया कहीं ज्‍़यादा आक्रामक और निर्द्वन्द्व इरादों के साथ चलाई जा रही है। पाकिस्तान को एक पड़ोसी देश के बजाय जनमानस में एक स्थायी शत्रु के रूप में स्थापित किया जा रहा है; और सामाजिक समरसता को गृहयुद्ध की व्याकुलता के सामने हीन साबित किया जा रहा है। इस उपन्यास का प्रथम पुरुष मृत्युशैया पर आख़‍िरी पल की प्रतीक्षा करते हुए सहज ही उन दिनों की यात्रा पर निकल जाता है जब लाखों लोग अचानक अपने ही घरों और ज़मीनों पर विदेशी घोषित कर दिए गए थे, और उन्हें नए सिरे से ‘अपना मुल्क’ ढूँढ़ने के लिए ख़ून के दरिया में धकेल दिया गया था।
उम्मीद है कि इस पुस्तक में आया विभाजन का वृत्तान्‍त हमें उस ख़तरे से आगाह करेगा जिसकी तरफ़ आज की फूहड़ राजनीति हमे ले जाने की कोशिश कर रही है। Bharat-pak vibhajan ek aisi trasdi hai jiski bhishanta aur bhartiy jan-jivan par pade uske prbhav ko na to desh ke ek bade hisse ne mahsus kiya aur na sahitya mein hi use utna mahattv diya gaya jitna diya jana chahiye tha. Desh ki aazadi aur vibhajan ko ab sattar saal ho rahe hain; phir bhi dhundhane chalen to kam se kam katha-sahitya mein hamein aisa bahut kuchh nahin milta jisse itihas ke us adhyay ko mahsus kiya ja sake. Ye aatmvritt is mayne mein mahattvpurn hai ki ismen us vakt vibhajan ko yaad kiya ja raha hai jab desh mein dharmik aur samprdayik aadharon par samaj ko bantane ki prakriya kahin ‍yada aakramak aur nirdvandv iradon ke saath chalai ja rahi hai. Pakistan ko ek padosi desh ke bajay janmanas mein ek sthayi shatru ke rup mein sthapit kiya ja raha hai; aur samajik samarasta ko grihyuddh ki vyakulta ke samne hin sabit kiya ja raha hai. Is upanyas ka prtham purush mrityushaiya par aakh‍iri pal ki prtiksha karte hue sahaj hi un dinon ki yatra par nikal jata hai jab lakhon log achanak apne hi gharon aur zaminon par videshi ghoshit kar diye ge the, aur unhen ne sire se ‘apna mulk’ dhundhane ke liye khun ke dariya mein dhakel diya gaya tha.
Ummid hai ki is pustak mein aaya vibhajan ka vrittan‍ta hamein us khatre se aagah karega jiski taraf aaj ki phuhad rajniti hame le jane ki koshish kar rahi hai.