BackBack
-11%

Ek Ladka Milane Aata Hai

Rs. 150 Rs. 134

संजय कुमार ‘कुन्दन’ की शायरी किसी भी रूप में जब मेरे सामने आई तो मुझे यह समझने में बड़ी दुश्वारी हुई कि वे शायरी के हवाले से दिल पर बीतनेवाली वारदात का ज़िक्र कर रहे हैं या ये तमाम वारदातें तहरीर की शक्ल में संजय कुमार ‘कुन्दन’ को ख़ुद लिख... Read More

BlackBlack
Description

संजय कुमार ‘कुन्दन’ की शायरी किसी भी रूप में जब मेरे सामने आई तो मुझे यह समझने में बड़ी दुश्वारी हुई कि वे शायरी के हवाले से दिल पर बीतनेवाली वारदात का ज़िक्र कर रहे हैं या ये तमाम वारदातें तहरीर की शक्ल में संजय कुमार ‘कुन्दन’ को ख़ुद लिख रही हैं। ये वो सच्ची शायरी है जिसे समझने के लिए आपको दिल के आँगन में उतरना नहीं पड़ता, बल्कि दिल की पहली सतह पर ये अपनी जगह बनाती हैं, जबकि अपनी शायरी के ऐब को छुपाने के लिए लोग तरह-तरह के रंगो-रोग़न का इस्तेमाल करते हैं। चाहे ‘एक लड़का मिलने आता है...’, ‘उसको भी डर है’, ‘ख़याल कोई क़र्ज़ है’ हो या ‘तस्वीर’ ऐसा लगता है जैसे उन्होंने शब्दों के सहारे उन तमाम कैफ़ियतों की तस्वीर पेश कर दी है जहाँ बड़े-बड़े चित्रकार नाकाम होने पर उसे ऐब्सट्रैक्ट आर्ट का नाम दे दिया करते हैं। और शायरी इतनी आसान, इतनी सहज लेकिन दिल को काट देनेवाली है कि इसकी चुभन को हम भुला नहीं पाते।
‘एक लड़का मिलने आता है...’ में ‘नींद की बदगुमानी’, ‘हाथों में लम्स की ठंडक’, ‘शाम की ख़ुशबू’, ‘खिलखिलाहट का बचपन’, ‘रोशनी की धड़कन पर सियाही का ख़ौफ़नाक हमला’ और ‘लरज़ते काँपते क़दमों की आहट’ ही नहीं है, बल्कि ‘महीन खद्दरों में क़ैद बड़े-बड़े तोंद की क़लम से लिखी कहानियों को जलाकर ख़ाक कर देने’ का अज़्म, ‘कारख़ाने के वहशी तगो-दौ में राख में दबी हुई आग की किरचियों को कुदेरने’ की मशक़्क्त और ‘कितने शहरों, कितने बाग़ों, कितनी मिट्टी से होकर गुज़रने वाले आवारा लम्हों’ का कर्ब भी शामिल है। ऐसा महसूस होता है शायरी संजय कुमार ‘कुन्दन’ की महबूबा है जिसने ज़िन्दगी के इस लम्बे, वीरान और डगमगाते हुए क़दमों पर उसे और उसके पढ़नेवालों को सहारा दिया है। मुस्तकिल तरक़्क़ी की मंज़िलों को तय कर रही इस शायरी की नज़र एक शेर :
‘न थक के बैठ कि तेरी उड़ान बाक़ी
है ज़मीन ख़त्म हुई, आस्मान बाक़ी है।’
—शानुर्रहमान Sanjay kumar ‘kundan’ ki shayri kisi bhi rup mein jab mere samne aai to mujhe ye samajhne mein badi dushvari hui ki ve shayri ke havale se dil par bitnevali vardat ka zikr kar rahe hain ya ye tamam vardaten tahrir ki shakl mein sanjay kumar ‘kundan’ ko khud likh rahi hain. Ye vo sachchi shayri hai jise samajhne ke liye aapko dil ke aangan mein utarna nahin padta, balki dil ki pahli satah par ye apni jagah banati hain, jabaki apni shayri ke aib ko chhupane ke liye log tarah-tarah ke rango-rogan ka istemal karte hain. Chahe ‘ek ladka milne aata hai. . . ’, ‘usko bhi dar hai’, ‘khayal koi qarz hai’ ho ya ‘tasvir’ aisa lagta hai jaise unhonne shabdon ke sahare un tamam kaifiyton ki tasvir pesh kar di hai jahan bade-bade chitrkar nakam hone par use aibsatraikt aart ka naam de diya karte hain. Aur shayri itni aasan, itni sahaj lekin dil ko kaat denevali hai ki iski chubhan ko hum bhula nahin pate. ‘ek ladka milne aata hai. . . ’ mein ‘nind ki badagumani’, ‘hathon mein lams ki thandak’, ‘sham ki khushbu’, ‘khilakhilahat ka bachpan’, ‘roshni ki dhadkan par siyahi ka khaufnak hamla’ aur ‘larazte kanpate qadmon ki aahat’ hi nahin hai, balki ‘mahin khaddron mein qaid bade-bade tond ki qalam se likhi kahaniyon ko jalakar khak kar dene’ ka azm, ‘karkhane ke vahshi tago-dau mein rakh mein dabi hui aag ki kirachiyon ko kuderne’ ki mashaqkt aur ‘kitne shahron, kitne bagon, kitni mitti se hokar guzarne vale aavara lamhon’ ka karb bhi shamil hai. Aisa mahsus hota hai shayri sanjay kumar ‘kundan’ ki mahbuba hai jisne zindagi ke is lambe, viran aur dagamgate hue qadmon par use aur uske padhnevalon ko sahara diya hai. Mustkil taraqqi ki manzilon ko tay kar rahi is shayri ki nazar ek sher :
‘na thak ke baith ki teri udan baqi
Hai zamin khatm hui, aasman baqi hai. ’
—shanurrahman