Look Inside
Ek Kasbe Ke Notes
Ek Kasbe Ke Notes
Ek Kasbe Ke Notes
Ek Kasbe Ke Notes
Ek Kasbe Ke Notes
Ek Kasbe Ke Notes

Ek Kasbe Ke Notes

Regular price Rs. 326
Sale price Rs. 326 Regular price Rs. 350
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Ek Kasbe Ke Notes

Ek Kasbe Ke Notes

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

नीलेश रघुवंशी की एक उपलब्धि यह है कि उसने एक ऐसे कथानक को, जिसमें भावनिकता के भयावह अवसर थे, एक निर्मम ढंग से यथार्थवादी रखा है जिसमें हास-परिहास के लिए भी गुंजाइश है। परिवार में माँ है लेकिन वह हमेशा ममतामयी और पतिपरायणा नहीं है, उसमें छिपी विद्रोहिणी कभी भी जागृत हो सकती है। इकलौता बेटा मुँहफट और दुर्विनीत है। अलग-अलग उम्रों, स्वभावों और नियतियों वाली बेटियाँ हैं लेकिन उनमें एक बराबरी का बहनापा है। उनके अपने-अपने कुँवारे और ब्याहता सपने हैं। उनकी जद्दोजहद, छोटी-बड़ी दुखान्तिकाएँ और जीवन-परिवर्तक उपलब्धियाँ भी हैं। क्या भारत सरीखे जटिल समाज में ‘फेमिनिस्ट’ सरीखे सीमित और भ्रामक शब्द की जगह ‘एक क़स्बे के नोट्स’ को हम ‘मातृवादी’ या ‘बेटीवादी’ या ‘बहनापावादी’ कह सकते हैं? और यदि पिता को लेकर इतनी समझदारी और स्नेह है तो ‘पितावादी’ भी क्यों नहीं?
शायद यह हिन्दी का पहला उपन्यास है जिसमें किसी लेखिका ने एक निम्न-मध्यवर्गीय क़स्बाई पारिवारिक जीवन को इतनी अन्तरंगता और असलियत से जीवन्त किया हो। प्रतिभा के लिए सृजन में तो कुछ भी असम्भव नहीं, किन्तु किसी पुरुष के लिए ऐसे घर-परिवार का इतना अन्दरूनी अनुभव मुश्किल ही था।
सच तो यह लगता है कि लेखिका ने इस एक क़स्बे के बहाने लगभग सभी उत्तर भारतीय क़स्बों को चेहरा दे दिया है। हम सब यदि (अब) छोटे शहरों में नहीं भी रहते हैं तो कभी-न-कभी उनमें हमारी बूद-ओ-बाश थी, वहाँ से गुज़रते, लौटते रहते हैं, हमारे कितनी ही दोस्तियाँ और रिश्ते, और सबसे ऊपर, स्मृतियाँ, अब भी वहीं बसी हुई हैं। हिन्दी लेखन से एक झटके से क़स्बा काट दो, वह हलाल हो जाएगा। नीलेश रघुवंशी ने बेशक अपने क़स्बे को सजीव पात्रों से आबाद किया है लेकिन उसमें हरकत और जान तभी आती है जब सारे क़स्बाई दृश्य, ध्वनियाँ, रंग, गंध, स्पर्श और वे मौसम और धूल-धूसर जो सिर्फ़ क़स्बों में नसीब होते हैं, उस अलबम को मूक सीपियाँ से परदे के वाचाल रंगीन में बदल देते हैं। टेलीविज़न पर अपने लम्बे अनुभव के कारण लेखिका अपना शिल्प नियंत्रित रखना जानती है, और पठनीयता के स्तर पर पिछले कुछ वर्षों में ऐसे उपन्यासों का दुर्भिक्ष-सा रहा है।
—विष्णु खरे Nilesh raghuvanshi ki ek uplabdhi ye hai ki usne ek aise kathanak ko, jismen bhavanikta ke bhayavah avsar the, ek nirmam dhang se yatharthvadi rakha hai jismen has-parihas ke liye bhi gunjaish hai. Parivar mein man hai lekin vah hamesha mamtamyi aur patiprayna nahin hai, usmen chhipi vidrohini kabhi bhi jagrit ho sakti hai. Iklauta beta munhaphat aur durvinit hai. Alag-alag umron, svbhavon aur niyatiyon vali betiyan hain lekin unmen ek barabri ka bahnapa hai. Unke apne-apne kunvare aur byahta sapne hain. Unki jaddojhad, chhoti-badi dukhantikayen aur jivan-parivartak uplabdhiyan bhi hain. Kya bharat sarikhe jatil samaj mein ‘pheminist’ sarikhe simit aur bhramak shabd ki jagah ‘ek qasbe ke nots’ ko hum ‘matrivadi’ ya ‘betivadi’ ya ‘bahnapavadi’ kah sakte hain? aur yadi pita ko lekar itni samajhdari aur sneh hai to ‘pitavadi’ bhi kyon nahin?Shayad ye hindi ka pahla upanyas hai jismen kisi lekhika ne ek nimn-madhyvargiy qasbai parivarik jivan ko itni antrangta aur asaliyat se jivant kiya ho. Pratibha ke liye srijan mein to kuchh bhi asambhav nahin, kintu kisi purush ke liye aise ghar-parivar ka itna andruni anubhav mushkil hi tha.
Sach to ye lagta hai ki lekhika ne is ek qasbe ke bahane lagbhag sabhi uttar bhartiy qasbon ko chehra de diya hai. Hum sab yadi (ab) chhote shahron mein nahin bhi rahte hain to kabhi-na-kabhi unmen hamari bud-o-bash thi, vahan se guzarte, lautte rahte hain, hamare kitni hi dostiyan aur rishte, aur sabse uupar, smritiyan, ab bhi vahin basi hui hain. Hindi lekhan se ek jhatke se qasba kaat do, vah halal ho jayega. Nilesh raghuvanshi ne beshak apne qasbe ko sajiv patron se aabad kiya hai lekin usmen harkat aur jaan tabhi aati hai jab sare qasbai drishya, dhvaniyan, rang, gandh, sparsh aur ve mausam aur dhul-dhusar jo sirf qasbon mein nasib hote hain, us albam ko muk sipiyan se parde ke vachal rangin mein badal dete hain. Telivizan par apne lambe anubhav ke karan lekhika apna shilp niyantrit rakhna janti hai, aur pathniyta ke star par pichhle kuchh varshon mein aise upanyason ka durbhiksh-sa raha hai.
—vishnu khare

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products