Look Inside
Ek Duniya : Samanantar
Ek Duniya : Samanantar

Ek Duniya : Samanantar

Regular price Rs. 832
Sale price Rs. 832 Regular price Rs. 895
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Ek Duniya : Samanantar Rajkamal

Ek Duniya : Samanantar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

आधुनिक साहित्य की सबसे अधिक सशक्त, जीवन्त और महत्त्वपूर्ण साहित्य विधा—कहानी—को लेकर इधर जो विवाद, हलचलें, प्रश्न, जिज्ञासाएँ और गोष्ठियाँ हुई हैं, उन सभी में कला-साहित्य के नए-पुराने सवालों को बार-बार उठाया गया है। कथाकार राजेन्द्र यादव ने पहली बार कहानी के मूलभूत और सामयिक प्रश्नों को साहस और व्यापक अन्तर्दृष्टि के साथ खुलकर सामने रखा है, देशी-विदेशी कहानियों के परिप्रेक्ष्य में उन पर विचार और उनका निर्भीक विवेचन किया है। कइयों की अप्रसन्नता और समर्थन की चिन्ता से मुक्त, यह गम्भीर विश्लेषण जितना तीखा है, उतना ही महत्त्वपूर्ण भी।
लेकिन उन कहानियों के बिना यह सारा विश्लेषण अधूरा रहता जिनका ज़िक्र समीक्षक, लेखक, सम्पादक, पाठक बार-बार करते रहे हैं; और जिनसे आज की कहानी का धरातल बना है।
निर्विवाद रूप से यह स्वातंत्र्योत्तर हिन्दी-कहानी का बेजोड़ संकलन और प्रामाणिक ‘हैंड-बुक’ है। यह सिर्फ़ कुछ कहानियों का ढेर या बंडल नहीं है, बल्कि इनके चुनाव के पीछे एक विशेष जागरूक दृष्टि और कलात्मक आग्रह है।
इसीलिए आज की सम्पूर्ण रचनात्मक चेतना को समझने के लिए ‘एक दुनिया : समानान्तर’ अपरिहार्य और अनुपेक्षणीय संकलन है, ऐतिहासिक और समकालीन लेखन का प्रतिनिधि सन्दर्भ ग्रन्थ...
‘एक दुनिया : समानान्तर’ की भूमिका ने कथा-समीक्षा में भीषण उथल-पुथल मचाई है, मूल्यांकन को नए धरातल दिए हैं। यह समीक्षा अपने आप में हिन्दी के विचार-साहित्य की एक उपलब्धि है।
यह नया संस्करण इसकी लोकप्रियता का प्रमाण है। Aadhunik sahitya ki sabse adhik sashakt, jivant aur mahattvpurn sahitya vidha—kahani—ko lekar idhar jo vivad, halachlen, prashn, jigyasayen aur goshthiyan hui hain, un sabhi mein kala-sahitya ke ne-purane savalon ko bar-bar uthaya gaya hai. Kathakar rajendr yadav ne pahli baar kahani ke mulbhut aur samyik prashnon ko sahas aur vyapak antardrishti ke saath khulkar samne rakha hai, deshi-videshi kahaniyon ke pariprekshya mein un par vichar aur unka nirbhik vivechan kiya hai. Kaiyon ki aprsannta aur samarthan ki chinta se mukt, ye gambhir vishleshan jitna tikha hai, utna hi mahattvpurn bhi. Lekin un kahaniyon ke bina ye sara vishleshan adhura rahta jinka zikr samikshak, lekhak, sampadak, pathak bar-bar karte rahe hain; aur jinse aaj ki kahani ka dharatal bana hai.
Nirvivad rup se ye svatantryottar hindi-kahani ka bejod sanklan aur pramanik ‘haind-buk’ hai. Ye sirf kuchh kahaniyon ka dher ya bandal nahin hai, balki inke chunav ke pichhe ek vishesh jagruk drishti aur kalatmak aagrah hai.
Isiliye aaj ki sampurn rachnatmak chetna ko samajhne ke liye ‘ek duniya : samanantar’ apariharya aur anupekshniy sanklan hai, aitihasik aur samkalin lekhan ka pratinidhi sandarbh granth. . .
‘ek duniya : samanantar’ ki bhumika ne katha-samiksha mein bhishan uthal-puthal machai hai, mulyankan ko ne dharatal diye hain. Ye samiksha apne aap mein hindi ke vichar-sahitya ki ek uplabdhi hai.
Ye naya sanskran iski lokapriyta ka prman hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products