BackBack
-11%

Ek Bechain Ka Roznamcha

Rs. 150 Rs. 134

विधा चाहे कोई भी हो—गद्य, पद्य, नाटक, या निबन्ध—पैसोआ का प्रधान उद्देश्य हमेशा अपनी पहचान की खोज में भटकते मनुष्य की वेदना और द्वन्द्व को प्रकट करना रहता है। स्वभाव से अन्तर्मुखी पैसोआ किसी एक विचार और उसके विपरीत के बीच टकराते रहते थे। वे सभी सच्चाइयों की सापेक्षता पर... Read More

BlackBlack
Vendor: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Diary
Description

विधा चाहे कोई भी हो—गद्य, पद्य, नाटक, या निबन्ध—पैसोआ का प्रधान उद्देश्य हमेशा अपनी पहचान की खोज में भटकते मनुष्य की वेदना और द्वन्द्व को प्रकट करना रहता है। स्वभाव से अन्तर्मुखी पैसोआ किसी एक विचार और उसके विपरीत के बीच टकराते रहते थे। वे सभी सच्चाइयों की सापेक्षता पर भी ज़ोर देते थे। उनके सबसे पहले अनुवादक जोनाथन ग्रिफिन ने उन्हें ‘एक निष्पक्ष अन्तर्मुखी’ कहा है। वे ‘कला के लिए कला’ सिद्धान्त के समर्थक थे किन्तु साथ में इस बात में भी पूरा विश्वास करने लगे थे कि कलाकार को बिना आत्मनिर्भर हुए समकालीन विचारों को प्रकट करना चाहिए। इस तरह उनकी राय में सबसे बड़ा कलाकार वह होता है जो अपने सम्बन्धों को सबसे कम महत्त्व देता हो, अधिकतम साहित्यिक विधाओं में लिखता हो, और जिसके अनेक व्यक्तित्व हों।
फरनान्दो पैसोआ की मृत्यु के बाद उनके कमरे में लकड़ी की एक बड़ी-सी सन्दूक पाई गई, जो सीलबन्द लिफ़ाफ़ों से खचाखच भरी थी। इन लिफ़ाफ़ों में पैसोआ ने अपनी कविताएँ, नाटक, गद्य, सौन्दर्यशास्त्र पर लेख, साहित्यिक समालोचना, दर्शन पर निबन्ध तथा अप्रकाशित दैनिकी की मूल पांडुलिपियाँ जमा कर रखी थीं। इसी सामग्री से 1991 में एक पुस्तक तैयार की गई—‘दि बुक ऑव डिस्क्वाएट्यूड’। एक बेहद बेचैन, जीवन से विरक्त नौजवान के देखे हुए सपनों के वर्णन और उसके स्फुट विचारों का संग्रह। ‘एक बेचैन का रोज़नामचा’ इन्हीं अंशात्मक रचनाओं के प्रकाशित संग्रह में से संकलित किया गया है। अत्यधिक अस्त-व्यस्त रूप में पाई गई इन रचनाओं का नायक है बैरनार्दो सुआरैश जो फरनान्दो के बहत्तर नामों में से एक है। सुआरैश समय बिताने या जीवन से दूर भागने के लिए सपने नहीं देखता। वह सपने देखता है उस वस्तु को पाने के लिए जिसकी उसके जीवन में कमी है। इन सपनों की वास्तविकता से वह अपनी कला का निर्माण करता है जो उसका स्थायी आश्रय है, और जहाँ से परिस्थितियाँ अनुकूल होने पर वह फिर यथार्थ में लौटता है। Vidha chahe koi bhi ho—gadya, padya, natak, ya nibandh—paisoa ka prdhan uddeshya hamesha apni pahchan ki khoj mein bhatakte manushya ki vedna aur dvandv ko prkat karna rahta hai. Svbhav se antarmukhi paisoa kisi ek vichar aur uske viprit ke bich takrate rahte the. Ve sabhi sachchaiyon ki sapekshta par bhi zor dete the. Unke sabse pahle anuvadak jonathan griphin ne unhen ‘ek nishpaksh antarmukhi’ kaha hai. Ve ‘kala ke liye kala’ siddhant ke samarthak the kintu saath mein is baat mein bhi pura vishvas karne lage the ki kalakar ko bina aatmnirbhar hue samkalin vicharon ko prkat karna chahiye. Is tarah unki raay mein sabse bada kalakar vah hota hai jo apne sambandhon ko sabse kam mahattv deta ho, adhiktam sahityik vidhaon mein likhta ho, aur jiske anek vyaktitv hon. Pharnando paisoa ki mrityu ke baad unke kamre mein lakdi ki ek badi-si sanduk pai gai, jo silband lifafon se khachakhach bhari thi. In lifafon mein paisoa ne apni kavitayen, natak, gadya, saundaryshastr par lekh, sahityik samalochna, darshan par nibandh tatha aprkashit dainiki ki mul pandulipiyan jama kar rakhi thin. Isi samagri se 1991 mein ek pustak taiyar ki gai—‘di buk auv diskvayetyud’. Ek behad bechain, jivan se virakt naujvan ke dekhe hue sapnon ke varnan aur uske sphut vicharon ka sangrah. ‘ek bechain ka roznamcha’ inhin anshatmak rachnaon ke prkashit sangrah mein se sanklit kiya gaya hai. Atydhik ast-vyast rup mein pai gai in rachnaon ka nayak hai bairnardo suaraish jo pharnando ke bahattar namon mein se ek hai. Suaraish samay bitane ya jivan se dur bhagne ke liye sapne nahin dekhta. Vah sapne dekhta hai us vastu ko pane ke liye jiski uske jivan mein kami hai. In sapnon ki vastavikta se vah apni kala ka nirman karta hai jo uska sthayi aashray hai, aur jahan se paristhitiyan anukul hone par vah phir yatharth mein lautta hai.