Ek Aurat Ki Note Book

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Ek Aurat Ki Note Book

Ek Aurat Ki Note Book

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘एक औरत की नोटबुक’ नारीवाद के एक महत्त्वपूर्ण सूत्र ‘द पर्सनल इज़ पॉलिटिकल’ (The Personal is Political) को वाणी देती है—जहाँ स्त्री के वैयक्तिक यथार्थ का विस्तार समाज की नीतिसम्मत सत्ता से जा जुड़ता है।
इस पुस्तक के आलेख अगर पुरुष वर्चस्व और स्त्री सशक्तीकरण के चिन्तन को अपना विषय बनाते हुए स्त्री को उसके ‘क्लोज़ेट’ (बन्द कमरे) से बाहर लाने का प्रयास करते हैं तो इसकी कहानियाँ उस ‘क्लोज़ेट’ के अन्दर डरी-सहमी बैठी स्त्री की त्रासद दशा का जीवन्त प्रस्तुतिकरण करती हैं—सुधा अरोड़ा के एक्टिविस्ट सरोकार के साथ उनकी सृजनात्मक प्रतिभा को प्रदर्शित करती हुई।
—डॉ. दीपक शर्मा
यह किताब एक सामाजिक दायित्व को निभाती है। जो लेखिका पिछले पैंतालीस वर्षों से निरन्तर लिख रही हो, जिसका लेखन-स्तर अपनी स्तरीयता से कभी डिगा न हो, जिसकी क़लम की धार समय के साथ-साथ पैनी होती गई हो, और कहानियाँ लिखने के अतिरिक्त जिसकी सामाजिक चेतना और सामाजिक समझ ने उसे ज़मीनी सामाजिक कार्यों से जोड़ रखा हो, उसकी हर नई किताब अपना परिचय ख़ुद होती है।
—शालिनी माथुर
‘एक औरत की नोटबुक’ का जन्म सदियों की ख़ामोशी के टूटने की प्रक्रिया से होता है। ये वे आवाज़ें हैं जो इतिहास द्वारा युगों से दबाई जाती रही हैं। यह चुप्पी जब टूटती है तो इसकी दरारों से जो सच झाँकता है, वह हमारे समाज को नंगा करनेवाला है। इतिहास द्वारा इस ख़ामोशी के जाल को निर्मित करने की एक लम्बी सामाजिक-सांस्कृतिक प्रक्रिया है, जिसके द्वारा स्त्री-व्यवहार का अनुकूलन किया गया और इस प्रकार समाज के आधे तबक़े को मानवाधिकारों से वंचित किया गया। —सुनीता गुप्ता
चर्चित कथाकार और सामाजिक सरोकारों से जुड़ी सुधा अरोड़ा की पुस्तक—‘एक औरत की नोटबुक’ में धैर्य, संस्कार, विवशता की परतों के नीचे छुपी वे सच्चाइयाँ हैं जिनकी भोक्ता औरतें हैं। सुधा पहले कथाकार हैं फिर सक्रिय कार्यकर्ता, स्त्री-सरोकारों की पक्षधर। इसीलिए वे जहाँ भी जाती हैं, जो भी देखती हैं, उनका सृजनशील व्यक्तित्व हमेशा चौकस और सक्रिय रहता है। यही वजह है कि उनका विमर्श बोझिल और उबाऊ नहीं होता। वसुधा अरोड़ा कहानियाँ गढ़ती नहीं हैं, वे प्रामाणिक प्रसंगों को चुनती हैं और अपने पक्ष को मार्मिक बनाती हैं। याद यह भी रखना होगा कि मार्मिकता और भावुकता में बड़ा फ़र्क़ होता है, सुधा ने जहाँ अपना पक्ष रखते हुए अपने को भावुकता से बचाया है, वहीं यह किताब पाठक को वैचारिक उत्तेजना से आवेशित करती है।
—डॉ. प्रमोद त्रिवेदी ‘ek aurat ki notbuk’ narivad ke ek mahattvpurn sutr ‘da parsnal iz paulitikal’ (the personal is political) ko vani deti hai—jahan stri ke vaiyaktik yatharth ka vistar samaj ki nitisammat satta se ja judta hai. Is pustak ke aalekh agar purush varchasv aur stri sashaktikran ke chintan ko apna vishay banate hue stri ko uske ‘klozet’ (band kamre) se bahar lane ka pryas karte hain to iski kahaniyan us ‘klozet’ ke andar dari-sahmi baithi stri ki trasad dasha ka jivant prastutikran karti hain—sudha aroda ke ektivist sarokar ke saath unki srijnatmak pratibha ko prdarshit karti hui.
—dau. Dipak sharma
Ye kitab ek samajik dayitv ko nibhati hai. Jo lekhika pichhle paintalis varshon se nirantar likh rahi ho, jiska lekhan-star apni striyta se kabhi diga na ho, jiski qalam ki dhar samay ke sath-sath paini hoti gai ho, aur kahaniyan likhne ke atirikt jiski samajik chetna aur samajik samajh ne use zamini samajik karyon se jod rakha ho, uski har nai kitab apna parichay khud hoti hai.
—shalini mathur
‘ek aurat ki notbuk’ ka janm sadiyon ki khamoshi ke tutne ki prakriya se hota hai. Ye ve aavazen hain jo itihas dvara yugon se dabai jati rahi hain. Ye chuppi jab tutti hai to iski dararon se jo sach jhankata hai, vah hamare samaj ko nanga karnevala hai. Itihas dvara is khamoshi ke jaal ko nirmit karne ki ek lambi samajik-sanskritik prakriya hai, jiske dvara stri-vyavhar ka anukulan kiya gaya aur is prkar samaj ke aadhe tabqe ko manvadhikaron se vanchit kiya gaya. —sunita gupta
Charchit kathakar aur samajik sarokaron se judi sudha aroda ki pustak—‘ek aurat ki notbuk’ mein dhairya, sanskar, vivashta ki parton ke niche chhupi ve sachchaiyan hain jinki bhokta aurten hain. Sudha pahle kathakar hain phir sakriy karykarta, stri-sarokaron ki pakshdhar. Isiliye ve jahan bhi jati hain, jo bhi dekhti hain, unka srijanshil vyaktitv hamesha chaukas aur sakriy rahta hai. Yahi vajah hai ki unka vimarsh bojhil aur ubau nahin hota. Vasudha aroda kahaniyan gadhti nahin hain, ve pramanik prsangon ko chunti hain aur apne paksh ko marmik banati hain. Yaad ye bhi rakhna hoga ki marmikta aur bhavukta mein bada farq hota hai, sudha ne jahan apna paksh rakhte hue apne ko bhavukta se bachaya hai, vahin ye kitab pathak ko vaicharik uttejna se aaveshit karti hai.
—dau. Prmod trivedi

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products