BackBack
-11%

Ek Anam Kavi Ki Kavitayen

Rs. 400 Rs. 356

गद्य में जिस यथार्थ को उसके भौतिक विवरणों में अंकित किया जाता है, कविता उसे अक्सर उन बिम्बों से खोलती है जो उस यथार्थ को भोगते हुए मनुष्य के मन और जीवन में बूँद-बूँद संचित होते रहते हैं। यह जैसे सत्य को, उसकी सम्पूर्णता को दूसरे सिरे से पकड़ना है।... Read More

Description

गद्य में जिस यथार्थ को उसके भौतिक विवरणों में अंकित किया जाता है, कविता उसे अक्सर उन बिम्बों से खोलती है जो उस यथार्थ को भोगते हुए मनुष्य के मन और जीवन में बूँद-बूँद संचित होते रहते हैं। यह जैसे सत्य को, उसकी सम्पूर्णता को दूसरे सिरे से पकड़ना है। विषय यहाँ भी वही ठोस यथार्थ और उसकी छवियाँ हैं लेकिन कवि की कविता उसे सीधे न देखकर उसके उपोत्पादों के आइनों में रखकर जाँचती है। जो भाषा में, शब्दों में, विभिन्न अर्थ-परम्पराओं और अवधारणाओं में आकर एक अमूर्त लेकिन कहीं ज्‍़यादा प्रभावशाली सत्ता हासिल कर लेते हैं; मसलन—इस संग्रह की कविता 'कामयाबी’। यह कामयाब आदमी को नहीं उसके उस पद को सम्बोधित है जो उसने हासिल किया है—कामयाबी। यहीं से कवि उस पूरी सामाजिक प्रक्रिया को खोलता है जिसका अर्थ इस शब्द में समाहित होकर हमारी चेतना का हिस्सा हो जाता है। और हम उसे नैतिक-अनैतिक के परे एक मूल्य के रूप में धारण कर लेते हैं। इस संग्रह में और भी ऐसी अनेक कविताएँ हैं जो समाज से नहीं, उसके फ़लसफ़े को सम्बोधित हैं, जिसे हम पहले धीरे-धीरे रचते हैं और फिर उसके सहारे जीना शुरू कर देते हैं।
उसके बरक्स खड़ी है कविता जो कवि के अपने एकान्त, अपने मूल्यों और मनुष्यता की अपनी बड़ी परिभाषा के साथ सृष्टि को बचाने-बढ़ाने की चिन्ता में व्यस्त है। संयोग नहीं कि 'भाषा’, 'शब्द’ और 'कविता’ आदि शब्दों का प्रयोग यहाँ अनेक कविताओं में अनेक बार होता है। दरअसल यही वे हथियार हैं जो यथार्थ की अमूर्त व्याप्तियों का मुक़ाबला कर सकते हैं। 'शब्द की चमक और उसकी ताक़त का ख़याल/चारों ओर की बेचारगी में/एक विस्मय था/ताक़त का इकट्ठा होते जाना/लोग जान गए थे/और वे अपने बचाव में/छिप रहे थे/हालाँकि शब्द उन्हें बाहर निकलने के लिए/पूरी ताकत से दे रहे थे आवाज़।’
ये कविताएँ पाठक को अपने समय को एक अलग ढंग से समझने के उपकरण देंगी। Gadya mein jis yatharth ko uske bhautik vivarnon mein ankit kiya jata hai, kavita use aksar un bimbon se kholti hai jo us yatharth ko bhogte hue manushya ke man aur jivan mein bund-bund sanchit hote rahte hain. Ye jaise satya ko, uski sampurnta ko dusre sire se pakadna hai. Vishay yahan bhi vahi thos yatharth aur uski chhaviyan hain lekin kavi ki kavita use sidhe na dekhkar uske upotpadon ke aainon mein rakhkar janchati hai. Jo bhasha mein, shabdon mein, vibhinn arth-parampraon aur avdharnaon mein aakar ek amurt lekin kahin ‍yada prbhavshali satta hasil kar lete hain; maslan—is sangrah ki kavita kamyabi’. Ye kamyab aadmi ko nahin uske us pad ko sambodhit hai jo usne hasil kiya hai—kamyabi. Yahin se kavi us puri samajik prakriya ko kholta hai jiska arth is shabd mein samahit hokar hamari chetna ka hissa ho jata hai. Aur hum use naitik-anaitik ke pare ek mulya ke rup mein dharan kar lete hain. Is sangrah mein aur bhi aisi anek kavitayen hain jo samaj se nahin, uske falasfe ko sambodhit hain, jise hum pahle dhire-dhire rachte hain aur phir uske sahare jina shuru kar dete hain. Uske baraks khadi hai kavita jo kavi ke apne ekant, apne mulyon aur manushyta ki apni badi paribhasha ke saath srishti ko bachane-badhane ki chinta mein vyast hai. Sanyog nahin ki bhasha’, shabd’ aur kavita’ aadi shabdon ka pryog yahan anek kavitaon mein anek baar hota hai. Darasal yahi ve hathiyar hain jo yatharth ki amurt vyaptiyon ka muqabla kar sakte hain. Shabd ki chamak aur uski taqat ka khayal/charon or ki bechargi men/ek vismay tha/taqat ka ikattha hote jana/log jaan ge the/aur ve apne bachav men/chhip rahe the/halanki shabd unhen bahar nikalne ke liye/puri takat se de rahe the aavaz. ’
Ye kavitayen pathak ko apne samay ko ek alag dhang se samajhne ke upakran dengi.